सुपरटेक के खिलाफ एक्शन में योगी सरकार, कंपनी के अफसरों पर कार्रवाई की तैयारी

नोएडा में रियल एस्टेट कंपनी सुपरटेक के 40 मंजिला दो टॉवरों (ट्विन टॉवर) को गिराने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब योगी सरकार भी एक्शन में आ गई है।
 
cm yogi new pic
सुपरटेक के खिलाफ एक्शन में योगी सरकार

लखनऊ। नोएडा में रियल एस्टेट कंपनी सुपरटेक के 40 मंजिला दो टॉवरों (ट्विन टॉवर) को गिराने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब योगी सरकार भी एक्शन में आ गई है। बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके साथ नोएडा विकास प्राधिकरण ने भी एक टीम बना दी है जो पुराने अफसरों का रिकार्ड खंगालने में जुटी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि रियल एस्टेट कंपनी सुपरटेक एमराल्ड के जिन अधिकारियों ने ट्विन टॉवर के कंस्ट्रक्शन के दौरान अनियमितताएं बरतीं हो, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इसके बाद नोएडा विकास प्राधिकरण में अफसरों का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। इस मामले में प्राधिकरण की सीईओ ऋतु माहेश्वरी ने एक टीम भी गठित कर दी है। इस टीम का हेड दो एसीईओ को बनाया गया है। 

सूत्रों के मुताबिक प्लानिंग विभाग के अधिकारी रडार पर हैं। प्लानिंग विभाग के तत्कालीन मैनेजर पर भी नज़र रखी जा रही है। इसके साथ ही कई पूर्व अधिकारियों का रिकॉर्ड भी स्‍कैन किया जा रहा है। टीम की रिपोर्ट आने के बाद अधिकारियों के खिलाफ एक्‍शन होगा। 

बता दें कि मंगलवाल को सुप्रीम कोर्ट रियल एस्टेट कंपनी सुपरटेक को बड़ा झटका देते हुए नोएडा मे बने उसके ट्विन टॉवरों को गिराने का आदेश दिया था। अपने आदेश में शीर्ष अदाल ने कहा था कि  नोएडा सेक्टर-93 में सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट में लगभग 1,000 फ्लैटों वाले ट्विन टावरों का निर्माण नियमों का उल्लंघन करके किया गया था और सुपरटेक द्वारा इन्हें अपनी लागत पर तीन महीने की अवधि के भीतर तोड़ा जाना चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक को इन ट्विन टावरों के सभी फ्लैट मालिकों को 12% ब्याज के साथ रकम वापस करने का भी आदेश दिया है।