Connect with us

राज्य

बिहार की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार कौन, जनता या सरकार?

Published

on

संतोष राज पांडेय

यदि आपको बिहार की स्थिति समझनी है तो कभी फुर्सत में समय निकालकर दोपहर 1-1:30 बजे नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 14 पर जाइये ! आप में से बहुत लोगों ने यह दृश्य कभी नहीं देखा होगा । प्लेटफार्म के आगे और पीछे साइड सैंकड़ों लोग लाइन में लगे रहते हैं । भीड़ इतनी ज़बरदस्त कि उसे संभालने और किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए RPF के कई जवान तैनात रहते हैं । यह भीड़ बिहार के उन गरीब व्यक्तियों कि रहती है जो बिहार-संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के सामान्य (जनरल) डिब्बे में चढ़ने आये होते हैं । 2:30 पर जो ट्रेन खुलती है उसके जनरल डिब्बे में चढ़ने भर कि जगह मिल जाये इसलिए ये लोग सुबह 10-11 बजे से ही लाइन लगाना आरम्भ कर देते हैं । इनका गंतव्य सीवान,छपरा, सोनपुर, मुजफ्फरपुर,सहरसा, समस्तीपुर एवं दरभंगा रहता है । RPF कि मौजूदगी के बावजूद मार-पीट, भगदड़, लाठीचार्ज बहुत ही सामान्य है ।

हर डब्बे में कम से कम 250 लोग

जनरल डिब्बे की क्षमता 100 लोगों की होती है, परन्तु हर डब्बे में कम से कम 250 लोग तो अवश्य रहते हैं । एक सीट पर चार कि जगह आठ लोग बैठते हैं तो नौवां आ कर कहता है, “थोड़ा घुसकिये जी, आगे-पीछे हो कर बैठिएगा तो थोड़ा जगह बनिए जाएगा । शौचालय से ले कर पायदान तक एक भी जगह खाली नहीं रहता । यदि आप एक बार अंदर चले गए तो शायद शौचालय जाने के लिए ऎसी जद्दोजहद करनी होगी कि शायद आधा-एक घंटा इसी में निकल जाए । यही स्थिति प्रायः बिहार जाने वाली सभी ट्रेन में रहती है – वैशाली एक्सप्रेस, विक्रमशिला एक्सप्रेस, सम्पूर्ण क्रांति एक्सप्रेस, स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस, महाबोधि एक्सप्रेस इत्यादि । यदि आप दिल्ली में नहीं रहते तो कोई बात नहीं । मुंबई, इंदौर, जालंधर, सूरत, अहमदाबाद, बैंगलोर एवं पुणे से जो ट्रेनें बिहार जाती हैं, आप उनमें भी यही स्थिति पाएंगे ।

बिहार में आपके लिए कुछ नहीं

बिहार में नौकरी नहीं है । यदि आप बिहार सरकार की नौकरी नहीं कर रहे तो बिहार में आपके लिए कुछ नहीं है । उद्योग का नामोनिशान नहीं है । आप मजदूर हों या मैकेनिक, अकाउंटेंट हों या मैनेजर, इंजीनियर हों या वैज्ञानिक, बिहार में आपके लिए कुछ नहीं है । यहां तक कि खेती करने वाले मजदूरों को भी पंजाब और हरयाणा आ कर बड़े किसानों के यहाँ मजदूरी करनी पड़ती है । दिल्ली में रिक्शा चलाने वाले, कंस्ट्रक्शन लेबर, इधर-उधर काम करने वाले मजदूर – अधिकतर बिहार के होते हैं । यही हाल देश के अन्य शहरों में है विशेष रूप से गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य-प्रदेश और पंजाब ।

