Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड : एसडीआरएफ सेनानायक तृप्ति भट्ट को मिला प्रतिष्ठित स्कॉच अवार्ड

Published

on

-सेनानायक को आज सिल्वर अवार्ड से नवाजा गया

देहरादून। वैश्विक महामारी कोरोना संकट काल के दौरान अपने उत्कृष्ट सामाजिक कार्यों के लिए वर्ष 2020 के स्कॉच अवार्ड की दौड़ में सम्मिलित एसडीआरएफ, उत्तराखंड पुलिस को आज सिल्वर मेडल से नवाजा गया।

कोरोना महामारी के दौरान अपने बेहतरीन मानवीय कार्यों से राष्ट्रीय स्तर पर द्वितीय स्थान प्राप्त कर एसडीआरएफ उत्तराखण्ड पुलिस ने जहां राज्य का गौरव बढ़ाया वहीं अल्प समय में ही राष्ट्रीय पटल पर अपनी अमिट छाप डालकर अपनी स्थापना की सार्थकता को भी सिद्ध किया है।

राष्ट्रीय स्तर पर हुए डिजिटल सेमिनार के दौरान एसडीआरएफ की सेनानायक तृप्ति भट्ट ने अपने सम्बोधन में कोरोना संकट काल में एसडीआरएफ उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा किये कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सम्पूर्ण लॉकडाउन एवं अनलॉक प्रक्रिया के दौरान एसडीआरएफ ने छह लाख से अधिक प्रवासियों को अनेक राज्यों से सुरक्षित उत्तराखण्ड लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके साथ ही 70 हजार से अधिक स्टेकहोल्डर्स को प्रशिक्षण एवं कोरोना से बचाव सम्बन्धी जानकारी भी प्रदान की। एसडीआरएफ उत्तराखण्ड पुलिस बल राष्ट्र में प्रथम बल बना, जिसने कोरोना टेस्टिंग प्रशिक्षण प्राप्त कर टेस्टिंग आरंभ की।

स्कॉच अवार्ड की शुरुआत वर्ष 2003 में की गई थी। यह पुरस्कार भारत को बेहतर राष्ट्र बनाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने वाले व्यक्तियों, परियोजनाओं तथा संस्थानों को प्रदान किया जाता है। यह किसी स्वतंत्र संगठन (स्कॉच फाउंडेशन) द्वारा प्रदान किया जाने वाला देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह पुरस्कार स्वास्थ्य, पुलिस, गवरनेंस, वित्तीय, सामाजिक समावेशन इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के लिए प्रदान किया जाता है। एक्सपर्ट पैनल के पर्यवेक्षण में चयन प्रक्रिया विभिन्न 6 चरणों से दो महीने की लंबी चयन प्रक्रिया से गुजरती है, इसलिए इसे गुणवत्ता एवं पारदर्शिता के मानक में यह प्रतिष्ठित पुरस्कार खरा माना जाता है ।

इस वर्ष पुलिस विभाग के द्वारा कोरोना में किये गए उत्कृष्ट कार्यों को राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न चरणों मे अनेक प्रविष्टियां प्राप्त हुईं। इनमें पश्चिम मेदिनीपुर जिला पुलिस आंध्र प्रदेश पुलिस विभाग, केरल राज्य पुलिस, राजकोट राज्य पुलिस, तेलंगाना राज्य पुलिस, गुंटूर रूरल जिला पुलिस कुरनूल जिला पुलिस, विजयनगर जिला पुलिस, कृष्णा जिला पुलिस, चितूर जिला पुलिस, क्राइम इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट, आंध्र प्रदेश, विजयवाड़ा सिटी पुलिस, राज्य आपदा प्रतिवादन बल उत्तराखंड पुलिस, मयूर भंज जिला पुलिस, तमिलनाडु राज्य पुलिस, मध्य प्रदेश पुलिस आदि विभिन्न राज्यों/जनपदों को फाइनल राउंड में स्थान मिला।

प्रतिष्ठित स्कॉच अवार्ड विभिन्न श्रेणियों में प्रदान किया जाता है, जिस क्रम में कोरोना महामारी के दौरान उत्कृष्ट रिस्पॉन्स के लिए आंध्र प्रदेश के डीजीपी को प्रथम स्थान प्राप्त करने पर गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव नितिन रमेश गोकर्ण पुरस्कृत हुए जबकि कुपोषण से प्रभावी एवं सशक्त रूप से लड़ने के लिए प. बंगाल की शशि रंजन सहित अनेक अधिकारियों ने स्कॉच पुरस्कार प्राप्त किये। “पुलिस रिस्पांस टू कोरोना” श्रेणी में राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न राज्यों एवं जनपदों के पुलिस कार्यों के मूल्यांकन के पश्चात एसडीआरएफ, उत्तराखंड पुलिस की सेनानायक तृप्ति भट्ट को वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान उत्कृष्ट कार्यों के लिए सिल्वर मेडल प्रदान किया गया।

अन्य श्रेणियों में प. बंगाल, आंध्र प्रदेश, केरल और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) की मिशन निदेशक सोनिका को कोरोना संकट के दौरान उत्कृष्ट कार्यों के लिए प्रतिष्ठित स्कॉच अवॉर्ड के सिल्वर मेडल से सम्मानित कर सिल्वर श्रेणी में पुरस्कृत किया गया। विगत दो माह से समस्त प्रतिभागियों द्वारा 6 से अधिक चरणों में एक्सपर्ट पैनल, पियर रिव्यु, ज्यूरी मार्किंग, प्रेजेंटेशन इत्यादि विभिन्न प्रकार से मूल्यांकन किया गया। सेमिनार के अंतिम चरण में विभिन्न श्रेणियों के सर्वोत्तम प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया गया। पुरस्कारों की घोषणा देर शाम 28 अक्टूबर को की गई।

Trending