Connect with us

उत्तराखंड

राज्यपाल पहुंची दून अस्पताल, डॉक्टरों, नर्सों और मरीजों का बढ़ाया हौसला

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य गुरुवार को कोरोना से सम्बंधित व्यवस्थाओं का जायज़ा लेने दून अस्पताल पहुंचीं। उन्होंने वहां वरिष्ठ चिकित्सकों और स्टाफ़ से व्यवस्थाओं और सुविधाओं की जानकारी ली। राज्यपाल ने ओपीडी और ऐसे मरीज़ों की व्यवस्थाओं के बारे में भी जानकारी ली, जो कोरोना संक्रमण से प्रभावित नहीं हुए हैं।

मरीजों की असली वैक्सीन प्रेम है

इस दौरान उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना मरीज़ों के लिए सबसे कारगर दवा सोशल वैक्सीन है अर्थात प्रेम और सहानुभूति से उनका इलाज किया जाए। राज्यपाल ने आईसीयू में भर्ती कोरोना मरीज़ों से वीडियो काल पर बात की। उन्होंने मरीज़ों का मनोबल बढ़ाया। राज्यपाल ने अस्पताल की नर्सों का उत्साह बढ़ाते हुए उनसे उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने अस्पताल प्रबंधन को निर्देश दिए कि नर्सों के हितों और उनकी सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाय।

सख़्त मॉनिटरिंग के निर्देश

राज्यपाल ने कोरोना वार्ड से निकलने वाले कूड़े के निस्तारण के बारे में भी जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि कूड़ा बहुत सावधानी के साथ एकत्र कर रूड़की के कूड़ा दहन संयंत्र में जलाने के लिए भेजा जाता है। राज्यपाल ने कूड़ा निस्तारण की सख़्त मॉनिटरिंग के निर्देश देते हुए कहा कि इसमें कोई भी लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

अफसरों से जाना व्यवस्था का हाल

राज्यपाल ने अस्पताल की मौजूदा सुविधाओं और व्यवस्थाओं पर विस्तृत जानकारी प्राप्त की। उन्होंने इसके बाद ग्राफ़िक एरा में बनाए गए एकांतवास केंद्र के बाहरी परिसर का दौरा किया और वहां तैनात अधिकारियों से व्यवस्थाओं की जानकारी ली।

Trending