उद्योगों एवं नौकरियों पर क्रूरता से प्रहार

बिहार को सुनियोजित ढंग से ख़तम कर दिया गया । बिहार को जातिवाद की आग में सालों जलाया गया, गुंडागर्दी और रंगदारी को बेलगाम होने दिया गया, सभी उद्योगों एवं नौकरियों पर क्रूरता से प्रहार किया गया । प्रहार ऐसा कि आज तक बिहार नहीं उभर पाया है । सामजिक न्याय और समाजवाद के नाम पर लोगों को कहा गया कि सड़क और बिजली का कोई काम नहीं क्यूंकि सड़क पर गाड़ियां अमीरों कि चलती हैं और बिजली से मौज-मस्ती अमीरों के घर में होता है । यूनियन और गुटबाजी कर के सारे चीनी मिल और उद्योगों को बंद करा दिया गया । उद्योगपति, इंजीनियर, डॉक्टर, प्रोफेसर, शिक्षक, स्किल्ड मैकेनिक, एक-एक कर सभी बिहार छोड़ते चले गए । गाँव से जो अनवरत पलायन आरम्भ हुआ वो आज तक जारी है । सरकारों ने रोड और बिजली अवश्य दे दिया, परन्तु पिछले 13 वर्ष में उद्योग नहीं आरम्भ कर सके । इस कारण से आज भी बिहार में यदि कोई चारा है तो सरकारी नौकरी ही है । दुःख की बात यह है कि लोग समझते नहीं हैं कि सरकार सभी को सरकारी नौकरी नहीं दे सकती ।

उद्योगपति लूटेरे होते हैं

नौकरी का सबसे बड़ा स्रोत निजी क्षेत्र ही होता है । गुजरात, महाराष्ट्र, पंजाब, कर्णाटका, तमिल नाडु – ये सब वो राज्य हैं जहाँ बिहार के लोग नौकरी कि तलाश में जाते हैं – छोटी से छोटी नौकरी से लेकर बड़ी नौकरी तक । इसका कारण एक ही है – यह सभी राज्य industrialised हैं । बिहार में एक ऐसी धारणा बना दी गयी सालों तक कि उद्योगपति लूटेरे होते हैं, उद्योग लगाना एक डाका है । प्राइवेट मतलब लूट । इंडस्ट्री को लूट का पर्याय बना दिया गया । आज बिहार में आलम यह है कि लोग धक्के और ठोकर खाते हुए देश के विभिन्न राज्य में नौकरी करने जाएंगे, लेकिन जैसे ही उद्योग की बात करो सबसे पहले उद्योगपतियों को गाली देंगे । अपने आप में यह एक विचित्र विडम्बना है बिहार के इस समाज की ।

हम कब तक दूसरे राज्यों पर बोझ बनेंगे ?

जब तक कोई ऎसी सरकार नहीं आती बिहार में जिसका प्रमुख फोकस “Industrialization” हो, बिहार इसी गर्त में डूबा रहेगा । पलायन जारी रहेगा और जनता कि निराशा बढ़ती रहेगी । आज दिल्ली, मुंबई, जालंधर, सूरत, बैंगलोर, चेन्नई, इंदौर, पुणे जैसे शहर अपनी क्षमता से कई गुना अधिक बोझ उठाये हुए हैं । इस प्रेशर के कारण इन शहरों का इंफ्रास्ट्रक्चर भी चरमरा चूका है । यह शहर और लोगों को नहीं समा सकते । जब तक बिहार नहीं उठेगा, यह देश नहीं उठ सकता । हम कब तक दूसरे राज्यों पर बोझ बनेंगे ? हम कब तक घर से दूर ठोकर खाते फिरेंगे ? हम कब तक अपनी मिटटी से दूर सिर्फ जीवनयापन की तलाश में दर-दर भटकते फिरेंगे ? क्या बिहार कभी अपने उस स्वर्णिम दौर को पुनः प्राप्त कर सकेगा ? आज देश के जिस राज्य में जाता हूँ, उसका हाल बिहार से बेहतर ही पाता हूँ । यह पीड़ा शायद एक बिहारी ही समझ सकता है ।

