Connect with us

दुनिया

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी गिरफ्तार, बेटे ने समर्थकों से की शांति की अपील

Published

on

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने सोमवार को फर्जी बैंक खातों के मामले में संघीय राजधानी से गिरफ्तार कर लिया। जरदारी की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के चेयरमैन और उनके बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी ने पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

अपील करने का विकल्प अब भी खुला

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) के जस्टिस अमीर फारूक और मोशीन अख्तर कयानी की अदालत ने जरदारी, जोकि पीपीपी के सह-अध्यक्ष हैं, को गिरफ्तार करने के आदेश दिए। अदालत ने जरदारी और उनकी बहन फरीयाल तालपुर की फर्जी बैंक खातों के मामले में अंतरिम जमानत बढ़ाने की अर्जी को खारिज कर दिया। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने एनएबी को जरदारी और तालपुर को गिरफ्तार करने की अनुमति सुरक्षा एजेंसियों को  देते हुए कहा कि उन दोनों के लिए सर्वोच्च न्यायालय में अपील करने का विकल्प अब भी खुला है।

अदालत में पेश किया जाएगा

इस्लामाबाद स्थित जरदारी के घर में काले रंग का एक वाहन देखा गया और माना जा रहा है कि उसमें पीपीपी के सह-अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी गिरफ्तारी के बाद बैठे हुए थे। यह मामला दो नेताओं की निजी कंपनियों को कथित रूप से फर्जी बैंक खातों के जरिए करोड़ों रुपये के लेनदेन से संबंधित है। जरदारी को ले जाने वाले वाहन ने पिछले दरवाजे से राजधानी के मेलोडी क्षेत्र में एनएबी कार्यालय में प्रवेश किया, जहां डॉक्टरों की एक टीम ने पहली बार उनका मेडिकल चेक-अप किया। पीपीपी नेता को कल रिमांड पर लेने के लिए अदालत में पेश किया जाएगा।

रास्तों को किया गया सील

इससे पहले एनएबी के अधिकारियों के एक दल ने आसिफ अली जरदारी के गिरफ्तारी वारंट के बारे में संसद भवन में नेशनल असेंबली के स्पीकर को सूचित किया । पूर्व राष्ट्रपति को गिरफ्तार करने के लिए इस्लामाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के बाद बड़ी संख्या में पुलिस के जवान और एनएबी के अधिकारी जरदारी हाउस पहुंचे, जबकि पुलिस ने गिरफ्तारी सुनिश्चित करने के लिए और उस स्थान से जाने वाले सभी मार्गों को सील कर दिया था।

पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी बोले

जरदारी की गिरफ्तारी के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने पत्रकारों को बताया कि गिरफ्तारी के दौरान कोई विरोध नहीं हुआ था और एनएबी के अधिकारियों को जरदारी हाउस में बिना रोक-टोक के  जाने दिया गया । जियो न्यूज ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि एनएबी को पूर्व राष्ट्रपति को लॉक-अप में रखने की उम्मीद थी। हालांकि, यह उम्मीद की जाती है कि एनएबी फरयाल तालपुर को हिरासत में नहीं लेगा। इससे पहले, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के नेता शहबाज शरीफ ने एनएबी अध्यक्ष, आसिद अली जरदारी के आदेश को प्रस्तुत करने का आग्रह किया था।
नेशनल असेंबली के नेता शरीफ ने कहा, “जरदारी ने हर मौके पर खुद को एनएबी के सामने पेश किया और देरी करने की रणनीति का इस्तेमाल नहीं किया। एनएबी को इसकी सराहना करनी चाहिए थी और गिरफ्तारी की जरूरत नहीं थी।

ये है पूरा मामला

यह मामला फर्जी बैंक अकाउंट के जरिये 4.4 अरब रुपये के संदिग्ध लेन-देन से जुड़ा हुआ है। अभियोजन पक्ष के मुताबिक यह अकाउंट ‘मेसर्स ए वन इंटरनेशनल’ के नाम से दर्ज है, जो कि फर्जी अकाउंट है। इस अकाउंट में 4.4 रुपये भेजे गए थे, जिनमें से तीन करोड़ रुपये जरदारी ग्रुप को दो अलग-अलग वक्त पर भेजे गए थे। https://www.kanvkanv.com
Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दुनिया

डोनाल्ड ट्रम्प ने व्हाइट हाउस की दूसरी पारी के लिए औरलैंडो में बजाया बिगुल, बनाई ये रणनीति

Published

on

लॉस-एंजेल्स। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने औरलैंडो (फ़्लोरिडा) में अपने चाहने वालों और रिपब्लिकन मतदाताओं से भरे एक स्टेडियम में व्हाइट हाउस की दूसरी पारी के लिए विधिवत चुनावी बिगुल बजा दिया। अमेरिकी संविधान के तहत मौजूदा राष्ट्रपति को अपनी दूसरी पारी के लिए चुनाव मैदान में उतरने के अधिकार प्राप्त है।

लाखों आव्रजकों को देश से बाहर निकालना है

उन्होंने बीस हजार उत्साहित दर्शकों की मौजूदगी में कहा कि उनकी दूसरी पारी के एजेंडे में पहली प्राथमिकता अमेरिका में अवैध रूप से बसे लाखों आव्रजकों को देश से बाहर निकालना है। ट्रंप ने आगे कहा कि इमीग्रेशन कस्टम प्रवर्तन निदेशालय (आईसीई) को अभी से अपने काम में जुटना होगा। हालांकि आईसीई के कार्यवाहक निदेशक मार्क मोगन ने फंड की कमी, सीमा पर आव्रजन शिविरों में बिस्तरों की कमी और स्टाफ की कमी की ओर ध्यान आकृष्ट किया है।

अवैध आव्रजन को बनाया था अपने चुनाव अभियान का मुख्य मुद्दा

पियु रिसर्च के अनुसार अमेरिका में दस लाख अस्सी हजार अवैध आव्रजक हैं, जिन्हें देश से बाहर किए जाने के लिए समय-समय पर प्रयास किए गए हैं। इनमें से करीब चार लाख अवैध आव्रजक पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में निकाले गए थे। विदित हो कि ट्रम्प ने सन 2016  के राष्ट्रपति चुनाव में भी अवैध आव्रजन को अपने चुनाव अभियान का मुख्य मुद्दा बनाया था। इसके लिए मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाए जाने और अपेक्षित फंड के लिए दो बार फेडरल सरकार के कामकाज को ठप किया था। इस मुद्दे पर कांग्रेस की डेमोक्रेट बहुल प्रतिनिधि सभा आपत्ति जताती रही है और धन की मंजूरी देने कतराती रही है।।

ट्रम्प समर्थकों ने दावा

ट्रम्प ने पिछले राष्ट्रपति चुनाव 2016 में फ्लोरिडा में एतिहासिक जीत हासिल कर डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलरी क्लिंटन को परास्त किया था। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी राष्ट्रपति के दोनों चुनावों में इस बड़े राज्य से विजयी हुए थे। इतना ही नहीं रिपब्लिकन राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश ने भी फ्लोरिडा में जीत हासिल की थी। इस बीच ट्रम्प समर्थकों ने दावा किया है कि वह 17 राज्यों में बढ़त बनाए हुए हैं।  राष्ट्रपति ट्रम्प के विरुद्ध डेमोक्रेटिक पार्टी के अधिकृत उम्मीदवारी के लिए बीस संभावित प्रत्याशी मैदान में हैं। इनमें पूर्व उप राष्ट्रपति और मध्य मार्गी जोई बिडेन, समाजवादी बर्नी सैंडर्स, मैसाचुएट्स से हारवर्ड प्रोफेसर वारेन एलिज़ाबेथ, युवा और तेज़ तर्रार मेयर बूटिगेग तथा भारतीय मूल की कमला हैरिस मैदान में हैं।

