उत्तराखंड को मिली कोविड वैक्सीन की 1.13 लाख डोज की पहली खेप

देहरादून। उत्तराखंड में 16 जनवरी से आरम्भ होने वाले कोविड-19 वैक्सीन टीकाकरण अभियान के लिए राज्य को मैसर्स सीरम इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया से कोविड वैक्सीन की 1,13,000 डोज आज प्राप्त हो गई हैं। यह जानकारी राज्य के स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने यहां सचिवालय स्थित मीडिया सेन्टर में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में दी।

स्वास्थ्य सचिव नेगी ने बताया कि कोविड-19 वैक्सीन आज मुम्बई एयरपोर्ट से दोपहर 12ः15 पर स्पाईस जेट की फ्लाइट संख्या- एसजी 779 पर रखी गई और यह वैक्सीन देहरादून एयरपोर्ट पर 2ः45 बजे पहुंची। एयरपोर्ट से वैक्सीन को निर्धारित कोल्ड चेन प्रणाली के अन्तर्गत देहरादून स्थित राज्य केन्द्रीय औषधि भण्डार गृह में लाया गया है, जहां पर इसे वॉक-इन-कूलर में सुरक्षित रखा गया है।

केन्द्रीय औषधि भण्डार से वैक्सीन का वितरण निर्धारित मात्रा के अनुसार सभी जिला एवं रिजनल वैक्सीन भण्डारगृहों को आज सायं तक कर दिया जायेगा और वैक्सीन कल प्रातः तक सभी जनपदों के वैक्सीन भण्डारगृह में पहुंच जायेगी। राज्य के दूरस्थ जनपदों में वैक्सीन कल दोपहर तक पहुंच पायेगी।

उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड को प्राप्त 1,13,000 डोज के सापेक्ष 1,640 डोज केन्द्रीय स्वास्थ्य इकाइयों के हेल्थ केयर वर्कर, 3,450 आर्म्ड फोर्स मेडिकल सर्विसेस तथा 1,07,530 डोज राज्य के सरकारी एवं निजी स्वास्थ्य सेवाओं के हेल्थ केयर वर्कर्स के लिए उपलब्ध की जा रही है। इस प्रकार 1,12,620 वैक्सीन डोज का वितरण आज कर दिया जायेगा। वैक्सीन को प्राप्त करने के लिए सभी जनपदों के वैक्सीन वाहन राज्य मुख्यालय में पहुंच चुके हैं तथा वैक्सीन की सुरक्षित आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक वैक्सीन वाहन के साथ एक-एक पुलिस एस्कॉर्ट वाहन भी उपलब्ध कराया गया है।

नेगी ने बताया कि वैक्सीन के साथ-साथ प्रत्येक डोज के लिए उतनी ही मात्रा में ऑटो डिस्पोजेबल सिरिंज भी उपलब्ध कराई जा रही हैं। वैक्सीनेशन के लिए प्रत्येक लाभार्थी को एक वैक्सीनेशन कार्ड दिया जायेगा, जिसकी आपूर्ति भी वैक्सीन के साथ की जा रही है। वैक्सीन की अगली खेप शीघ्र ही राज्य को मिलने की सम्भावना है। वैक्सीनेशन चरणबद्ध तौर पर किया जायेगा। 16 जनवरी से हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन दी जायेगी, जिसमें केन्द्रीय स्वास्थ्य संस्थान, मिलिट्री अस्पताल एवं राज्य के सरकारी तथा निजी स्वास्थ्य इकाइयों पर तैनात समस्त हेल्थ केयर वर्कर्स शामिल हैं।