जातिवाद का जहर फिर से न पनपने दीजिये

मेरी आप सभी से एक ही सलाह है – छद्म “सामाजिक न्याय” और “समाजवाद” के नाम पर जातिवाद का जहर फिर से न पनपने दीजिये । हमने इसे सालों झेला है और आज भी उसी पीड़ा का अनुभव कर रहे हैं । एक बिहार फिर भी किसी तरह से इसे संभाल रहा है । इस देश में ३० बिहार न होने दीजिये । हम कहीं के नहीं रहेंगे, हमारी अगली पीढ़ी केवल और केवल हमें कोसेगी । जो भाग सकते हैं, वो विदेश भाग जायेंगे या फिर कोई न कोई उपाय निकाल लेंगे । जो पिसेंगे वह मध्यम-वर्ग, निम्नमध्यम-वर्ग और गरीब तबका ही होगा । आज भी जो बिहार में अमीर हैं, उनकी जिंदगी में शायद ही कोई दिक्कत आया है । बिहार इस देश के लिए एक सीख है । इस देश में और बिहार न होने दीजिये । https://www.kanvkanv.com

राज्य

अयोध्या : तेज रफ़्तार वाहन ने दो युवकों को रौंदा, मौके पर ही मौत

Published

on

रवीन्द्र पाण्डेय”रवि”

अयोध्या। जनपद अयोध्या के पूरा कलंदर थानाक्षेत्र में अयोध्या-प्रयागराज नेशनल हाईवे पर तेज रफ़्तार मैजिक सवारी गाड़ी ने बाइक सवार दो युवकों को रौंद दिया।जिसमेँ दोनों की मौके पर ही मौत हो गयी।टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि दोनों के शव टाटा मैजिक के मड्गार्ड में फँसकर एक किलोमीटर घिसटते चले गये। चालक गाड़ी छोड़कर फरार हो गया। बाद में गाड़ी को पलटकर दोनों शवों को निकाला गया।दोनों मृतक आपस में साढू थे। जो फैजाबाद शहर से वापस जा रहे थे।
ज्ञात हुआ है कि इनायत नगर थानाक्षेत्र के गाँव मवई खुर्द मजरे कटरा का रहने वाला गया प्रसाद लोहार अपने साढू भुलई निवासी बल्दीराय सुल्तानपुर के साथ बाइक से घर जा रहा था।जैसे वह पूराकलन्दर थानाक्षेत्र के रोडवेज वर्कशॉप पगलाभारी के पास पहुँचा। विपरीत दिशा से आ रही मैजिक सवारी गाड़ी ने दोनों को रौंद दिया।जिससे दोनों की बेहद दर्दनाक मौत हो गयी। इलाकाई पुलिस ने किसी तरह उनकी लाश निकालकर पोस्टमार्टम के लिये भिजवाया।

बारात लेकर जा रही बोलेरो और बाइक की आमने-सामने भिड़ंत

दूसरी ओर उसके एक घंटे बाद सोमवार की ही देर शाम बारात लेकर जा रही बोलेरो और बाइक की आमने-सामने भिड़ंत में एक ही परिवार के तीन लोग बुरी तरह घायल हो गये।सभी घायलों की हालत नाजुक बनी हुई है।पुलिस ने मौके पर पहुँचकर उन्हेँ जिला अस्पताल भिजवाया।
जनकारी के मुताबिक अयोध्या जिले के थानाक्षेत्र तारून की रामपुर भगन पुलिस चौकीक्षेत्र के सोनखरी मोड़ पर सोमवार की सायं करीब सात बजे रामपुर भगन की तरफ से भदरसा बारात लेकर जा रही बोलेरो ने पिपरी की तरफ से केशरूवाबुज़ुर्ग जा रहे हरि बक्श निषाद पुत्र राम प्रसाद उम्र 35 बर्ष, उनकी पत्नी सुमित्रा 32 बर्ष,बेटी किरन उम्र 15 की बाइक में  जोरदार टक्कर मार दिया।
जिससे तीनो लोग गंभीर रूप से चोटिल हो गये।इसमें बाइक चला रहे हरि बक्श की हालत पुलिस ने नाजुक बताई हैं।बताया गया दरोगा मनोज कुमार सूचना मिलते ही मौके पर पहुँच चोटिल लोगो को निजी वाहन से जिला अस्पताल भेजवाया।प्रत्यक्षदर्षियो का आरोप है कि डायल 100 के पुलिस मौके पर घायलों को गाड़ी में बैठाने से इनकार कर दिया।पुलिस ने दुर्घटना करने वाली बोलेरो तथा क्षतिग्रस्त हुई बाइक को अपने कब्जे में लिया है।  https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

