Connect with us

उत्तराखंड

आपातकाल के 45 साल : क्या रजिया का इतिहास दोहराया जाएगा

Published

on

देहरादून के अखबार 1970 में डाॅ आरके वर्मा ने उगली थी आग

मीसा में बंद हुए थे, परिवार पर पुलिस ने ढाये थे जुल्मोसितम

देहरादून। आपातकाल के दौरान दून के एक छोटे से अखबार 1970 की बड़ी ललकार सरकार को पूरे समय सुनाई देती रही। अखबार के संपादक जाने-माने इतिहासकार डाॅ आरके वर्मा ने इंदिरा गांधी सरकार के खिलाफ खूब कलम चलाई। पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नित्यानंद स्वामी और अपने अन्य सहयोगियों के साथ वर्मा ने देहरादून में आपातकाल विरोधी आंदोलन को धार दी। सरकार का सिरदर्द बन गए वर्मा और उनके साथियों को मीसा कानून के तहत बंदी बनाया गया। इस दौरान उनके परिवार पर पुलिस ने खूब जुल्म ढाए।
आपातकाल के विरोध में पूरे देश के साथ देहरादून ने कदमताल किया था। आक्रोश में यहां भी कोई कमी नहीं थी। एक टोली ऐसी थी, जो गुपचुप ढंग से रोजाना आंदोलन की रणनीति तैयार करती। हर प्रभावी माध्यम का इस्तेमाल करती। डाॅ आरके वर्मा नेतृत्व करने वालों में शामिल रहे। डाॅ वर्मा बताते हैं कि 25/26 जून को आपातकाल लागू हुआ तो उन्होंने अपने अखबार 1970 के 30 जून के अंक में पहले पेज को सरकार विरोधी रंग में रंग डाला। शीर्षक दिया- क्या रजिया सुल्ताना का इतिहास दोहराया जाएगा। इस लेख में तमाम सारी बातों का उल्लेख करते हुए आपातकाल का विरोध और भविष्य में होने वाले इसके अंजाम के लिए चेताया गया था।
डा वर्मा के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नित्यानंद स्वामी, किशन सिंघल, कैलाश अग्रवाल, टेकचंद्र, प्रताप सिंह परवाना जैसे अपने कई साथियों के साथ हम रोजाना नई रणनीति बनाते और पुलिस-प्रशासन को छकाते हुए आंदोलन को तेज करते। कई दिन आढ़त बाजार के गुरुद्वारे में काटे। रात को जमीन पर सोना पड़ा मगर आंदोलन से पीछे नहीं हटे। एलआईयू और पुलिस लगातार पीछे पड़ी रही। फिर, पांच जुलाई 1975 को उन्हें और अन्य साथियों को मीसा कानून के तहत गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया। हरिद्वार रोड स्थित जेल में दो महीने 23 दिन तक सभी बंद रहे। बाद में सभी को रिहा कर दिया गया। इस दौरान, कई बार घर में पुलिस ने छापे मारे। परिवारजनों को प्रताड़ित किया। यहां तक की पुश्तैनी आभूषण भी पुलिस घर से ले गई।

समानांतर सरकार में स्वामी राष्ट्रपति, वर्मा प्रधानमंत्री

मीसा कानून के तहत बंद आंदोलनकारियों ने उस वक्त जेल में समानांतर सरकार बना ली थी। इंदिरा सरकार को खारिज कर दिया गया था। बकायदा मंत्रिमंडल का गठन कर उसमें विभिन्न पदों का आवंटन किया गया था। पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नित्यानंद स्वामी को राष्ट्रपति नियुक्त किया गया था। डाॅ आरके वर्मा को प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी दी गई थी। अन्य आंदोलनकारियोें में से किसी को गृह, किसी खाद्य आपूर्ति, किसी को विदेश, तो किसी शिक्षा-समाज कल्याण मंत्री बनाया गया था।

