यूपी के गन्ना का मूल्य बढ़ाएगी योगी सरकार

यूपी सरकार ने गन्ना किसानों को लेकर बड़ी राहत दी है। गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है और किसान संगठनों से बातचीत के बाद इसका औपचारिक एलान जल्द कर दिया जायेगा।
 
 sugarcane
गन्ना किसानों को राहत

लखनऊ। यूपी सरकार ने गन्ना किसानों को लेकर बड़ी राहत दी है। गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है और किसान संगठनों से बातचीत के बाद इसका औपचारिक एलान जल्द कर दिया जायेगा। 

सुरेश राणा ने शुक्रवार को यहां लोक भवन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गन्ना मूल्य में वृद्धि के लिये अधिकारी स्तर पर विचार विमर्श की प्रक्रिया लगभग पूरी की जा चुकी है। इसके बाद सभी किसान संगठनों के साथ इस सिलसिले में बातचीत की जायेगी और फिर दामों में बढोत्तरी की घोषणा कर दी जाएगी। 

उन्होने कहा कि उनकी सरकार किसानों की आय बढाने के लिये उन्हे कृषि संबंधी उन्नत जानकारी समेत अन्य सुविधायें उपलब्ध कराने के लिये कटिबद्ध है। इसी क्रम में गन्ना किसानों को उनकी उपज की बढ़ी हुयी कीमते जल्द मिलेंगी। मंत्री राणा ने कहा कि योगी सरकार ने बंद पड़ी चीनी मिलों को चालू कराया और इसके जरिये 35 हजार लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार दिया गया।

योगी सरकार के कार्यकाल में गन्ने का रकबा आठ लाख हेक्टेयर बढ़ा। पहले 20 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गन्ना की बोआई होती थी जबकि अब 28 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में बुआई की जा रही है। पिछले सत्र में 4289 लाख टन गन्ने की रिकॉर्ड पेराई हुई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार पराली जलाने वाले मामलों को वापस लिया जाएगा। सरकार हर हाल में किसानों के पराली मुकदमे को वापस लेगी और इस दिशा पर काम भी शुरू हो चुका है।

गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि योगी सरकार ने चार वर्ष में अब तक 1,42,311 करोड़ रुपये का भुगतान गन्ना किसानों को करने का काम किया है। इस वर्ष भी अब तक 84 प्रतिशत भुगतान गन्ना किसानों को कर दिया गया है। पिछले 15 सालों में कभी भी तीन सितंबर तक 84 प्रतिशत भुगतान नहीं किया गया था। उन्होंने बताया कि गन्ना किसानों को 2016-17 में 14,998 करोड़ रुपये का भुगतान हुआ। इसके बाद जैसे ही योगी सरकार आई, एक ऐतिहासिक परिवर्तन देखने को मिला और 2017-18 में 35,443 करोड़ रुपये का भुगतान गन्ना किसानों को किया गया।