राज्य

श्रावस्ती : कई प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र निष्प्रयोज्य, स्वास्थ्य व्यवस्था सुधरे तो कैसे?

Published

on

अशुतोष मिश्र

श्रावस्ती| देश के प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी  द्वारा  देश के अतिपिछड़े जिलों के स्वास्थ्य ,शिक्षा  को सुधारने की कोशिश को जिला का स्वास्थ्य विभाग ठेंगा दिखा रहा है ,एक तरफ विभाग जिला को स्वस्थ रखने के लिए सांसद व डीएम के द्वारा बड़े जोर सोर से फीता कटवाकर जिला को स्वस्थ बनाने का  दावा कर रहा है  वहीं दूसरी तरफ जिला के कई प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं  जो निष्प्रयोज्य हैं जिनमें से गिलौला विकासखंड क्षेत्र अंतर्गत  आने वाला प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र शाहपुर कठौतिया है जो अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है.

केन्द्र की जर्जर अवस्था बरसों से

यहां के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर  गांव के जानवरों का तबेला बना हुआ है, आज कांव कांव न्यूज़ की टीम ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र  शाहपुर कठौतिया का निरीक्षण किया तो वहां जानवर बांधे हुए मिले हैं , प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की दुर्दशा पर पास बैठी ,गॉव की एक औरत से जानकारी ली गई तो उसने बताया की यह तो वर्षों से ऐसे ही है इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के नाम पर स्वास्थ्य कर्मी व डॉक्टर मोटी तनख्वाह  तो लेते हैं ,किंतु यहां पर बैठता कोई नहीं है और इस केन्द्र की जर्जर अवस्था बरसों से पड़ी हुई है |

लाखों रूप़या जिम्मेदार कागजों में पास कर चुके

यही नहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के नाम पर हर वर्ष लाखों रुपया शासन के द्वारा आता है एवं मरम्मत के नाम पर भी लाखों रुपया शासन के द्वारा आया है और उसको जिम्मेदार कागजों पर ही पास करके पैसे को डकार गये है|हालत यह है कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र  के दरवाजे खिड़की  उखड़े हुए हैं  बाउंड्री वाल  लगभग न के बराबर है ,परिसर मे लगा हैंडपम्प निष्प्रयोज्य है| विल्डिंग जर्जर बनी हुई है जबकि इस बिल्डिंग के नाम पर पिछले माह मरम्मत के नाम पर लाखों रूप़या जिम्मेदार कागजों में पास कर चुके है|

जबाब देना वह जरूरी नही मानते हैं

आखिर जिला का स्वास्थ्य  सुधरे तो कैसे सुधारे |सरकार स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने के लिए डाक्टर,एनएम व आशाबहू से लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात हैं किन्तु जमीनी हकीकत कुछ और ही वयां कर रही है|  इस संबंध में पिछले दिनों मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर वीके सिंह से बात की गई और जिला में कुल कितने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ,उपकेन्द्र, और कहां कहां पर संचालित है, का लिस्ट व जानकारी मांगी गई, तो उन्होंने सवालों का जवाब देने के बजाय यह कहा कि हमारे साथ देश के बड़े बड़े पत्रकार बैठते है, और तुम लोगों के सवाल के जबाब देना जरूरी नही मानते हैं|

