देहरादून में घर-घर जाकर कुत्तों का रेजिस्ट्रेशन करेंगे नगर निगम के अफसर

उत्तराखंड की राजधानी में नगर निगम के अफसर घर-घर जाकर कुत्तों को खोजेंगे और उनका पंजीकरण करेंगे। अगर किसी कुत्तों का पंजीकरण नहीं हुआ तो मालिक जुर्माना भी लगाया जाएगा।
 
देहरादून में घर-घर जाकर कुत्तों का रेजिस्ट्रेशन करेंगे नगर निगम के अफसर

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी में नगर निगम के अफसर घर-घर जाकर कुत्तों को खोजेंगे और उनका पंजीकरण करेंगे। अगर किसी कुत्तों का पंजीकरण नहीं हुआ तो मालिक जुर्माना भी लगाया जाएगा। दरअसल देहरादूण में नगर निगम की चेतावनी के बावजूद अपने पालतू कुत्ते का पंजीकरण नहीं करा रहे हैं. जिसके बाद अब नगर निगम के अफसर घर घर जाकर कुत्तों की खोजेंगे और रजिस्ट्रेशन करेंगें। अगर रेजिस्ट्रेशन नहीं हुआ तो पहली बार जुर्माना 5 सौ रुपये है और दूसरी बार जुर्माना 5000 रुपये लगाया जा सकता है। 
 
नगर निगम के मुताबिक देहरादून में पिछले करीब चार हजार कुत्तों का पंजीकरण हुआ था, जिसमें इस साल सिर्फ 800 कुत्तों का रजिस्ट्रेशन रिन्यू हुआ है. ऐसी स्थिति में अब निगम ने आगामी सप्ताह से कुत्ते मालिकों के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में है. इसके लिए नगर निगम ने चार टीमें बनाई हैं. जो सुबह-शाम शहर में घूमकर पालतू कुत्तों की तलाश करेंगी और रजिस्ट्रेशन न होने की स्थिति में संबंधित मालिक पर पांच सौ रुपये जुर्माना लगाया जाएगा. वहीं दूसरी बार पकड़े गए तो 5000 रुपये का चालान होगा और तीसरी बार नगर निगम कुत्ते के मालिक पर मुकदमा दर्ज करेगा.

असल में नगर निगम ने 2014 में पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन शुरू किया था और तब महज 65 कुत्तों का ही रजिस्ट्रेशन हुआ था. लेकिन पिछले साल यह संख्या चार हजार तक पहुंच गई है. लेकिन इस साल महज 8 सौ लोगों ने ही अपने पालतू कुत्तों के रजिस्ट्रेशन को रिन्यू कराया है, वहीं नगर निगम का कहना है कि निगम के क्षेत्र में पालतू कुत्तों की संख्या 30 हजार के आसपास है. नगर निगम पालतू कुत्तों के पंजीकरण के लिए सिर्फ 200 रुपये खर्च करने पड़ेंगे।