Connect with us

टेक्नोलॉजी

जानें क्या है लाल ग्रह के वातावरण में हरे ऑक्सीजन की चमक का रहस्य?

Published

on

नई दिल्ली। एक्सोमार्स ऑर्बिटर के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने लाल ग्रह के चारों ओर हरे रंग की चमक की छवि साझा की।
यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के एक्सोमार्स ट्रेस गैस ऑर्बिटर ने मंगल ग्रह के वातावरण में एक हरे रंग की चमक देखने के बाद इंटरनेट को आश्चर्यचकित कर दिया था। ऑर्बिटर मीथेन और अन्य वायुमंडलीय गैसों का विश्लेषण करता है जो मंगल ग्रह पर सक्रिय जीव विज्ञान या भूविज्ञान से संबंधित हो सकती हैं। नेचर एस्ट्रोनॉमी नामक पत्रिका द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, यह चमक ग्रह के वातावरण में मौजूद ऑक्सीजन के कारण होती है। न्यू यॉर्क पोस्ट के अनुसार, लाल ग्रह पर खोजे गए एक्सोमार्स ट्रेस गैस ऑर्बिटर में जो चमक होती है, वह तब होती है जब उसके वातावरण में ऑक्सीजन परमाणु सूर्य के प्रकाश के कारण चार्ज हो जाते हैं, और जब वे आराम करते हैं, तो हरे रंग की एक पीला छाया का उत्सर्जन करते हैं।
एक्सोमार्स ऑर्बिटर के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने लाल ग्रह के चारों ओर हरे रंग की चमक की छवि साझा की। उन्होंने तस्वीर को कैप्शन दिया, “#Mars से नया #science! मेरे @ExoMars_NOMAD इंस्ट्रूमेंट का उपयोग करने वाले वैज्ञानिकों ने लाल ग्रह के वातावरण में हरे ऑक्सीजन की चमक का पता लगाया है – पहली बार यह उत्सर्जन पृथ्वी (एसआईसी) के अलावा किसी अन्य ग्रह के आसपास देखा गया है। ” #Mars से नया #science! मेरे @ExoMars_NOMAD इंस्ट्रूमेंट का उपयोग करने वाले वैज्ञानिकों ने लाल ग्रह के वातावरण में चमकती हुई आक्सीजन का पता लगाया है – पहली बार यह उत्सर्जन पृथ्वी के अलावा किसी ग्रह के आसपास देखा गया है|

Latest

ट्विटर पर हैकरो ने लगाई बड़ी सेंध किया हाईप्रोफाइल लोगों के अकाउंट हैक

Published

on

नई दिल्ली  सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को लेकर अब हर दिन कोई न कोई बड़ी खबर सुनने को मिल ही जाती है। हाल ही में ये सुनने को मिला थआ कि घंटों तक व्हाट्सएप डाउन रहा, लोग व्हाट्सएप का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे थे. जिसके कारण लोगों को कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। अब ट्विटर पर अब तक का सबसे बड़ा साइबर अटैक हुआ है। इसमें अमेरिका के कई दिग्गज हस्तियों के ट्विटर अकाउंट हैक  कर लिए गए हैं।

इनमें अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स, दुनिया के सबसे अमीर और इन्वेस्टमेंट गुरु वारेन बफे शामिल हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन, रैपर कानये वेस्ट, उबर, नेतन्याहू, एपल आईफोन की निर्माता कंपनी एप्पल समेत दुनिया के कई बड़े कारोबारियों और नेताओं के ट्विटर अकाउंट बुधवार को हैक कर लिया गया।

ऐसे कई हाई प्रोफाइल ट्विटर अकाउंट को एक साथ क्रिप्टोकरंसीज घोटाले के लिए हैक किए जाने की जानकारी सामने आई है। हालांकि ट्विटर ने कहा है कि ये उसके लिए एक कठिन दिन है और वह इस समस्या को जल्द ही सुधारने के लिए काम कर रही है।

इन मशहूर हस्तियों के अकाउंट से पोस्ट किए गए ट्वीट कुछ ही मिनट बाद डिलीट हो गए। परंतु इसके बाद तो जैसे एक लहर सी चल पड़ी और कई अन्य प्रमुख लोगों के अकाउंट धड़ाधड़ हैक होने लगे। इनके ट्विटर काउंट्स से प्रत्येक $1000 के बदले $2,000 भेजने का नकली ट्वीट किया गया. आम लोगों को कुछ हद तक नुकसान पहुंचा है. इस हैक के बीच हैकर्स करीब 300 लोगों से 1 लाख 10 हजार डॉलर बिटक्वाइन निकाल पाए हैं.।

दुनिया के दिग्गजों का ट्विटर अकाउंट हैक हो जाने के बाद ट्विटर हरकत में आया। कंपनी ने बयान जारी करते हुए कहा कि यह “ट्विटर अकाउंट को प्रभावित करने वाली सुरक्षा घटना” के बारे में सावधान करने वाली घटना थी। इसकी जांच कर रही है और इसे ठीक करने के लिए काम किया जा रहा है।

ट्विटर के सीईओ जैक ने इस पूरे मामले पर कहा कि आज ट्विटर में बहुत ही मुश्किल भरा दिन था, जो हैकिंग हुई उसे हमने रोकने का प्रयास किया।  इसके लिए काफी अकाउंट्स को बंद कर दिया गया था। ये हैकिंग कैसे हुई और इसके पीछे कौन था, इसकी जांच जारी है।

 

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

भारतीय सेना इजरायल से खरीदेगी हेरॉन ड्रोन और एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल

Published

on

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी तनाव भले ही कम होता दिख रहा हो, लेकिन भारतीय सेना अपनी ताकत में इजाफा करने के काम में जुटी है। भारतीय सेना ने अमेरिका से 1.42 लाख सिग-716 असॉल्ट राइफलों के बाद अब इजरायल से एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल और हेरॉन ड्रोन खरीदने का ऑर्डर दे रही है। एयरफोर्स के प्रोजेक्ट चीता के तहत मौजूदा बेड़े को लड़ाकू यूएवी में अपग्रेड करने पर भी काम हो रहा है। डीआरडीओ भी पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेट मिसाइल विकसित कर रहा जिससे 50 हजार मिसाइलों की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा।
तीनों सेनाओं के लिए जारी किया था 500 करोड़ रुपये का इमरेंजसी फंड 
पिछले साल बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद इजरायल से स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल की एक खेप भारत को मिली थी। तीनों सेनाएं पहले से ही लद्दाख सेक्टर में सर्विलांस के लिए हेरॉन अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) का इस्तेमाल कर रही है जो एक बार में दो दिन तक उड़ सकता है। अब भारतीय सेना हेरॉन ड्रोन के आर्म्ड वर्जन को अपने बेड़े में शामिल करने की दिशा में काम रही है। चीन से तनाव बढ़ने और गलवान घाटी में 15 जून को 20 भारतीय सैनिकों की शहादत के बाद केंद्र सरकार ने तीनों सेनाओं के लिए 500 करोड़ रुपये का इमरेंजसी फंड जारी किया था। इसी फंड से सेनाओं की सर्विलांस क्षमता के साथ ही हमला करने की ताकत में इजाफा किया जा रहा है। यही वजह है कि अमेरिका से 72 हजार असॉल्ट राइफल खरीदने के साथ ही अब भारतीय सेना इजरायल से हेरॉन ड्रोन और स्पाइक एंटी गाइडेड मिसाइल भी खरीदेगी।
एयरफोर्स हेरॉन के आर्म्ड वर्जन पर कर रही है काम
सरकार से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि मौजूदा हालात को देखते हुए हेरॉन ड्रोन की संख्या बढ़ाए जाने की जरूरत है। खासतौर पर एयरफोर्स की जरूरतों को पूरा करने के लिए इसे खरीदा जाना जरूरी है। हालांकि, इजरायल से कितने हेरॉन ड्रोन खरीदे जाएंगे, इसकी संख्या का पता नहीं चला है। इधर, एयरफोर्स हेरॉन के आर्म्ड वर्जन पर काम कर रही है। हेरॉन ड्रोन 10 किमी की ऊंचाई से दुश्मन पर नजर रख सकता है। यह एक बार में दो दिन तक उड़ सकता है और 10 किलोमीटर की ऊंचाई से दुश्मन की हर हरकत पर नजर रख सकता है।
बड़ी संख्या में स्पाइक मिसाइल लेने की है प्लानिंग 
बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पिछले साल सेना को 12 लॉन्चर और 200 स्पाइक मिसाइलें मिलीं थीं। चीन से तनाव बढ़ने के बाद भारतीय सेना दुश्मन की आर्म्ड रेजिमेंट के खतरे से निपटने के लिए बड़ी संख्या में स्पाइक मिसाइल लेने की प्लानिंग कर रही है। इस बीच, डीआरडीओ भी देसी पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेट मिसाइल विकसित करने का काम कर रहा है। इसके जरिए इंफेंट्री यूनिट्स की ऐसी 50 हजार मिसाइलों की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। इसके अलावा एलएसी पर तनाव के चलते सेना की तरफ से पहले ही स्पाइस-2000 बम, असॉल्ट राइफल और मिसाइल खरीदे जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
Continue Reading

टेक्नोलॉजी

एप्पल और सैमसंग जैसी दिग्गज कम्पनियां कर रही चार्जर न देने का प्लान

Published

on

नई दिल्ली । अभी तक तो आपको मोइबल के साथ हेडफोन ही ना मिलने की शिकायत थी लेकिन अब एप्पल और सैमसंग जैसी बड़ी कंपनियां बड़ा झटका देने की तैयारी में है। मोबाइल एसेसरीज के बढ़ते दामों को देखते हुए एप्पल और सैमसंग जैसी दिग्गज कंपनी आने वाले समय में नए स्मार्टफोन के साथ चार्जर नहीं देने का प्लान कर रही हैं।

एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक कंपनियां फोन के साथ बॉक्स में मिलने वाले चार्जर को हटाने का फैसला कर रही हैं। यह खुलासा सैमसंग से जुड़ी जानकारी रखने वाली वेबसाइट ने किया है। अगर फैसले पर सहमति बनती है तो ऐसा पहली बार होगा जब सैमसंग का फोन बिना चार्जर मिलेगा।

कोरियन साइट ईटीन्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार सैमसंग लागत के लिए अगले साल से स्मार्टफोन से चार्जर हटा देगा। इन दिनों चार्जिंग पोर्ट पूरे दुनिया में कमोबेश एक जैसे होते जा रहे हैं। लगभग सभी कंपनियां यूएसबी टाइप-सी पोर्ट की तरफ बढ़ रही हैं। सैमसंग दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों में से एक है।

कंपनी हर साल करोड़ों फोन की बिक्री करती है। ऐसे में यदि सैमसंग आधे स्मार्टफोन से भी चार्जर हटा देती है तो कंपनी को बड़ी रकम का फायदा होगा। इस फायदे को कंपनी फोन की कीमत घटाकर ग्राहकों को फायदा पहुंचा सकती है। दरअसल चीन से इंपोर्ट पर कस्टम की सख्ती का असर देश के मोबाइल एसेसरीज पर दिखने लगा है। प्रोडक्ट बाजार में मिल नहीं रहे और अगर मिल भी रहे हैं तो बेहद ऊंचे दाम पर।

Continue Reading

Trending