Connect with us

उत्तर प्रदेश

यूपी में जनवरी से महंगी हो जाएगी वाहनों के प्रदूषण की जांच

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब वाहनों के प्रदूषण की जांच कराने के लिए अधिक जेब ढीली करनी पड़ेगी। दुपहिया से लेकर सभी तरह के वाहन मालिकों को प्रदूषण जांच के लिए अब दो गुना पैसा खर्च करना होगा। प्रदेश भर में ऐसे वाहनों की सं या तीन करोड़ के आसपास है।

प्रदूषण जांच की नई दरें एक जनवरी 2021 से प्रदेश भर में लागू होगी। बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रण करने के लिए गाड़ी मालिकों को अब अपनी जेब हल्की करनी पड़ेगी। ऐसे में हर छह माह और साल भर में वाहनों के प्रदूषण जांच करना महंगा होने जा रहा है। परिवहन विभाग ने प्रदेश भर के हर थाना क्षेत्र के भीतर एक प्रदूषण केंद्र स्थापित करने का लक्ष्य मार्च 2021 रखा है। ताकि दो व चार पहिया गाड़ी मालिकों को प्रदूषण जांच कराने में दिक्कत ना हो। परिवहन आयुक्त धीरज साहू ने बताया कि उत्तर प्रदेश ऑनलाइन मोटरयान प्रदूषण जांच केंद्र योजना 2020 के अंतर्गत हर जनपद के थाने स्तर पर प्रदूषण केंद्र खोलने की तैयारी है। दरअसल प्रदेश भर में वाहनों की सं या तीन करोड़ के आसपास है। वहीं लखनऊ में प्रदूषण जांच केंद्रों की सं या 448 एवं प्रदेश भर में 1600 है।

प्रदूषण जांच की नई दरें
-दो पहिया वाहनों के लिए 50 रूपए
-तीन व चार पहिया पेट्रोल, सीएनजी व एलपीजी के लिए 70 रुपए
-चार पहिया सभी प्रकार के डीजल वाहनों के लिए 100 रुपये

-प्रदूषण जांच की वर्तमान दरें
-दो पहिया के लिए 30 रूपए
-चार पहिया पेट्रोल के लिए 40 रुपए
-चार पहिया डीजल के लिए 50 रूपए

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending