तलाशी के लिए ऑस्ट्रेलिया की महिलाओं के कपड़े उतरवाने को लेकर कतर पर केस

तलाशी के नाम पर एयरपोर्ट में ऑस्ट्रेलिया की महिलाओं के कपड़े उतरवाना कतर को महंगा पड़ सकता है। इन महिलाओं ने इस मामले में कतर पर मुकदमा दर्ज कराने का फैसला किया है।  
 
Case on Qatar for taking off women's clothes
कतर पर केस

नई दिल्ली। तलाशी के नाम पर एयरपोर्ट में ऑस्ट्रेलिया की महिलाओं के कपड़े उतरवाना कतर को महंगा पड़ सकता है। इन महिलाओं ने इस मामले में कतर पर मुकदमा दर्ज कराने का फैसला किया है।  

यह घटना पिछले साल अक्टूबर में दोहा के हमाद एयरपोर्ट पर हुई थी। यहां अधिकारियों ने कुछ ऑस्ट्रेलियाई महिलाओं की कपड़े उतारकर तलाशी ली थी। अधिकारियों का कहना था कि वे एक ऐसी महिला की तलाश कर रहे थे जिसने कुछ देर पहले बच्चे को जन्म दिया था। दरअसल, दोहा हवाई अड्डे पर अधिकारियों को एक कूड़ेदान में तुरंत जन्मा बच्चा मिला था। उसके बाद ऑस्ट्रेलिया जा रहे एक विमान में सवार कई महिलाओं को उतार लिया गया और उनकी तलाशी ली गई। महिलाओं ने उस अनुभव को सरकार द्वारा अधिकृत यौन हमला बताया।

बाद में कतर ने इस घटना के लिए माफी मांगी थी और एक अधिकारी को जेल भेज दिया था। पीड़ित महिलाओं ने बताया कि कुल 13 महिलाओं को विमान से उतारा गया था जिनमें से 7 को एंबुलेंस में ले जाया गया जहां उनके कपड़े उतरवाए गए और नर्सों ने उनकी जांच की। व्यवस्था में बदलाव की मांग इन महिलाओं का कहना है कि उन्होंने तलाशी के लिए सहमति नहीं दी थी और इसके लिए उन्हें कोई सफाई भी नहीं दी गई। सिडनी स्थित मार्की लॉयर्स में काम करने वाले वकील डेमियन स्टर्जेकर ने बताया कि महिलाओं को मुआवजा मिलना चाहिए। स्टर्जेकर ने कहा, "उन महिलाओं को उस वक्त प्रताड़ित किया गया और वह यातना लगातार उनके साथ बनी रही तो सबसे पहले तो उन्हें मुआवजा मिलना चाहिए. वह बहुत यातनापूर्ण अनुभव था जिससे गुजरने में उन्हें तकलीफ हो रही है.