बड़े अधिकारियों से कैसे बद जुबानी कर सकते हैं

आज इस संबंध में पुन: उनसे बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने अपना मोबाइल स्विच ऑफ करके रखा|वही इस संबंध में ग्रामीणों से उनको स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में बात की गई तो उन लोगों ने कहा के साहब सरकार की योजनाओं का धरातल पर कुछ और है और कागजों पर कुछ और ही है,और हम लोग गरीब हैं किसी तरह से मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण कर लेते है ,ऐसी स्थिति में निजी प्रैक्टिसनर्स का सहारा लेना पड़ता है और अब हम सब इन बड़े अधिकारियों से कैसे बद जुबानी कर सकते हैं|

दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग के विभागीय सूत्रों का कहना है कि इस तरह से जिला में एक दर्जन से ज्यादा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है जो कागज पर तो संचालित है लेकिन हकीकत में वह सब निष्प्रयोज्य है और इन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों हर वर्ष लाखों- लाखों का बजट शासन की तरफ से तो आता है किन्तु जिम्मेदार इसको कागजों पर संचालित करते रहते हैं,और बजट का पैसा  आपस में मिल बांट कर खा जाते हैं और कागज पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को संचालित रहना दिखाते रहते हैं| https://www.kanvkanv.com

Continue Reading

राज्य

कन्नौज : समझदारी दिखाएं, बच्चों का टीकाकरण करवाएं

Published

on

खसरा-रूबेला के टीकाकरण अभियान का शुभारंभ कर डीएम ने दिया नारा

बृजेश चतुर्वेदी

कन्नौज। समझदारी दिखाये – अपने बच्चे का टीकाकरण कराये। खसरा एक जानलेवा बीमारी है। खसरा, रूबैला रोगों के बचाव हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत कोई भी बच्चा टीकाकरण से न छूटे। इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। उक्त उद्गार आज जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने गर्वेमेन्ट प्राइमरी स्कूल दंदौरा खुर्द ने उपस्थित छात्र/छात्राओं एंव अध्यापक अभिभावकों के सम्बोधन में व्यक्त किये।

विद्यालय के पठन-पाठन के संबंध में चर्चा की

उन्होनें कहा कि आज एक बहुत ही महत्वपूर्ण कार्यक्रम की शुरूआत इस विद्यालय से हो रही है। उन्होनें कहा कि इससे पूर्व भी इस विद्यालय के बारे में चर्चा करते हुए विद्यालय के पठन-पाठन के संबंध में चर्चा की गई थी जिसमें कहा गया कि इस विद्यालय द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में नया इतिहास लिखा गया है।
उन्होने कहा कि आज इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम की शुरूआत इस विद्यालय से बहुत ही महत्वपूर्ण अभियान का शुभारंभ हुआ है। उन्होंने बताया कि राज्य एवं भारत सरकार के द्वारा हर एक बच्चे को टीका लगाने हेतु इस अभियान के तहत किया जाना है जिसकी एक टीके की कीमत लगभग 2200 रु है ।इस विद्यालय के अध्यापक एंव बच्चों के लिये बहुत ही गर्व की बात है की इन खतरनाक बीमारियों से बचाव हेतु जनपद में प्रथम शुरुआत की जा रही है।

खसरा एक जानलेवा बीमारी

जिलाधिकारी ने कहा कि खसरा एक जानलेवा बीमारी है इससे बच्चों में अपंग होने के साथ ही जान जाने की भी संभावना होती है। उन्होनें कहा कि यह संक्रामक रोग है यह प्रभावित व्यक्ति के खांसने एंव छीकने से फैलता है। खसरा आपके बच्चे को निमोनिया, दस्त, और दीमागी संक्रमण जैसी घातक बीमारियो से ग्रसित कर सकता है। उन्होनें कहा कि 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को खसरा, रूबैला का टीका अभियान के तहत लगाया जा रहा है। यह टीका बहुत ही आवश्यक है उन्होनें कहा कि जब कोई बच्चा छूट जाता है तो उसके साथ साथ अन्य बच्चों को नुकसान हो सकता है। इसलिये हम सबकी यह जिम्मेदारी है कि अपने-अपने बच्चों का टीकाकरण अवश्य कराये।