26-27 जून को मियामी में हो रही है पहली बहस

संभावित डेमोक्रेट उम्मीदवारों को अपनी अधिकृत उम्मीदवारी के लिए डेमोक्रेट मतदाताओं के बीच घरेलू, विदेश और रक्षा नीति आदि पर अपनी श्रेष्ठता दिखानी होगी। इसके लिए पहली बहस 26-27 जून को मियामी में हो रही है। लेकिन न्यू कवीनपियाक यूनिवर्सिटी के एक सर्वे की मानें तो जोई बिडेन आज की तिथि में ट्रम्प की तुलना में नौ प्रतिशत अधिक अंकों के साथ आगे चल रहे हैं। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

दुनिया

तेल टैकरों पर हमले से तनाव, मिड ईस्ट में एक हजार सैनिक भेजेगा अमेरिका

Published

on

लॉस एंजेल्स। अमेरिका और ईरान के बीच मौजूदा तनाव ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। पेंटागन ने सोमवार को मिड ईस्ट में एक हज़ार अमेरिकी सैनिक भेजने की घोषणा की है। अमेरिकी सेंट्रल कमान की ओर से ओमान सागर में तेल टैकरों पर हुए हमले में ईरान का हाथ होने की आशंका को लेकर पेंटागन ने यह निर्णय लिया है।

कार्यवाहक रक्षा मंत्री पैट्रिक शहनान ने सोमवार को कहा कि यह निर्णय क्षेत्र में वायु, नौसेना और भूमिगत सुरक्षा के मद्देनजर लिया गया है। उन्होंने कहा कि उन्हें ईरान से किसी ख़तरे की आशंका नहीं है लेकिन अपने हितो की सुरक्षा के लिए सैनिक भेजे हैं।

नहीं लगेगा यूरेनियम भंडार पर अंकुश

उधर ईरान ने मंगलवार को कहा कि वह अपने यूरेनियम भंडार में वृद्धि करेगा। ईरान ने सन् 2015 में अमेरिका और पांच राष्ट्रों से यूरेनियम संवर्धन पर एक समझौता किया था। उस समय ईरान ने आश्वस्त किया था कि वह यूरेनियम संवर्धन नहीं करेगा। साथ ही उसने यह भी विश्वास दिलाया था कि वह 660 पौंड यूरेनियम से अधिक भंडारण नहीं करेगा। यह सीमा अगले गुरुवार को पूरी हो जाएगी। यह घोषणा ख़ुद ईरान आणविक ऊर्जा एजेंसी के प्रवक्ता बहरूज कमालवांडी ने की।  https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

दुनिया

इस राज्य में बना कानून, बलात्कार करने वाले को लगा दिए जाएंगे नपुंसक बनाने के इंजेक्शन

Published

on

अलबामा। अमेरिका के अलबामा राज्य में एक ऐसा कानून लागू किया गया है जिसके तहत बलात्कार के दोषियों को इंजेक्शन लगाकर नपुंसक बनाया जाएगा। यह जानकारी सोमवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

रिपोर्ट के मुताबिक, यह कानून राजनेताओं और प्रशासन की सहमति से बनाया गया है। इस कानून के तहत किसी शख्स पर 13 साल की कम उम्र की लड़की से बलात्कार का आरोप सिद्ध होने पर उसे नपुंसक बनाने वाला इंजेक्‍शन दिया जा सकता है या फिर ऐसी दवाएं भी पिलाई जा सकती हैं, जिससे वह नपुंसक बन जाए।

