Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड के पूर्व सह प्रान्त संघचालक रोशन लाल पंचतत्व में विलीन, CM त्रिवेन्द्र सिंह ने दी श्रद्धांजलि

Published

on

देहारादून। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) उत्तराखंड के पूर्व सह प्रान्त संघचालक रोशन लाल शनिवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। प्रेमनगर स्थित श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनके बड़े बेटे मनीष ने चिता को मुखाग्नि दी। रोशन लाल का 81 वर्ष में शुक्रवार को निधन हो गया था। वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। मुख्यमंत्री ने शनिवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय पहुंचकर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी है।
सुबह उनके निवास स्थान नौ गढ़वाल कालोनी निकट साईं लोक से उनका पार्थिव देह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रान्त कार्यालय 15-तिलक मार्ग पर स्वयंसेवकों के अन्तिम दर्शन के लिए लाया गया। उत्तराखंड के प्रान्त प्रचारक युद्धवीर, प्रान्त कार्यालय प्रमुख दशरथ, दून महानगर कार्यवाह विशाल जिन्दल आदि बड़ी संख्या में स्वयंसेवकों ने रोशन लाल के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
पूर्व सह प्रान्त संघचालक रोशन लाल पिछले कई दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे। उनकी पत्नी का पहले ही देहावसान हो गया था। उनके दो बेटे मनीष और दीपक, एक बेटी मीनाक्षी हैं। अस्वस्थता और बढ़ती उम्र के बावजूद भी संघ कार्यों में उनका लगाव लोगों के लिए कौतुहल बना रहता था। वे संघ के हर कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते थे। उनका सरल और सौम्य व्यवहार स्वयंसेवकों खासकर विद्यार्थियों के लिए चर्चा का विषय बना रहता था।

मुख्यमंत्री ने आरएसएस कार्यालय पहुंकर दी श्रद्धांजलि

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को तिलक रोड स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय पहुंचकर रोशन लाल के पार्थिव देह पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि रोशनलाल एक समर्पित कार्यकर्ता थे। उन्होंने सरकारी सेवा के साथ ही सामाजिक सेवा के क्षेत्र में भी अहम योगदान दिया। इस अवसर पर सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी, विधायक  हरबंस कपूर, खजान दास, गणेश जोशी, मेयर सुनील उनियाल गामा ने भी रोशन लाल को श्रद्धांजलि दी। https://kanvkanv.com

उत्तराखंड

Rawat cabinet / उत्तराखंड के सरकारी कर्मचारियों को आयुष्मान योजना का लाभ

Published

on

By

देहरादून। उत्तराखंड कैबिनेट की शुक्रवार को यहां हुई बैठक में राज्य सरकार के कर्मचारियों को भी आयुष्मान योजना के दायरे में लाने के फैसले पर मुहर लग गई। हालांकि बैठक में अटल आयुष्मान योजना में कुछ बदलाव किए गए हैं। इसके तहत सरकारी अस्पताल की रेफरल प्रक्रिया खत्म कर दी गई है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट की बैठक में कुल 14 प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। उत्तराखंड साक्षी संरक्षण अधिनियम 2020 को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई, जिसके तहत उत्तराखंड में मृत्यु दंड समेत गंभीर अपराधों के गवाहों को सुरक्षा दी जाएगी। इसके अलावा कैबिनेट बैठक में भारत सरकार द्वारा राज्य में साइंस सिटी में स्वीकृत सलाहकार पद पर जीएस रौतेला को सलाहकार के रूप में नियुक्ति को मंजूरी दी गई। गौरतलब है कि जीएस रौतेला राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद में काम कर चुके हैं। उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए की गई है।

