चारधाम यात्रा : श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, अब 18 सितम्बर से कर सकेंगे चारधाम यात्रा

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि चारधाम यात्रा 18 सितंबर से शुरू होगी। पहले कोरोना के बढ़ते मामले के चलते यह स्थगित हो गई थी। सरकार की ओर से शीघ्र ही यात्रा शुरू करने की अधिसूचना जारी करने बाद देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की ओर से आज 
 
चारधाम यात्रा : श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, अब 18 सितम्बर से कर सकेंगे चारधाम यात्रा  

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि चारधाम यात्रा 18 सितंबर से शुरू होगी। पहले कोरोना के बढ़ते मामले के चलते यह स्थगित हो गई थी। सरकार की ओर से शीघ्र ही यात्रा शुरू करने की अधिसूचना जारी करने बाद देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की ओर से आज एसओपी (मानक प्रचालन प्रक्रिया) जारी की जाएगी। कोर्ट का फैसला आने के बाद सरकार यात्रा की तैयारियों में जुटी गई है।

28 जून को हाईकोर्ट ने कोरोना संक्रमण के खतरे और सरकार की आधी अधूरी तैयारियों के चलते चारधाम यात्रा पर रोक लगाई थी। सुप्रीम कोर्ट से एसएलपी वापस लेकर सरकार ने फिर से हाईकोर्ट पहुंची। अब कोर्ट की ओर से यात्रा पर से रोक हटाने से सरकार को राहत मिली है।  

पिछले साल की तरह इस बार भी केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री धाम में दर्शन के लिए यात्रियों की संख्या सीमित होगी। देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण करने के बाद यात्रियों को प्रतिदिन ई-पास जारी किए जाएंगे। जिसमें कोविड जांच की निगेटिव रिपोर्ट के साथ कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने पर ही दर्शन की अनुमति होगी।  

उधर, उत्तराखंड उच्च न्यायालय द्वारा चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटाने पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने खुशी जाहिर की। अग्रवाल ने कहा की अदालत के इस फैसले से जहां पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लाखों लोगों को राहत मिलेगी, वहीं चारधाम यात्रा की इच्छा रखने वाले श्रद्धालुओं को भी भगवान के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त होगा। उन्होंने यात्रा शुरू करने को किए गए प्रयासों के लिए सरकार एवं मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया है।

अग्रवाल ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में पर्यटन एवं तीर्थाटन से जुड़े व्यवसायियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। चारधाम में कारोबार करने वाले लोगों को बहुत नुकसान भी हुआ है। उन्होंने कहा कि यात्रा शुरू होगी तो लोगों की आजीविका चलती रहेगी। उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से चारधाम यात्रा प्रदेश और हजारों लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। यह यात्रा राज्य की अर्थव्यवस्था की मजबूत रीढ़ है।