Connect with us

टेक्नोलॉजी

फेसबुक मैसेंजर पर जल्द आ रहा ये धमाकेदार फीचर, नहीं पड़ेगी टाइपिंग की जरूरत

Published

on

नई दिल्ली। आज के आधुनिक समय में सोशल मीडिया भी बेहद स्मार्ट होता जा रहा है। इसी के चलते यूजर्स के लिए कई ऐसे एप मौजूद हैं जो उनके काम को बेहद आसान कर देते हैं। इसी क्रम में अब फेसबुक भी अपने उपभोक्ताओं के लिए एक बड़ा कदम उठाने जा रहा है। गौरतलब है कि फेसबुक मैसेंजर पर जल्द ही आप चैट करने के लिए टाइपिंग करने से मुक्ति पा जाएंगे और बोलकर ही आप बातें कर सकेंगे। ‘टेकक्रंच’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक जल्द ही इस फीचर की मदद से लोग बोलकर ही अपने संदेश टाइप कर सकेंगे और इसके जरिए आप रिमाइंडर भी तैयार कर सकेंगे।

वॉयस कमांड फीचर की टेस्टिंग शुरू

फेसबुक मैसेंजर के प्रवक्ता ने भी पुष्टि की है कि फेसबुक आंतरिक तौर पर वॉयस कमांड फीचर की टेस्टिंग कर रहा है। प्रवक्ता का कहना है, ‘हम अक्सर कर्मचारियों के बीच मैसेंजर को लेकर नए अनुभव करते रहते हैं। मगर अभी इससे ज्यादा मैं कुछ नहीं बता सकता।’ इस नए फीचर से उपयोगकर्ता को ‘हैंड‌्स-फ्री’ की सुविधा मिलेगी। माना जा रहा है कि यह नया फीचर फेसबुक के आने वाले पोर्टल वीडियो चैट स्क्रीन डिवाइस का हिस्सा है। जानकारी के मुताबिक मैसेंजर खुद को एसएमएस, स्नैपचैट, एंड्रायड मैसेज और अन्य टेक्स मैसेज मंचों से अलग दिखाना चाहता है। वर्तमान में दुनिया में 130 करोड़ लोग मैसेंजर का उपयोग कर रहे हैं। https://kanvkanv.com

टेक्नोलॉजी

शानदार फीचर के साथ भारत में हुआ लांच Realme की Watch

Published

on

 

New delhi :Realme  कंपनी ने पहली बार भारत में स्मार्टवॉच और स्मार्ट टीवी पेश किया है। भारतयी स्मार्टफोन बाजार में रियलमी की पकड़ काफी मजबूत है। अब रियलमी ने भारत में अपना पहला स्मार्टवॉच Realme Watch लॉन्च कर दिया है। इस स्मार्टवॉच में कलर डिस्प्ले है जिस पर 2.5डी कर्व्ड ग्लास का प्रोटेक्शन भी है।इसके साथ भारत में पावरबैंक से लेकर टीवी तक लॉन्च किए हैं।

Realme Watch की कीमत

भारत में इसकी कीमत 3,999 रुपये है। ऐसे में रियलमी वॉच का सीधा मुकाबला हुआमी के अमेजफिट वॉच से होगा। Realme Watch की बिक्री पांच जून को कंपनी की वेबसाइट और फ्लिपकार्ट से होगी। वॉच के स्ट्रैप नेमली रेड, ब्लू और ग्रीन कलर वेरियंट में मिलेंगे।

specification

Realme Watch में छह फिटनेस मोड्स हैं। इसके अलावा घड़ी में 24 घंटे रियल टाइम हर्ट रेट मॉनिटर है। इस वॉच में SpO2 मॉनिटरिंग भी है जिससे खून में मौजूद ऑक्सीजन की जानकारी मिलेगी। फिटनेस लवर्स के लिए इसमें 14 स्पोर्ट्स मोड्स है जिनमें बैडमिंटन, क्रिकेट, योग और रन जैसे मोड्स शामिल हैं। इसके अलावा इसमें स्लीप रिमाइंडर भी है।