इन फैसलों पर लगी मुहर

.कैबिनेट ने संविदा कृषि अधिनियम 2018 को राज्य में लागू करने के फैसले पर भी मुहर लगाई। इसके तहत अब किसानों के साथ कॉन्ट्रैक्ट कर अधिनियम के तहत खेती की जाएगी।
.उत्तराखंड कृषि उत्पादन मंडी अधिनियम 2011 की जगह पर केंद्र सरकार द्वारा बनाया गया कृषि उपज एवं पशुधन विपणन अधिनियम 2017 प्रदेश में लागू किया जाएगा। किसानों के लिए मंडी में फसल पहुंचाने के लिए अनिवार्यता खत्म होगी। किसान अपने दामों पर कहीं भी फसल बेच सकेंगे। मंडी परिषद के अध्यक्ष की नियुक्ति सरकार द्वारा नहीं होगी। इसके तहत मंडी परिषद के अध्यक्ष के लिए विधिवत निर्वाचन होगा।
.अटल आयुष्मान योजना में भी कुछ बदलाव भी किए गए हैं, जिसके तहत सरकारी अस्पताल की रेफरल प्रक्रिया को खत्म कर दिया गया है। इसके साथ ही स्टेट हेल्थ एजेंसी की जगह अब स्टेट हेल्थ अथॉरिटी नाम दिया गया है। आयुष्मान योजना की दिक्कतों को दूर करने के लिए दस कॉल सेंटरों का गठन किया जाएगा, जिसके माध्यम से फीडबैक लेकर लोगों की दिक्कतें जानी जाएंगी। स्वास्थ्य बीमा के तहत सरकार कर्मचारियों के ग्रेड-पे के हिसाब से महीने में प्रीमियम लेगी। वेतमान के हिसाब से 250, 450, 650, 1000 रुपये का प्रीमियम लिया जाएगा।
.उत्तराखंड साक्षी संरक्षण अधिनियम 2020 को मंजूरी दी गई। इसके तहत अब प्रदेश में गवाहों को सुरक्षा मिलेगी। मृत्यु दंड समेत तमाम बड़े अपराधों के गवाहों के इसके तहत सुरक्षा देने का प्रावधान किया गया है।
.एसडीआरएफ में पुलिस के जवानों के डेपुटेशन की अविध पांच साल से बढ़ाकर सात साल की गई।
.कैबिनेट ने मेगा इंडस्ट्री इन्वेस्टमेंट नीति 2015 में संसोधन पर मुहर लगाई है। नकारात्मक सूची (निगेटिव लिस्ट) में शामिल उत्पादों पर अब छूट नहीं मिलेगी। तंबाकू, पान मसाला, सीमेंट, पॉलीथीन आदि पर छूट अब नहीं मिलेगी। हालांकि पहले से स्थापित उत्पादों पर पांच साल के लिए छूट जारी रहेगी।
.मेगा टेक्सटाइल पार्क पॉलिसी की धारा नौ में संशोधन को मंजूरी दी गई। 2021 की जगह 2023 तक पॉलिसी बढ़ाई गई है।
.पंचायती राज एक्ट 2016 में संशोधन किया गया है। धारा दो में ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत को परिभाषित किया गया है।
.आदि बद्री से लगी जमीन को पार्किंग के लिए भारतीय पुरातत्व विभाग को सरकार द्वारा निःशुल्क देने को भी मंजूरी दी गई।
.लोक निर्माण विभाग अब जो नई सड़कें बनाएगा, वह 500 मीटर लंबी और तीन मीटर चौड़ी हो सकेंगी।
.162 कब्रिस्तान की चहारदिवारी बनाने के लिए एक साल समय बढ़ाया गया।
.उत्तराखंड उपकर अधिनियम 2015 के अंतर्गत विक्रय कीमत में संशोधन किया गया।

.स्टार्टअप नीति 2018 में संशोधन को हरी झंडी दी गई।

Continue Reading

उत्तराखंड

उत्तराखंड में बदलेगा मौसम, अगले दो दिन बारिश और बर्फबारी के आसार

Published

on

By

देहरादून। उत्तराखंड में शनिवार से एक बार फिर मौसम के करवट बदलने के आसार हैं। इस दौरान मैदानी इलाकों में बारिश, ओलावृष्टि और ऊंची पर्वतीय चोटियों पर बर्फबारी होने की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार तीन हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी होने की सम्भावना है।

फिलहाल शुक्रवार को सूबे के कई जिलों में आसमान में बादल छाए हुए हैं। हालांकि कई जिलों में चमकदार धूप भी खिली हुई है। देहरादून और आसपास के इलाकों में आज सुबह आसमान बादलों से पूरी तरह आच्छादित था लेकिन दिन चढ़ने के साथ ही चमकदार धूप निकल आई। पहाड़ों की रानी मसूरी में बीती रात से काले बादलों ने अपने आगोश में ले रखा था, जिससे तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई। कोहरे की वजह से दृश्यता भी कम रही। इसके कारण वाहन चालकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शीत लहर और कोहरे के चलते स्थानीय लोग फिर घरों में कैद होने को मजबूर हो गए।

मौसम विभाग के बुलेटिन के अनुसार अगले दो दिन गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के ज्यादातर इलाकों में गरज और चमक के साथ बारिश हो सकती है। गढ़वाल के कई क्षेत्रों में आज रात को भी बारिश हो सकती है। ओले भी गिर सकते हैं। विभाग ने तीन हजार मीटर और उससे अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फ गिरने की संभावना जताई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार आज शाम से मौसम में बदलाव होने लगेगा। देहरादून समेत ज्यादातर क्षेत्रों में शुक्रवार शाम से बादल छा सकते हैं। रात को और शनिवार को कई जगह गरज और चमक वाले बादलों के साथ दो से तीन दौर की बारिश हो सकती है।

उत्तराखंड में एक मार्च को भी आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। कुछ स्थानों पर गरज और चमक के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है। ढाई हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी होने के आसार हैं। दो मार्च को भी आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। उस दिन उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ जनपदों में गरज चमक के साथ हल्की बारिश या बर्फबारी हो सकती है। राज्य के अन्य इलाकों में मौसम सामान्य तौर पर शुष्क रहेगा।

Continue Reading

उत्तराखंड

उत्तराखंड में हर शनिवार होने वाली वकीलों की हड़ताल अवैध करार

Published

on

By

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड के तीन जिलों देहरादून, हरिद्वार और उधम सिंह नगर में हर शनिवार को होने वाली वकीलों की हड़ताल को अवैध करार दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीओआई) और उत्तराखंड बार काउंसिल से हड़ताल करने वाले वकीलों पर कार्रवाई करने के लिए कहा है। उल्लेखनीय है कि पिछले 35 साल से यहां के वकील हर शनिवार को किसी न किसी वजह से हड़ताल करते हैं। इससे अदालती काम-काज का नुकसान होता है।

Continue Reading

Trending