Home टेक्नोलॉजी Bluetooth से कैसे हैक हो सकता है आपका स्मार्टफोन ?

Bluetooth से कैसे हैक हो सकता है आपका स्मार्टफोन ?

New Delhi : शोधकर्ताओं ने पाया कि ब्लूटूथ इंपर्सनेशन अटैक (BIAS) नाम की एक वल्नेरेबिलिटी पाई है, जो किसी को आपके स्मार्टफोन या लैपटॉप तक पहुंच प्राप्त करने की अनुमति दे सकता है।आपके फोन को खतरे में डाल सकता है और आपके फोन का डेटा की चोरी हो सकती है। शोधकर्ताओं ने दिसंबर 2019 में इस वल्नेरेबिलिटी का पता लगाया था और ब्लूटूथ स्पेशल इंटरेस्ट ग्रुप (ब्लूटूथ एसआईजी) को सूचित किया। इसके बारे में स्टेंडर्ड संगठन जो ब्लूटूथ की देखरेख करते हैं हालांकि, इस समस्या को पूरी तरह से दूर नहीं किया गया है क्योंकि अभी तक ब्लूटूथ SIG ने निर्माताओं से इनकॉरेज्ड फिक्स किए हैं, और सिफारिश की है कि यूजर्स को उनके उपकरणों के लिए लेटेस्ट अपडेट प्राप्त करें।

क्या कहा रिसर्च टीम ने ?

रिसर्च टीम ने कहा कि ये हमले का टेस्ट कई प्रकार के डिवाइस पर किया गया, जिसमें एप्पल, सैमसंग, गूगल, नोकिया, एलजी और मोोटोरोला के स्मार्टफोन और एचपी, लैनोवो के लैपटॉप,  एप्पल मैकबुक, फिलिप्स  और सेन्हाइज़र के हेडफोन्स शामिल हैं। इसमें आईपैड भी शामिल हैं। रिसर्चर ने ऐप्पल, क्वालकॉम, इंटेल, साइप्रेस, ब्रॉडकॉम और अन्य से 28 यूनिक ब्लूटूथ चिप्स के साथ 31 ब्लूटूथ डिवाइसों पर बीआईएएस (BIAS) हमले की कोशिश की। सभी 31 हमलों में से सफल रहे थे। शोधकर्ताओं ने कहा कि हमारे हमलों ने ब्लूटूथ मास्टर और स्लैव डिवाइस को लगाने और पीड़ित व इंपरसोनेट डिवाइस के बीच शेयर की गई लॉन टर्म की को जाने बिना सुरक्षित कनेक्शन स्थापित करने की अनुमति दी। उन्होंने कहा कि इस हमले में ब्लूटूथ मानक में अखंडता संरक्षण, एन्क्रिप्शन और पारस्परिक प्रमाणीकरण की कमी है।

BIAS क्या होता है?
शोधकर्ताओं ने कहा कि कि BIAS ब्लूटूथ बेसिक रेट एक्सटेंडेड डेटा रेट (BR/EDR) वायरलेस टैक्नोलॉजी में वलनेरेबिलिटी पाई गई है। जिसे ब्लूटूथ क्लासिक भी कहा जाता है। यह टैक्नोलॉजी वायरलेस पर्सनल एरिया नेटवर्क के लिए मानक है।  ब्लूटूथ कनेक्शन में आमतौर पर एक होस्ट और क्लाइंट डिवाइस के बीच कनेक्शन में शामिल होता है। जब पहली बार दो डिवाइस को जोड़ा जाता है, तो एक कुंजी या एड्रेस जनरेट किया जाता है, जो दो डिवाइस के बीच ब्लूटूथ कनेक्शन को सहज रखने की अनुमति देता है। हालांकि, ब्लूटूथ मानक सुरक्षा सुविधाओं को प्रदान करने या जानकारी के हेरफेर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है, फिर भी एक BIAS हमला इस कुंजी या एड्रेस को तोड़ सकता है और ऑथेंटिकेशन की आवश्यकता के बिना किसी डिवाइस से कनेक्ट हो सकता है। यह ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि यह पहले था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

श्रीराम मंदिर भूमि पूजन : इकबाल अंसारी को दिया गया आमंत्रण

अयोध्या । श्रीराम जन्मभूमि के भूमि पूजन में पंचांग पूजा और गणेश पूजा की रस्में आज से शुरू हो गईं है, इसके साथ ही...

माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक ख़रीदने को उत्सुक, बातचीत जारी

लॉस एंजेल्स । माइक्रोसॉफ्ट ने चीनी बाइटडाँस की टिकटाक ख़रीदने के लिए अपनी कोशिशें बंद नहीं की है। माइक्रोसॉफ्ट ने रविवार को पहली बार...

बर्थडे स्पेशल: आज है ‘मशहूर गुलाटी’ के नाम से मशहूर कॉमेडियन सुनील ग्रोवर का जन्मदिन

मुंबई । मशहूर गुलाटी और गुत्थी के नाम से मशहूर कॉमेडियन सुनील ग्रोवर कल यानी 3 अगस्त को अपना 43 वां जन्मदिन मना रहें...

शराब तस्करों ने गाड़ी का पीछा कर रहे दो पुलिसकर्मियों को कुचला

बागपत। यूपी हरियाणा बॉर्डर पर शराब तस्करों ने बैरियर तोड़कर दो पुलिस कर्मियों को घायल कर दिया। दोनों पुलिस कर्मी जिला अस्पताल में भर्ती...