Realme Watch में 1.4 इंच की डिस्प्ले है जिसका रिजॉल्यूशन 320×320 पिक्सल है। डिस्प्ले पर 2.5डी कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 3 का प्रोटेक्शन है। इसके अलावा इसे वाटर और डस्टप्रूफ के लिए IP68 की रेटिंग मिली है। इसमें कनेक्टिविटी के लिए ब्लूटूथ v5.0 दिआ गआ है। और 160mAh की बैटरी है जिसे लेकर 20 दिनों तक के बैकअप का दावा है।इस वॉच पर कॉलिंग और मैसेजिंग के नोटिफिकेशन भी मिलेंगे, हालांकि आप कॉल रिसीव नहीं कर पाएंगे, लेकिन रिजेक्ट करने की सुविधा है। इस वॉच का इस्तेमाल आप फोन को अनलॉक करने और म्यूजिक को कंट्रोल करने के लिए भी कर सकते हैं। इससे आप फोन का कैमरा भी कंट्रोल कर सकते हैं।

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

CBI ने राज्यों को भेजा अलर्ट टेक एंड गैजेट्स स्मार्टफोन यूजर्स के ऊपर वायरस का खतरा!

Published

on

 

‘Cerberus Trojan’ malware: सीबीआई ने सॉफ्टवेयर सरबेरस के बारे में पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट जारी किया है।

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने ‘सेरबेरस ट्रोजन’Cerberus Trojan’ malware एक मैलवेयर (वायरस) के बारे में आगाह करते हुए सभी राज्यों की पुलिस एवं सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट जारी किया है। यह सॉफ्टवेयर डेटा चोरी करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। कोरोना वायरस के चलते देश में लॉकडाउन है। लोग अपने घरों में है। ऐसे में यह भारी नुकसान पहुंचा सकता है। यह सॉफ्टवेयर सरबेरस स्मार्टफोन उपभोक्ताओं को कोविड-19 से संबंधित गलत लिंक डाउनलोड करने के लिए मैसेज या ई-मेल एसएमएस आदि भेजकर लुभाता है जिनमें वायरस होते हैं। फिर मोबाइल से डेटा चोरी करता है।

साइबर अपराधी करते हैं इसका इस्तेमाल

सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ के मुताबिक, इंटरपोल से प्राप्त जानकारी के आधार पर यह अलर्ट जारी किया गया है। यह अलर्ट बैंकिंग ट्रोजन से संबंधित है जिसे सेरबेरस के नाम से जाना जाता है। इस बैंकिंग ट्रोजन का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साइबर अपराधी करते हैं। वे कोरोना वायरस महामारी का फाएदा उठाकर इससे संबंधित सामग्री भेजने के बहाने लोगों को वायरस युक्त लिंक डाउनलोड करने को कह रहे हैं। जैसे ही कोई शख्स इस ईमेल या एसएमएस के जरिए आए लिंक को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में अपलोड करता है, उसी वक्त उसकी सभी जानकारियां साइबर अपराधियों क पास जाने लगती हैं।

वित्तीय डेटा चुरा सकता है

पीटीआई के मुताबिक, ट्रोजन एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो दिखने में तो सही लगता है, लेकिन अगर इसे चलाया जाता है तो इसके नकारात्मक प्रभाव होते हैं और इसका इस्तेमाल हैकर कर सकते हैं। अधिकारियों के मुताबिक सीबीआई ने वैश्विक जानकारी मिलने के बाद सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पुलिस बलों तथा केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों को चौकन्ना कर दिया है। सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के इंटरपोल संपर्क अधिकारियों को दिए संदेश में सीबीआई ने कहा कि बैंकिग ट्रोजन मुख्य रूप से क्रेडिट कार्ड नंबर जैसे वित्तीय डेटा की चोरी कर सकता है।

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

Bluetooth से कैसे हैक हो सकता है आपका स्मार्टफोन ?

