चारधाम यात्रा की तय तारीख से पहले कर सकेंगे दर्शन, रजिस्ट्रेशन कराना जरुरी

केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा के लिए श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन किये हुए यात्री दो दिन पहले ही दर्शन कर सकते हैं। एक दिन में तय संख्या से कम यात्रियों के चारधाम पहुंचने के बाद यह फैसला लिया गया है। हाईकोर्ट ने बदरीनाथ में 1000, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 तीर्थयात्रियों को दर्शन की इजाजत दी है।

 
चारधाम यात्रा की तय तारीख से पहले कर सकेंगे दर्शन, रजिस्ट्रेशन कराना जरुरी 

देहरादून। केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा के लिए श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन किये हुए यात्री दो दिन पहले ही दर्शन कर सकते हैं। एक दिन में तय संख्या से कम यात्रियों के चारधाम पहुंचने के बाद यह फैसला लिया गया है। हाईकोर्ट ने बदरीनाथ में 1000, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 तीर्थयात्रियों को दर्शन की इजाजत दी है। लेकिन देवस्थानम बोर्ड से ई-पास लेने वाले सभी यात्री दर्शन को नहीं पहुंच रहे हैं।

इसलिए अब सरकार ने नियमों में बदलाव किया है। सचिव धर्मस्व एवं तीर्थाटन हरिचंद्र सेमवाल की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि यदि किसी धाम में एक दिन के लिए तय सीमा में श्रद्धालु नहीं पहुंचते तो ऐसे तीर्थ यात्रियों को दर्शन का मौका दिया जाएगा जिन्होंने आगे के लिए पंजीकरण कराया है। हालांकि एक दिन में धाम में दर्शन करने वालों की सीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इस संदर्भ में गढ़वाल आयुक्त व सीईओ देवस्थानम बोर्ड रविनाथ रमन ने चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी के डीएम और एसपी को कार्रवाई के निर्देश जारी कर दिए हैं। 

ऐसे कराएं रेजिस्ट्रेशन 

चारधाम यात्रा को उत्तराखंड से बाहर के श्रृद्धालुओं को देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल http://smartcitydehradun.uk.gov.in  में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। ई पास को देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट www.devasthanam.uk.gov.in या http:// badrinah- Kedarnath.uk.gov.in  पर भी रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है। प्रत्येक श्रद्धालु को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीन की डबल डोज लगी होने का सर्टिफिकेट जमा करना है। उत्तराखंड प्रदेश के लोगों को स्मार्ट सिटी पोर्टल में पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है।