उत्तराखंड: चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटी,श्रद्धालुओं को मानने होंगे ये नियम

चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटा ली गई है। नैनीताल हाईकोर्ट ने कुछ पाबंदियों के साथ रोक हटाई है।
 
chardham yatra
चारधाम यात्रा

नैनीताल। चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटा ली गई है। नैनीताल हाईकोर्ट ने कुछ पाबंदियों के साथ रोक हटाई है। सरकार ने कोर्ट से रोक हटाने की मांग की थी। कोरोना के चलते 28 जून को इस पर हाईकोर्ट ने रोक लगाई थी। चारधाम यात्रा आने वाले यात्रियों को 72 घंटे पहले की कोविड-निगेटिव रिपोर्ट लाना जरूरी होगा।

श्रद्धालुओं को देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल और देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। हाईकोर्ट ने अपने आदेश में चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों में होने वाली चारधाम यात्रा के दौरान जरूरत के हिसाब से पुलिस फोर्स लगाने को कहा है। इसके अलावा भक्तों को किसी भी कुंड में स्नान करने की इजाजत नहीं होगी।

हाईकोर्ट ने 26 जून 2021 को कोविड की वजह से चार धाम यात्रा पर रोक लगाई थी। इस आदेश के खिलाफ सरकार ने सर्वोच्च न्यायलय में एसएलपी दायर की। सर्वोच्च न्यायलय ने इस आदेश पर कोई रोक नही लगाई। अब सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से एसएलपी वापस ले ली है। सरकार ने राज्य में कोविड के केस कम होने, एसएलपी वापस लेने का हवाला देते हुए कोविड के नियमो का अनुपालन करते हुए यात्रा अनुमति की याचना की। सुनवाई के बाद कोर्ट ने 26 जून 2021 के आदेश पर लगी रोक हटा दी। सच्चिदानन्द डबराल ने यह जनहित याचिका बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों की राज्य की सीमा पर ही कोविड के जांच के लिए दायर की गई थी। कोर्ट ने जनहित याचिका मे कुम्भ मेला और चारधाम यात्रा का भी संज्ञान लिया।