Connect with us

उत्तराखंड

जुलाई से चारधाम यात्रा शुरू करने पर भड़के तीर्थ पुरोहित

Published

on

  • नाराजगी
  • बदरीनाथ युवा पुरोहित संगठन ने सरकार के फैसले पर जताया रोष
  • कोरोना को देखते चारधाम यात्रा स्थगित करने की संगठन ने की मांग

नई टिहरी। श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन ने चारधाम यात्रा को जुलाई से शुरू करने का कड़ा विरोध किया है। संगठन ने उत्तराखंड की भाजपा सरकार से प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए यात्रा को पूरी तरह से स्थगित रखे जाने की मांग की है।

सोमवार को संगठन अध्यक्ष प्रवीन ध्यानी, सचिव श्रीकांत बडोला ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड तीर्थपुरोहितों व हक हकूकधारियों की सहमति के बिना चारधाम यात्रा शुरू कर रहा है, जिसका सभी युवा तीर्थपुरोहित विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में प्रतिदिन कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं, सरकार तमाम कोशिशों के बावजूद उन पर काबू पाने में सफल नहीं हो पा रही है। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा के दौरान कई ऐसे जिले भी आते हैं, जहां कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है।

संगठन ने मांग की है कि यात्रियों से पहले सरकार तीर्थपुरोहितों व हक हकूकधारियों को धामों की मौजूदा परिस्थितियों का जायजा लेने के लिए जाने की अनुमति देनी चाहिए।

यात्रियों को धामों में पूजा अर्चना, खाने रहने व यातायात सुविधा आदि के बारे में सरकार ने स्थिति स्पष्ट नहीं की है। साथ ही कपाट खुलने से अभी तक किसी भी धाम में यात्रियों के लिए कोई भी इंतजाम नही बने हैं। इसका जिम्मा जिन तीर्थपुरोहितों, होटल व ट्रस्ट संचालकों का रहा है, उन्हें सरकार ने अभी तक धामों मे जाने की अनुमति नहीं दी है।

संगठन ने सरकार से जुलाई में यात्रा शुरू करने के निर्णय पर विचार करने की मांग की है। विरोध करने वालों में उपाध्यक्ष आशीष कोटियाल, कोषाध्यक्ष प्रफुल्ल पंचभइया, गौरव पंचभइया, प्रदीप भट्ट, सतीश राजपुरोहित, राकेश कर्नाटक, हरिओम उनियाल औ राकेश रैवानी आदि शामिल रहे।

Trending