कोरोना के साय में गणपति की पूजा: यूपी में सार्वजनिक स्थल पर स्थापित नहीं कर सकेंगे प्रतिमा, भीड़ इकट्ठा करने पर भी रोक

उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी के बावजूद योगी सरकार ढिलाई के मूड में नहीं है। इसलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल यानी शुक्रवार से शुरू होने वाले गणेश चतुर्थी के त्यौहार को लेकर कड़े निर्देश दिए है। 
 
 Worship of Ganpati in the presence of Corona
गणपति

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी के बावजूद योगी सरकार ढिलाई के मूड में नहीं है। इसलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल यानी शुक्रवार से शुरू होने वाले गणेश चतुर्थी के त्यौहार को लेकर कड़े निर्देश दिए है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर गणेश प्रतिमाएं नहीं स्थापित की जा सकेंगी। लोग घरों व मंदिरों में प्रतिमा स्थापित कर पूजन कर सकेंगे। वहीं, अनावश्यक भीड़ एकत्र करने पर रोक रहेगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी सख्ती से पालन करवाया जाए पर लोगों की आस्था को भी यथोचित सम्मान दिया जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि सतत समन्वित, नियोजित प्रयासों से कोरोना की दूसरी लहर पर बने प्रभावी नियंत्रण के बीच जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है। देश के अन्य राज्यों के सापेक्ष उत्तर प्रदेश में स्थिति बहुत बेहतर है। आज प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी एक्टिव केस नहीं है। विगत दिवस हुई कोविड टेस्टिंग में 66 ज़िलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला। वर्तमान में 199 संक्रमितों का उपचार हो रहा है।


उन्होंने निर्देश दिया कि डेंगू व अन्य वायरल बीमारियों के संबंध में जारी प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम को प्रभावी बनाया जाए। बुखार व संक्रमण के अन्य लक्षणों के संदिग्ध मरीजों की पहचान की जाए। बुखार, दस्त और डायरिया की दवाइयां वितरित की जाएं। विशेषज्ञ टीम के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उपचार की समस्त व्यवस्था की जाए। बेड, दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता बनाए रखी जाए। सरकारी अस्पतालों में सभी मरीजों के निःशुल्क उपचार की व्यवस्था है। फिरोजाबाद, आगरा, कानपुर, मथुरा आदि प्रभावित जनपदों की स्थिति पर सतत नजर रखी जाए।