Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड दलित शोषित विकास मंच ने नगर पार्षदों के इस्तीफे की मांग को लेकर दिया धरना

Published

on

ऋषिकेश। नगर निगम में बाबासाहेब आंबेडकर की मूर्ति बदले जाने की आवाज न उठाए जाने पर उत्तराखंड दलित शोषित विकास मंच ने गुरुवार को नगर पार्षदों के इस्तीफे की मांग को लेकर माया कुण्ड मे धरना दिया।

उत्तराखंड दलित शोषित विकास मंच के प्रदेश अध्यक्ष जयपाल जाटव के नेतृत्व में दिए गए धरने में उपस्थिति को संबोधित करते हुए जाटव ने कहा कि ऋषिकेश नगर निगम में करीब सात से आठ पार्षद अनुसूचित जाति के कोटे से जीत कर आए हैं। फिर भी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को खंडित हुए दो माह से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी नगर निगम प्रतिमा नहीं बदल रहा है।

साथ ही जो अनुसूचित जाति से के कोटे से जीतकर पार्षद आए हैं, वह भी चुप हैं जबकि उनका कर्तव्य बनता है कि डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की खंडित प्रतिमा हटवा कर नई प्रतिमा लगाने के लिए नगर निगम में जोर शोर से इस मुद्दे को उठाते मगर इन पार्षदों ने बाबा साहेब की प्रतिमा खंडित होने के बाद भी प्रतिमा बदलवाने के लिए कुछ नहीं किया जो गलत है।

उन्होंने कहा कि अब मंच के कार्यकर्ता हर सुरक्षित वार्ड में धरना प्रदर्शन कर सुरक्षित बाढ़ से जीते पार्षद का इस्तीफा मांगेंगे। साथ ही यह भी बताया कि उनसे जनरल वार्ड से चुनाव जीत कर आए अगर आरक्षण का फायदा लेना है, तो कम से कम बाबासाहेब के लिए तो बोले कार्यक्रम के तहत पहला धरना प्रदर्शन वार्ड नंबर 7 सुरक्षित मे आयोजित कर पार्षद का इस्तीफा मांगा गया।

धरने का संचालन रमेश राम ने किया। इस मौके पर पूर्व सभासद सुनील गोस्वामी जतिन जाटव, कुमकुम साहनी, सकल साहनी, अशोक विश्वकर्मा, सुलेख चंद, प्रवीनजाटव, विनोद चौहान, आदि मौजूद थे।

Trending