उत्तराखंड

मसूरी में बेकाबू इनोवा कार गहरी खाई में गिरी, महिला सहित दो की मौत 

Published

on

देहरादून। देहरादून-मसूरी में एलकेडी मार्ग पर किमाड़ी के पास रविवार सुबह एक बेकाबू इनोवा कार गहरी खाई में गिरने से एक महिला सहित दो लोगों की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से घायल हो गए।
मसूरी रोड पर हादसा

देहरादून वापस लौट रहे थे

मिली जानकारी के मुताबिक, देहरादून-मसूरी पर सुबह इनोवा कार ग्राम कीमाड़ी से करीब चार किलोमीटर आगे गहरी खाई में समा गई। कार में चार लोग सवार थे। वाहन दुर्घटना की सूचना पर मसूरी पुलिस 108 एंबुलेंस और फायर सर्विस की टीम मौके पर पहुंची और बचाव कार्य शुरू किया। दुर्घटना में कार सवार एक महिला व एक पुरुष की मौके पर ही मौत हो गई। अन्य एक महिला और पुरुष को घायलावस्था में एंबुलेंस से जिला अस्पताल भेज गया है। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया गया। यह चारों लोग कार से मसूरी से देहरादून वापस लौट रहे थे।

पुलिस बोली

पुलिस के अनुसार, मृतक नोएडा का परिवार है। बेटा और बहू हनीमून के लिए मसूरी के रिजॉर्ट में रुके हुए हैं। नवविवाहित बेटा-बहू से मिलकर परिवार रात को वापस लौट रहा था। इस दौरान देहरादून-मसूरी मार्ग पर किमाड़ी गांव के पास उनकी इनोवा खाई में गिर गई। सुबह फोन ना लगने पर बेटे ने पुलिस को इसकी सूचना दी। तब पुलिस ने रास्ते में जांच की तो गाड़ी खाई में दिखी। गाड़ी और घायल लोग पूरी रात खाई में पड़े रहे।

Continue Reading

उत्तराखंड

देहरादून में एक माह बाद शनिवार को बाजार गुलजार

Published

on

By

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक माह बाद शनिवार को बाजार खुलने से लोगों ने राहत की सांस ली। परिवहन सेवा पर बंदी हटा ली गई है। इससे पहले एक माह तक राजधानी में शनिवार और रविवार को बंदी रही।

Uttarakhand Coronavirus cases rise to 1,985, 25 dead, 1,230 cured ...

गाइडलाइन के मुताबिक खुले बाजार

पलटन बाजार, इंदिरा मार्केट सहित सभी स्थानों पर रोज की तरह बाजार खुले।धार्मिक स्थल, काली मंदिर, टपकेश्वर मंदिर के साथ शहर होटल भी गाइड लाइन के अनुसार खुले।

रविवार को बंद रहेंगे बाजार

जिलाधिकारी का कहना है कि बाजार खोलने के आदेश दिए गए हैं। रविवार को बाजार पर साप्ताहिक बंदी जारी रहेगी। आवश्यक सेवाओं की दुकानें रविवार को भी खुलेंगी। अब शनिवार और रविवार को सार्वजनिक परिवहन सेवा जारी रहेगी।

Continue Reading

उत्तराखंड

कोरोना से जंग में एम्स ऋषिकेश ने बढ़ाई ताकत, मरीजों के लिए अब 200 बेड

Published

on

By

ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में कोरोना के मरीजों के लिए निर्धारित 100 बेड को बढ़ाकर 200 कर दिया गया है। यह जानकारी डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा ने दी।

प्रो. मिश्रा ने बताया कि साथ ही कोरोना वार्ड में आईसीयू से जुड़ी सुविधाओं में भी इजाफा किया गया है। कोविड वार्ड में भर्ती गंभीर मरीजों के उपचार के लिए अब एक की जगह दो आईसीयू की व्यवस्था की गई है। इनमें 30 वेंटिलेटर हैं। कोरोना वार्ड में फिलहाल 30 पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं।
उन्होंने बताया कि संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर अब एक और गहन चिकित्सा यूनिट स्थापित की गई है। नए आईसीयू में 15 अतिरिक्त वेंटिलेटर्स की व्यवस्था की गई है।

Continue Reading

Trending