पैरोल पर जाना है तब भी लगाया जाएगा इंजेक्शन

इस इंजेक्शन का प्रभाव ताउम्र नहीं रहेगा, लेकिन‌ जब तक उसकी सजा की अवधि पूरी नहीं होती है, तब तक ऐसे किसी अपराध में संलिप्त होने की उसकी क्षमता ही छीन ली जाएगी। इस कानून के अनुसार अगर कोई दुष्कर्म का दोषी पैरोल पर जाने से पहले यह इंजेक्‍शन लगवाने से मना करता है तो उसे पैरोल पर बाहर नहीं जाने दिया जाएगा। उसे सजा पूरी होने तक जेल में रहना होगा।

दोषी ही नपुंसक बनाने वाला इंजेक्‍शन का उठाएगा खर्च

कानून में यह चौंकाने वाला प्रावधान है कि किसी दोषी को नपुंसक बनाने वाला इंजेक्‍शन का खर्च भी उसे ही उठाना होगा। हालांकि दोषी को इंजेक्शन लगाना है अथवा नहीं, इस पर अं‌तिम फैसला अदालत करेगी। दोषी इंजेक्‍शन नहीं लगवाने को लेकर अदालत में अपील भी दायर कर सकता है। लेकिन कानून के लागू हो जाने के बाद इसके क्रियान्यवन की भी तैयारी की जा रही है।

एसा करने वाला सातवां राज्य बना अलबामा

विदित हो कि अलबामा अमेरिका का सातवां राज्य है जिसने  दुष्कर्म के दोषियों के लिए रासायनिक सजा का प्रावधान किया है। इससे पहले अमेरिका के ही छह अन्य राज्यों में दोषियों को टैबलेट या इंजेक्‍शन से उनकी शारीरिक संबंध स्‍थापित करने की क्षमता को प्रभावित कर दिया जाता है। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
देश1 min ago

जब अठावले के भाषण पर मोदी-सोनिया व राहुल ने लगाए ठहाके, वीडियो देख आप भी नहीं रोक पाएंगे हंसी

देश14 mins ago

मासूमों की मौत के सवाल पर डिप्टी सीएम ने साधी चुप्पी, पत्रकारों से कहा- जा सकते हैं बाहर

मनोरंजन25 mins ago

पाक अभिनेत्री वीना मलिक और सानिया मिर्जा की तू-तू मैं-मैं, एक दूसरे पर छोड़े शब्दों के व्यंग्य बाण

Uncategorized39 mins ago

12 घण्टे में इंसेफेलाइटिस के 26 मरीज हुए भर्ती, 3 मरीजों की मौत, 11 की हालत गंभीर

मनोरंजन52 mins ago

पूर्व मिस इंडिया ने सुनाई बदसलूकी की डरावनी कहानी, बोलीं-‘मैं वीडियो बना रही थी और वो…’देखें वीडियो

देश1 hour ago

सिख ऑटो चालक से मारपीट में CBI जांच की मांग को लेकर आज सुनवाई करेगा दिल्ली हाईकोर्ट

मनोरंजन1 hour ago

सलमान खान ने शेयर किया ये वीडियो, देखें कैसे जिम में बहा रहे पसीना, कैप्शन में लिखी ये बात

देश2 hours ago

राहुल गांधी की बड़ी कार्रवाई, कर्नाटक प्रदेश कमेटी को किया भंग, पढ़ें क्या बोले नेता

टेक्नोलॉजी2 hours ago

अब आपको शर्मिन्दा होने से बचाएगा WhatsApp, लॉन्च किया ये फीचर, ऐसे करेगा काम

हेल्थ2 hours ago

ज्यादा खुश और फिट रहने के लिए करें योग, और भी हैं फायदे

वीडियो2 hours ago

बिहार में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी, विपक्ष के नेता तेजस्वी देख रहे वर्ल्ड कप के मैच, देखें वीडियो

दुनिया3 hours ago

डोनाल्ड ट्रम्प ने व्हाइट हाउस की दूसरी पारी के लिए औरलैंडो में बजाया बिगुल, बनाई ये रणनीति

देश3 hours ago

नक्सलियों ने समाजवादी पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष की गला काटकर की हत्या, मौत की वजह बना ये कारण

