Connect with us

Coronavirus

कोरोना: उत्तराखंड में नहीं थम रहे केस, 43 नए ​मामले मिले

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना के केस थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। बुधवार को यहां 43 नए मामले समाने आए। इसके साथ ही राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1985 हो गई है। हालांकि आज 14 कोरोना मरीज स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज भी किए गए हैं।

राज्य के कोविड-19 कंट्रोल रूम की ओर से बुधवार को जारी हेल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि आज कोरोना जांच में 40 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 1985 हो गई है। इस बीच 13 मरीज जो पॉजिटिव पाए गए हैं, वह रिपोर्ट आने से पहले ही राज्य से बाहर जा चुके हैं और 25 कोरोना संक्रमित मरीज अब तक दम तोड़ चुके हैं। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने उनकी मौत की वजह पहले से उन असाध्य बीमारियों को बताया है, जिनसे वे पहले से पीड़ित थे।

इन जिलों में मिले केस

आज कोरोना संक्रमित जो 43 मरीज मिले हैं, उनमें अल्मोड़ा जिले के 14, देहरादून के 8, नैनीताल 8, टिहरी 9, रुद्रप्रयाग और पौड़ी तथा उत्तरकाशी जिले के एक-एक मरीज हैं। इन सभी की ट्रैवल हिस्ट्री दिल्ली, महाराष्ट्र, बिहार और पंजाब के शहरों की बताई गई है।

कोरोना के 14 मरीज स्वस्थ

इस दौरान राज्य में कोरोना के 14 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जिन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इनमें देहरादून जिले के 11 और चमोली के 3 मरीज हैं। इस तरह राज्य में मौजूदा समय में कोरोना संक्रमित कुल 717 मरीज विभिन्न अस्पतालों में उपचाराधीन हैं। इनमें अल्मोड़ा जिले में 25, बागेश्वर 9, चमोली 7, चंपावत 3, देहरादून 200, हरिद्वार 141, नैनीताल 119, पौड़ी गढ़वाल 40, पिथौरागढ़ 33, रुद्रप्रयाग 25, टिहरी गढ़वाल 63, उधम सिंह नगर 34 और उत्तरकाशी जिले के 18 मरीज हैं।

कुल 613 सैंपल

इस दौरान आज राज्य में कुल 613 सैंपल की कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है जबकि 1493 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। अभी तक राज्य में 40434 सैंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है और 4889 सैंपल जांच प्रक्रिया में हैं। फिलहाल राज्य में विभिन्न एकांतवास केंद्रों में 11,175 लोग रखे गए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों के दोगुना होने की दर 25.6 दिन है। राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की औसत दर 61.6% है जबकि अब तक जांच के सैंपल के आधार पर राज्य में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने वाले मरीजों की औसत दर 4.67% है।

Coronavirus

महाराष्ट्र के राजभवन में 16 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र के राजभवन में 16 कर्मचारियों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। इसलिए राजभवन को पूरी तरह सैनेटाइज कर दिया गया है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पूरी तरह स्वस्थ है लेकिन उन्होंने खुद को एकांतवास में कर लिया है।
राजभवन में कार्यरत इलेक्ट्रिशियन से फैला कोरोना 
जानकारी के अनुसार राजभवन में कार्यरत इलेक्ट्रिशियन का कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाज़िटिव पाया गया था। इसके बाद राजभवन के लगभग 100 कर्मचारियों की कोरोना टेस्ट करवाई गई थी। इनमें में से 55 लोगों की रिपोर्ट आई, जिसमें 16 कर्मचारी कोरोना पाजीटिव पाए गए हैं। 45 कर्मचारियों की रिपोर्ट रविवार को शाम तक आने वाली  है।
राजभवन को पूरी तरह किया गया सैनेटाइज
राजभवन में कोरोना की दस्तक की जानकारी मिलते ही मुंबई नगर निगम के कर्मचारी तत्काल वहां पहुंचे और राजभवन को पूरी तरह सैनेटाइज किया गया है। राजभवन को पूरी तरह सील कर दिया गया है।
Continue Reading

Coronavirus

सीएम शिवराज का ग्वालियर- चंबल का दौर आज, कोरोना नियंत्रण के प्रयासों की समीक्षा करेंगे

Published

on

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज शनिवार को ग्वालियर-चंबल संभाग के दौरे पर रहेंगे। वे यहां पर कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग के अधिकारियों से चर्चा करेंगे। सीएम इससे पहले यहां पर मरीजों की बढ़ती संख्या को लेकर चिंता भी जता चुके हैं।
 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11: 50 पर ग्वालियर पहुंचेंगे। यहां वे जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ कोरोना नियंत्रण के प्रयासों की समीक्षा करेंगे। इसके अलावा ग्वालियर में कोविड हॉस्पिटल और ग्वालियर स्मार्ट सिटी कमांड सेंटर का निरीक्षण करेंगे। इसके बाद सीएम शिवराज दोपहर 3:30 बजे मुरैना के लिए रवाना हो जाऐंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मुरैना में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ कोरोना नियंत्रण के प्रयासों की समीक्षा करेंगे ।

 

Continue Reading

Coronavirus

कोरोना जांच को लेकर मुख्यमंत्री योगी ने किया 7 नई बीसएल-2 प्रयोगशालाओं का लोकार्पण

Published

on

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर शनिवार को जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े के शुभारम्भ किया। इस दौरान आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने प्रदेश में कोरोना संक्रमण का प्रसार रोकने और लोगों को समय पर बेहतर इलाज मुहैया कराने के उद्देश्य से स्थापित की गई 07 नई मंडलीय प्रयोगशालाओं का लोकार्पण किया। इससे कोरोना संक्रमण की जांच में और अधिक इजाफा होगा।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जब राज्य में कोरोना का पहला केस आया था, जब एक भी टेस्टिंग लैब नहीं थी। इसके बाद प्रक्रिया आगे बढ़ाई गई तो राजधानी की किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में पहले चरण में 60 नमूनों की जांच की जाने लगी। वहीं कल के आंकड़ों की बात करें तो हमने 38 हजार टेस्ट प्रतिदिन करने की क्षमता हासिल कर ली है। जिन सात जिलों में अभी तक कोई लैब नहीं थी, वहां अब बीसएल-2 की लैब का उद्घाटन किया गया है। आज से वहां भी कोरोना नमूनों की जांच हो सकेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके साथ अब सभी 18 मंडलों में जांच के लिए लैब हो गई हैं। इनके जरिए प्रदेश की जनता को कोरोना से बचाने में काफी मदद मिलेगी। अब हमारा प्रयास दूसरे चरण हर जनपद में टेस्टिंग लैब स्थापित करने का होगा।
चिकित्सा विभाग ने जिला-मंडलीय अस्पतालों में 07 नई प्रयोगशालाएं स्थापित की हैं। ये लैब अलीगढ़, वाराणसी, गोण्डा, मुरादाबाद, बरेली, मीरजापुर और लखनऊ के बलरामपुर अस्पताल में प्रारम्भ की गई हैं।
लखनऊ में पहले से लैब हैं, लेकिन अन्य छह जनपदों में राज्य सरकार की प्रयोगशाला अभी तक नहीं थी। इनके शुरू होने से अब प्रतिदिन होने वाली कोरोना जांच में और इजाफा होगा।
Continue Reading

Trending