चारधाम यात्रा पर जा रहे श्रद्धालुओं को मिल सकती है राहत, पढ़िए पूरी खबर

उत्तराखंड सरकार केदारनाथ, बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन व्यवस्था में राहत दे सकती है। वहीं, विभिन्न पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की बाध्यता को गाइडलाइन से हटाने का प्रस्ताव बनाने को कहा गया है। यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव आनंदबर्द्धन ने यह निर्देश दिए है

 
चारधाम यात्रा पर जा रहे श्रद्धालुओं को मिल सकती है राहत, पढ़िए पूरी खबर  

देहरादून। उत्तराखंड सरकार केदारनाथ, बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन व्यवस्था में राहत दे सकती है। वहीं, विभिन्न पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की बाध्यता को गाइडलाइन से हटाने का प्रस्ताव बनाने को कहा गया है। यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव आनंदबर्द्धन ने यह निर्देश दिए है। देवस्थानम बोर्ड और स्मार्ट सिटी पर पंजीकरण के मानक, शर्तें, अभिलेख लगभग समान हैं।

ऐसे में यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए देवस्थानम बोर्ड के ई-पास होल्डर को स्मार्ट सिटी के पोर्टल पर पंजीकरण की बाध्यता को एसओपी से हटाए जाने पर विचार किया जाए। देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट, पोर्टल खोलने में आ रही समस्या का तत्काल निस्तारण किया जाए। धामों के चेक प्वाइंट पर ई-पास की चेकिंग के लिए क्यूआर कोड की व्यवस्था की जाए। 

बोर्ड के पोर्टल पर यात्रियों के पंजीकरण को वन फोन नंबर, वन बुकिंग, वन आधार नंबर की व्यवस्था की जाए। धामों में प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित किया जाए। मंदिर खुलने के निर्धारित समय के अंतर्गत धाम एवं मंदिर परिसर की वास्तविक क्षमता का आकलन वीडियोग्राफी सहित उपलब्ध कराया जाए। सुनिश्चित किया जाए कि ई पास जारी करने व ई-पास की चेकिंग सरल की जाए। इससे तीर्थयात्रियों को ई-पास को पंजीकरण कराने में किसी तरह की असुविधा न हो। बैठक में सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर, सीईओ देवस्थानम बोर्ड रविनाथ रमन आदि मौजूद रहे।

कोर्ट से यात्रियों की संख्या बढ़ाने का अनुरोध करेंगे:हाईकोर्ट में अंतरिम एप्लीकेशन दायर करते हुए तत्काल यात्रियों की प्रतिदिन दर्शन की अनुमन्य संख्या को बढ़ाए जाने हेतु अनुरोध किया जाए। ताकि यात्रियों की समस्या दूर हो सके।