राज्य3 hours ago

‘एक देश-एक चुनाव’ पर भड़कीं BSP सुप्रीमो मायावती, कहा- ये सिर्फ एक छलावा है

खेल3 hours ago

सोनाली बेंद्रे और दिया मिर्जा के साथ अफेयर को लेकर शोएब अख्तर ने तोड़ी चुप्पी, बताई सच्चाई

देश3 hours ago

TMC की बढ़ी मुश्किलें, ममता बनर्जी की बैठक में नहीं पहुंचे कई नगर पालिकाओं के पदाधिकारी

बिज़नेस4 hours ago

बाजार में खरीदारी हावी, सेंसेक्स ने लगाई ट्रिपल सेंचुरी

लाइफ स्टाइल4 hours ago

कन्या राशि वालों को आज सेहत के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता, जानें अपना राशिफल

राज्य3 weeks ago

बसपा की तरफ से सपा प्रत्याशियों को हराने वाला लेटर वायरल, लिखी है ये बातें, जानें क्या है पूरा मामला

राज्य3 weeks ago

स्मृति के करीबी सुरेन्द्र सिंह हत्याकांड : कांग्रेस नेता समेत हत्या के सभी नामजद आरोपी गिरफ्तार

वीडियो2 weeks ago

नन्हें फैंस को धक्का देने पर सलमान खान ने खोया आपा, सिक्योरिटी गार्ड को जड़ा जोरदार थप्पड़, देखें वीडियो

बिज़नेस2 weeks ago

लगातार पांचवें दिन कम हुए पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए क्या है आज की कीमत

मनोरंजन3 days ago

भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर स्वरा भास्कर ने लगाई ये शर्त, कहा- मुझे क्या मिलेगा…

बिज़नेस2 weeks ago

पाकिस्तान में महंगाई से जनता बेहाल, जानें प्याज और नींबू का दाम

देश4 weeks ago

एग्जिट पोल के बाद मायावती की बड़ी कार्रवाई, इस करीबी विधायक को दिखाया बाहर का रास्ता

देश4 weeks ago

कांग्रेस ने जारी किया अपना एग्जिट पोल, खुद को दिखाईं इतनी सीटें, भाजपा को बताया सत्ता से दूर

हेल्थ1 week ago

पनीर खाने से दूर होती हैं ये बीमारियां, जानें पनीर से होते हैं और कौन-कौन से फायदे?

राज्य1 week ago

पांडेय की जगह कौन होगा यूपी भाजपा का नया अध्यक्ष? इन 8 नामों में लग सकती है किसी पर मोहर!

राज्य4 weeks ago

ढाई लाख से जीतकर भी हार गये सपा प्रमुख अखिलेश यादव, ये है मुख्य कारण

हेल्थ4 weeks ago

बैली फैट को कम करने में अंडा है बेहद कारगर, अपनाएं ये रेसिपी

हेल्थ3 weeks ago

नए रिसर्च का दावा, ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मददगार है ये आसान सा नुस्खा

लाइफ स्टाइल4 weeks ago

रेसिपी : नाश्ते में ऐसे बनाएं कच्चे केले के कटलेट, खाने में होते हैं बेहद स्वादिष्ट

लाइफ स्टाइल3 weeks ago

रेसिपी : इस वीकेंड घर में ऐसे बनायें मलाई कोफ्ता, जीत लेंगे सबका दिल

मनोरंजन2 weeks ago

फिल्म आर्टिकल 15 के खिलाफ लामबंद हुआ ब्राह्मण समुदाय, लगाया गंभीर आरोप, जानें क्या है विवाद

देश3 weeks ago

मोदी सरकार में मंत्री बनने के लिए स्मृति सहित इन सांसदों को आया फोन, देखें लिस्ट

हेल्थ4 weeks ago

मोटापा है सबसे बड़ी समस्या, हो सकती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कारण, आजमाएं ये तरीका

Trending