उत्तराखंड: पर्यटन कारोबार पर पड़ी कोरोना की दूसरी लहर की मार , कैंसिल हो रही एडवांस बुकिंग ने बढ़ाई कारोबारियों की मुसीबत

देहरादून। कोरोना की दूसरी लहर सिर्फ लोगों की सेहत पर ही नहीं बल्कि उनके कारोबार की सेहत पर भी असर डालने लगी है। उत्तराखंड में को कोरोना की इस दूसरी लहर के कारण फिर बड़ा झटका लगा है। वायरस के बढ़ते संक्रमण से डरे सहमे पर्यटक अपनी एडवांस बुकिंग कैंसिल करा रहे है। इसके चलते पर्यटन इंड्रस्ट्री से जुड़े लोगों के माथे पर बल पड़ना शुरू हो गया है।

लॉकडाउन के असर से तबाह हुई उत्तराखंड की पर्यटन इंड्रस्ट्री अभी संभलना शुरू ही किया था कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने उनके सामने फिर संकट खड़ा कर दिया है। नैनीताल से लेकर मसूरी तक एडवांस बुकिंग कैंसिल होने का सिलसिला शुरू हो गया है। रामनगर, भीमताल में भी बड़ी संख्या में लोगों ने बुकिंग निरस्त करवाई है। पर्यटक रोज कोविड नियमों की सख्ती का हवाला देकर एडवांस बुकिंग कैंसिल करा रहे हैं। कारोबारियों को डर है कि चारधाम यात्रा पर भी इसका असर पड़ सकता है।

नैनीताल के होटल कारोबारियों के अनुसार नई गाइडलाइन के बाद 40 फीसदी तक बुकिंग रद हो गई हैं। मसूरी में एडवांस बुकिंग करा चुके 35 फीसदी लोगों ने उत्तराखंड आने से तौबा कर ली है।

इनको लगा बड़ा झटका

पर्यटन कारोबार गिरने से सबसे अधिक नुकसान होटल, रेस्टोरेंट, फड़ कारोबारियों और टैक्सी चालकों को हुआ है। नैनीताल में नाव चलाने वाले, स्ट्रीट वेंडर्स सीधे तौर पर प्रभावित हो रहे हैं। नाव चालक एसोसिएशन सचिव नरेंद्र चौहान ने बताया कि बीते दो दिनों में चार हजार पर्यटकों ने नौकायन किया।

कारोबारियों की उम्मीद को झटका

उत्तराखंड होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी ने बताया कि अप्रैल में तेजी से बुकिंग कैंसिल हो रही हैं। आगे के लिए भी बुकिंग नहीं मिल रही हैं। ये चिंता का विषय है। इसका असर आगामी चारधाम यात्रा पर भी पड़ेगा। पिछले साल नुकसान उठाने वाले कारोबारियों को इस साल से बड़ी उम्मीद थी।

Previous articleRedmi Note 10 Open Sale में हुआ उपलब्ध, ग्राहकों को नहीं करना पड़ेगा इंतजार
Next articleकासिम अकरम बने पाकिस्तानी अंडर-19 क्रिकेट टीम के कप्तान