Published

on

New Delhi : शोधकर्ताओं ने पाया कि ब्लूटूथ इंपर्सनेशन अटैक (BIAS) नाम की एक वल्नेरेबिलिटी पाई है, जो किसी को आपके स्मार्टफोन या लैपटॉप तक पहुंच प्राप्त करने की अनुमति दे सकता है।आपके फोन को खतरे में डाल सकता है और आपके फोन का डेटा की चोरी हो सकती है। शोधकर्ताओं ने दिसंबर 2019 में इस वल्नेरेबिलिटी का पता लगाया था और ब्लूटूथ स्पेशल इंटरेस्ट ग्रुप (ब्लूटूथ एसआईजी) को सूचित किया। इसके बारे में स्टेंडर्ड संगठन जो ब्लूटूथ की देखरेख करते हैं हालांकि, इस समस्या को पूरी तरह से दूर नहीं किया गया है क्योंकि अभी तक ब्लूटूथ SIG ने निर्माताओं से इनकॉरेज्ड फिक्स किए हैं, और सिफारिश की है कि यूजर्स को उनके उपकरणों के लिए लेटेस्ट अपडेट प्राप्त करें।

क्या कहा रिसर्च टीम ने ?

रिसर्च टीम ने कहा कि ये हमले का टेस्ट कई प्रकार के डिवाइस पर किया गया, जिसमें एप्पल, सैमसंग, गूगल, नोकिया, एलजी और मोोटोरोला के स्मार्टफोन और एचपी, लैनोवो के लैपटॉप,  एप्पल मैकबुक, फिलिप्स  और सेन्हाइज़र के हेडफोन्स शामिल हैं। इसमें आईपैड भी शामिल हैं। रिसर्चर ने ऐप्पल, क्वालकॉम, इंटेल, साइप्रेस, ब्रॉडकॉम और अन्य से 28 यूनिक ब्लूटूथ चिप्स के साथ 31 ब्लूटूथ डिवाइसों पर बीआईएएस (BIAS) हमले की कोशिश की। सभी 31 हमलों में से सफल रहे थे। शोधकर्ताओं ने कहा कि हमारे हमलों ने ब्लूटूथ मास्टर और स्लैव डिवाइस को लगाने और पीड़ित व इंपरसोनेट डिवाइस के बीच शेयर की गई लॉन टर्म की को जाने बिना सुरक्षित कनेक्शन स्थापित करने की अनुमति दी। उन्होंने कहा कि इस हमले में ब्लूटूथ मानक में अखंडता संरक्षण, एन्क्रिप्शन और पारस्परिक प्रमाणीकरण की कमी है।

BIAS क्या होता है?
शोधकर्ताओं ने कहा कि कि BIAS ब्लूटूथ बेसिक रेट एक्सटेंडेड डेटा रेट (BR/EDR) वायरलेस टैक्नोलॉजी में वलनेरेबिलिटी पाई गई है। जिसे ब्लूटूथ क्लासिक भी कहा जाता है। यह टैक्नोलॉजी वायरलेस पर्सनल एरिया नेटवर्क के लिए मानक है।  ब्लूटूथ कनेक्शन में आमतौर पर एक होस्ट और क्लाइंट डिवाइस के बीच कनेक्शन में शामिल होता है। जब पहली बार दो डिवाइस को जोड़ा जाता है, तो एक कुंजी या एड्रेस जनरेट किया जाता है, जो दो डिवाइस के बीच ब्लूटूथ कनेक्शन को सहज रखने की अनुमति देता है। हालांकि, ब्लूटूथ मानक सुरक्षा सुविधाओं को प्रदान करने या जानकारी के हेरफेर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है, फिर भी एक BIAS हमला इस कुंजी या एड्रेस को तोड़ सकता है और ऑथेंटिकेशन की आवश्यकता के बिना किसी डिवाइस से कनेक्ट हो सकता है। यह ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि यह पहले था।

Continue Reading

Trending