Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखण्ड : भाजपा सरकार के खिलाफ कांग्रेस बड़े आंदोलन से अख्तियार करेगी आक्रामक रुख

Published

on

पांच फरवरी से कांग्रेस ‘‘उत्तराखण्ड बचाओ देव याचना’’ यात्रा की करेगी शुरुआत 

पहले चरण में केन्द्रीय मंत्रियों को ज्ञापन और दूसरे में इंसाफ के लिए देव याचना यात्रा

तीसरे, चौथे चरण में विधानसभा और सचिवालय में तालाबंदी, पांचवे में ‘जवाब दो सरकार’ पद यात्रा  

देहरादून। उत्तराखण्ड कांग्रेस ने आगामी विधानसभा की तैयारी शुरू कर दी है। कांग्रेस भाजपा की डबल इंजन सरकार के खिलाफ अब लंबे आंदोलन के माध्यम से धारदार प्रहार करेगी। इसी के तहत कांग्रेस ‘उत्तराखण्ड बचाओ देव याचना’ यात्रा पांच चरण में प्रदेश में पद यात्रा निकालेगी। यह यात्रा राज्य के विभिन्न हिस्सों में 28 बिन्दुओं पर सरकार की विफलताओं को गिनाएगी।

नेताओं ने दी जानकारी

कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय राजीव भवन में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने महानगर कांग्रेस अध्यक्ष लालचंद शर्मा और प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी की उपस्थिति में पत्रकारों से बातचीत में यह जानकारी दी।
पूर्व मंत्री प्रसाद ने बताया कि पहले चरण की यात्रा पांच फरवरी से शुरू होगी जबकि दूसरे चारण की 15 फरवरी से 28 फरवरी तक। अगर दो चरण के यात्रा के बाद सरकार ठोस कार्रवाई नहीं की तो तीसरे और चौथे चरण की यात्रा में विधानसभा और सचिवालय में तालाबादी के साथ आक्रामक रुख के साथ सड़क पर उतरेगी। कांग्रेस को उम्मीद है कि इस यात्रा से त्रिवेन्द्र और मोदी सरकार की सच्चाई निश्चित तौर पर जनता समझेगी। इस दौरान उन्होंने प्रदेश और केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला।
उन्होंने प्रदेश की त्रिवेन्द्र सरकार के तीन सालों का कार्यकाल को विफल बताया। कहा कि लोकसभा एवं विधानसभा में भाजपा को प्रचण्ड बहुमत देकर आज राज्य की जनता अपने को ठगा महसूस कर रही है। कांग्रेस पूरे दमखम के साथ प्रदेश सरकार के कारगुजारियों को जन-जन तक पहुंचाकर जनता के हित में लड़ाई लड़ेगी। उन्होंने कहाकि प्रदेश लेकर देशभर में किसान, व्यापारी, शिक्षा व स्वास्थ्य और रोजगार का हाल बुरा है। गिरते मद्रा दर से देश संकट में पड़ा हुआ है और सरकार सरकार विकास का भ्रम फैलाकर महंगाई थोप रही है। कानून व्यवस्था का है आए लूट, हत्या और महिलाओं के दुराचार की घटनाएं सुनने को मिल रहा है।
मंत्री प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस इसी कड़ी में उत्तराखण्ड की त्रिवेन्द्र सरकार एवं केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ प्रदेश में 15 दिवसीय ‘उत्तराखण्ड बचाओ देव याचना’ यात्रा 15 फरवरी से 28 फरवरी 2020 तक प्रारम्भ होने जा रही है।

उत्तराखण्ड कांग्रेस की पांच चरणों में निकलने वाली यात्रा

1. प्रथम चरण में 5 फरवरी 2020 से 10 फरवरी 2020 तक दिल्ली में प्रधानमंत्री से लेकर केन्द्रीय मंत्रियों को ज्ञापन प्रेषित करेगी।
2. दूसरे चरण में 15 फरवरी 2020 को रामपुर तिराहा शहीद स्थल से 28 फरवरी, 2020 तक पूरे प्रदेश के 13 जनपदों के इंसाफ के देवताओं के मन्दिरों में देव याचना यात्रा। जिसका समापन 28 फरवरी को शहीद स्थल खटीमा में किया जायेगा।
3. यदि इन बिन्दुओं पर कोई कार्रवाई नहीं होती है तो तीसरे चरण में बजट सत्र में विधानसभा में तालाबन्दी की जायेगी।
4. इसके बाद चौथे चरण में उत्तराखण्ड सचिवालय में तालाबन्दी।
5. पांचवे चरण में 15 अगस्त 2020 से ‘जवाब दो सरकार’ पद यात्रा की जायेगी, जो पिथौरागढ़ के नारायण आश्रम से प्रारम्भ होकर 13 जनपदों का भ्रमण करते हुए गंगोत्री में समापन किया जायेगा।

वे निम्नलिखित बिन्दु:

1. राज्य में लागू भू अध्यादेश संशोधन विधेयक 2019 का विरोध।
2. देवस्थानम श्राइन बोर्ड विधेयक का विरोध।
3. एन.सी.सी. प्रशिक्षण अकादमी श्रीकोट माल्डा टिहरी गढ़वाल से स्थानान्तरण का विरोध।
4. गैरसैंण में भूमि क्रय भू संशोधन कानून का विरोध।
5. टी.एच.डी.सी. का एन.टी.पी.सी. को हस्तान्तरण का विरोध।
6. विभिन्न जनपदों में जिला प्राधिकरणों के गठन का विरोध।
7. गन्ना किसानों के बकाया भुगतान न किये जाने का विरोध।
8. मेडिकल काॅलेजों में फीस वृद्धि का विरोध।
9. शिक्षा विभाग के कई स्कूलों को बन्द करने का विरोध।
10. बढ़ती मंहगाई पर अंकुश न लगाये जाने का विरोध समेत कुल 28 मुद्दों और समस्याओं को लेकर अपनी पद यात्रा के विभिन्न चरणों दौरान लोगों तक पहुंचाएगी।

Trending