कोई भी बच्चा टीका लगने से वंचित न रहे

सभी बच्चों का टीका लगाया जायेगा और उनके बाये हाथ के अगूठा में निशान भी लगाया जायेगा और प्रमाण पत्र भी दिया जायेगा जिससे पता हो सके कोई भी बच्चा टीका लगने से वंचित न रहे। उन्होनें कहा कि अगर कोई भी बच्चा टीकाकरण से वंचित रहता है तो उसकी सूचना अभिभावक एंव अध्यापक के माध्यम से की जा सकती है जिससे कि उस छूटे हुये बच्चें को टीका लगाया जा सके।

कोई भी बच्चा टीकाकरण से वंचित न रहे

तिर्वा विधायक कैलाश राजपूत ने कहा कि इस अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये जिससे कोई भी बच्चा इस टीकाकरण से वंचित न रहे। उन्होनें कहा कि इस अभियान को जनपद में व्यापक स्तर पर चलाया जाये जिससे कि जनपद को प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त हो। उन्होनें कहा कि इस विद्यालय को देख कर बहुत ही अच्छा प्रतीत हो रहा है इससे यह प्रतीत होता है कि सरकारी विद्यालय नही निजी विद्यालय है। उन्होनें विद्यालय के अध्यापकों की इस कार्य हेतु सराहना भी की।

बचाव के लिये टीकाकरण ही एकमात्र चुनाव

उन्होनें कहा कि खसरा और रूबैला से जुडे जानलेवा परिणामों जैसे निमोनिया, दस्त, दिमागी बुखार, से बचाव के लिये टीकाकरण ही एकमात्र चुनाव है। उन्होनें बताया कि खसरा और रूबैला का टीका सभी सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों पर मुफ्त में लगाया जाता है। इस दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, अध्यापक एंव बच्चें आदि उपस्थित थे। https://www.kanvkanv.com

Continue Reading
देश2 hours ago

डीएम की पत्नी ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा-यूपी की इस एसडीएम के साथ पति के हैं अवैध संबंध

राज्य2 hours ago

अयोध्या : तेज रफ़्तार वाहन ने दो युवकों को रौंदा, मौके पर ही मौत

राज्य3 hours ago

श्रावस्ती : कई प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र निष्प्रयोज्य, स्वास्थ्य व्यवस्था सुधरे तो कैसे?

राज्य3 hours ago

कन्नौज : समझदारी दिखाएं, बच्चों का टीकाकरण करवाएं

राज्य3 hours ago

बरेली : कार्यकर्ता के घर ऑटो से पहुंचे विधायक पप्पू भरतौल

राज्य3 hours ago

बहराइच : अपराधियों की धरपकड़ में दो आरोपी गिरफ्तार

राज्य3 hours ago

बरेली शरीफ से हुआ ऐलान, ग्यारहवीं शरीफ़ 19 दिसम्बर को मनायी जाएगी

राज्य3 hours ago

बहराइच में 28 फरवरी तक चलेगा पशुगणना कार्य, होगी पशुओं की नस्लों की पहचान

राज्य3 hours ago

बरेली : हजरत-ए-दाना वली का उर्स शुरू

राज्य3 hours ago

आंवला : पहले युवक का धोखे से कर दिया खतना फिर खिलाया मांस, अब धर्मपरिवर्तन का बना रहे दबाब

राज्य3 hours ago

कन्नौज : धान खरीद केंद्र के निरीक्षण में लापता मिले केंद्र प्रभारी

राज्य4 hours ago

बलरामपुर : शांति भंग की आशंका में 6 गिरफ्तार, पुलिस ने और भी कई कार्रवाई को दिया अंजाम

