उत्तराखंड: राज्यसभा के सदस्य अनिल बलूनी के इस बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कसा तंज

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इगास को लेकर राज्यसभा के सदस्य अनिल बलूनी के इस बयान पर कसा तंज। उन्होंने कहा कि इगास हमारी सांस्कृतिक विविधता व आध्यात्मिक परंपराओं का लोक पर्व है। इसके साथ कई कथानक जुड़े हुए हैं। बलूनी ने अपने गांव में इगास मनाकर इसे सुर्खियों में लाने का काम किया। अनिल बलूनी पर निशाना साधते हुए कहा इगास को लेकर जितना ऊंचा फेंका है, वहां तक मुख्यमंत्री भी नहीं फेंक नहीं सकेंगे।

 
UK
उत्तराखंड: राज्यसभा के सदस्य अनिल बलूनी के इस बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कसा तंज

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इगास को लेकर राज्यसभा के सदस्य अनिल बलूनी के इस बयान पर कसा तंज। उन्होंने कहा कि इगास हमारी सांस्कृतिक विविधता व आध्यात्मिक परंपराओं का लोक पर्व है। इसके साथ कई कथानक जुड़े हुए हैं। बलूनी ने अपने गांव में इगास मनाकर इसे सुर्खियों में लाने का काम किया। अनिल बलूनी पर निशाना साधते हुए कहा इगास को लेकर जितना ऊंचा फेंका है, वहां तक मुख्यमंत्री भी नहीं फेंक नहीं सकेंगे।

टिहरी गढ़वाल निवासी अमेंद्र बिष्ट द्वारा सचिव विधानसभा को दिए गए पत्र में कहा गया है कि दोनों निर्दलीय सदस्य भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर चुके हैं। यह भारतीय संविधान के प्रविधानों के विरुद्ध है। यह दल-बदल कानून के अंतर्गत भी आता है। ऐसे में दोनों विधायकों की सदस्यता को समाप्त किया जाए।

उत्तराखंड के छह दलों को मिला चुनाव चिह्न

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने छह गैर मान्यता प्राप्त दलों को चुनाव चिह्न दिया हैं। इन छह गैर मान्यता प्राप्त दलों ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर सभी 70 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए चुनाव चिह्न देने का अनुरोध किया था,