Connect with us

Coronavirus

ऑक्सफ़ोर्ड की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल अमेरिका में रुका, आखिर क्या है इसके पीछे की वजह ?

Published

on

अमेरिका |ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआइ) ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को कारण बताओ नोटिस भेजा है। इस नोटिस में पूछा गया है कि आखिर क्‍यों ब्रिटेन की फार्मास्यूटिकल कंपनी एस्ट्राजेनेका की कोरोना वायरस वैक्‍सीन के ह्यूमन ट्रायल को भारत में नहीं रोका गया है, जबकि अन्‍य देशों में कंपनी ने इसका ट्रायल एक वालंटियर में अनपेक्षित बीमारी के लक्षण दिखने के बाद रोक दिया है।

बता दें कि फार्मास्यूटिकल कंपनी एस्ट्राजेनेका यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर कोविड के लिए वैक्सीन बना रही है। एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन दुनिया भर में कोरोना वैक्सीन बनाने की रेस में सबसे आगे चल रही है, लेकिन फिलहाल इसका ट्रायल कई देशों में रोक दिया गया है। डीसीजीआइ इसी बात से नाराज है कि अमेरिका, यूके, ब्राजील और साउथ अफ्रीका में वैक्सीन का फिलहाल ट्रायल रोक दिया गया है। इसके बावजूद सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने इस बात की सूचना सेंट्रल लाइसेंसिंग अथॉरिटी को नहीं दी और ना ही उस घटना की रिपोर्ट दी है।

वैक्‍सीन के ट्रायल को अन्‍य देशों में रोके जाने के बारे में जब सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से पूछा गया, तो उन्‍होंने कहा, ‘हम यूके के परीक्षणों पर ज्यादा टिप्पणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन उनके द्वारा आगे का कार्य रोक दिया गया है। हम जल्द ही फिर से शुरू होने की उम्मीद करते हैं। जहां तक भारतीय परीक्षणों का सवाल है, यह जारी है और हमें किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा है। इसके बावजूद अगर डीसीजीआइ को सुरक्षा संबंधित कुछ चिंताएं हैं, तो हम उनके निर्देशों का पालन करेंगे।’ अब डीसीजीआइ ने नोटिस भेजकर पूछा है कि जब तक मरीज की सुरक्षा पर सवाल है, तब तक आप को मिली क्लीनिकल ट्रायल की इजाजत क्यों ना निलंबित कर दी जाए? अब सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को इस नोटिस का जल्‍द से जल्‍द जवाब देना है।

Trending