राज्य4 hours ago

कन्नौज : डायट प्रवक्ता चयनित होने पर फरहत को मिली बधाइयां

राज्य4 hours ago

कन्नौज : राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस आयोजित

राज्य4 hours ago

कन्नौज : भाजपाइयों ने निकाली कमल संदेश पद यात्रा

देश6 hours ago

मोदी सरकार को बड़ी कामयाबी, विजय माल्या के प्रत्यर्पण को लंदन कोर्ट की मंजूरी

राज्य6 hours ago

श्रावस्ती : डीएम ने आवास व शौचालय की ढ़ंग से मानीटरिंग न करने पर बीडीओ को लगाई फटकार

राज्य6 hours ago

अयोध्या : ट्रेन की चपेट में आने से युवक की मौत

देश1 week ago

यूपी : बुलंदशहर में प्रदर्शनकारियों और पुलिस की भिड़ंत, इंस्पेक्टर शहीद, स्थिति तनावपूर्ण

देश1 week ago

देखें : इंस्पेक्टर की मौत का वीडियो आया सामने, घटना स्थल पर मौजूद सिपाही ने सुनाई खौफनाक कहानी

मनोरंजन4 weeks ago

देखें फोटो : पहलवान से भिड़ना राखी सावंत को पड़ा महंगा, उठाकर एेसा पटका कि पहुंच गईं अस्पताल

राज्य1 week ago

यूपी : पांच साल का बच्चा बना एक दिन का विधायक, कोतवाली का किया निरीक्षण, सुनीं शिकायतें

देश3 weeks ago

डीएम की पत्नी पहनती है छोटे कपड़े और करती है अंग्रेजी में बात, रोका तो धरने पर बैठी

देश2 weeks ago

सीएम योगी आदित्यनाथ ने हनुमानजी को बताया दलित, मिला कानून नोटिस

राज्य4 weeks ago

योगी सरकार की बड़ी तैयारी, इलाहाबाद-फैजाबाद के बाद अब बदले जाएंगे इन शहरों के नाम

देश1 week ago

छोटी सी दुकान में आयकर का छापा, मिले 300 लॉकर्स, एक महीने से हो रही नोटों की गिनती

दुनिया3 days ago

किस्मत हो तो एेसी, घर से निकली थी गोभी खरीदने वापस आई तो बन गई 1.5 करोड़ की मालकिन

वीडियो3 weeks ago

यूपी : भाजपा विधायक की दबंगई, इंस्पेक्टर को दी जूते से मारने की धमकी, एसपी नतमस्तक, देखें वीडियो

वीडियो2 weeks ago

देखें वीडियो : एेसे भी आती है मौत, स्टेज पर नाचते हुए 12 साल की लड़की ने तोड़ा दम

लाइफ स्टाइल4 weeks ago

जानिए शारीरिक संबंध बनाते समय क्या सोचते हैं महिलाएं और पुरुष, पढ़िए इस बारे क्या कहते हैं कपल्स

दुनिया3 weeks ago

ब्वॉयफ्रेंड को मारकर किए छोटे-छोटे टुकड़े फिर बिरयानी बनाकर लोगों को खिला दिया, एेसे हुआ खुलासा

राज्य3 weeks ago

अयोध्या : भारत जैसा लोकतंत्र और एकरसता पूरी दुनिया में नहीं : हाफिज उस्मान

देश4 weeks ago

पहले फौजी से फेसबुक पर की दोस्‍ती, एक मुलाकात के बाद लड़की भेजने लगी अपनी ही अश्‍लील तस्‍वीरें

राज्य3 weeks ago

यूपी : अवैध संबंध के शक में महिला हेड कांस्टेबल को पति ने चापड़ से काटा डाला, गिरफ्तार

राज्य4 weeks ago

यूपी : काम के बोझ से अवसाद में आकर डिप्टी सीएमओ ने की आत्महत्या, प्रशासन में खलबली

देश3 weeks ago

कुत्ते के साथ नशे में धुत चार युवकों ने किया गैंगरेप, खून से लथपथ छोड़कर हुए फरार

Trending