29 नवंबर से 26 दिसंबर तक चलेगा यूपी हस्तशिल्प महोत्सव, दिखेगा साहित्य, संस्कृति, एवं संस्कार का महासंगम

लखनऊ। मां गायत्री जन सेवा संस्थान' एवं 'भारतीय जनता स्वराज सेना सामाजिक संगठन' के निर्देशन में उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव 2021 का आयोजन लखनऊ में आशियाना के सेक्टर जे स्थित कथा मैदान में 29 नवम्बर से 26 दिसंबर 2021 के बीच किया जाएगा। उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव-2021 की थीम उत्तर प्रदेश की सतरंगी इंद्रधनुषी विरासत को समर्पित होगी।
 
UP
29 नवंबर से 26 दिसंबर तक चलेगा यूपी हस्तशिल्प महोत्सव, दिखेगा साहित्य, संस्कृति, एवं संस्कार का महासंगम
 

लखनऊ। मां गायत्री जन सेवा संस्थान' एवं 'भारतीय जनता स्वराज सेना सामाजिक संगठन' के निर्देशन में उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव 2021 का आयोजन लखनऊ में आशियाना के सेक्टर जे स्थित कथा मैदान में 29 नवम्बर से 26 दिसंबर 2021 के बीच किया जाएगा। उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव-2021 की थीम उत्तर प्रदेश की सतरंगी इंद्रधनुषी विरासत को समर्पित होगी। 

इस दौरान दर्शकों, ग्राहकों एवं पर्यटकों को संस्कृति महोत्सव में उत्तर प्रदेश के साहित्य, संस्कृति, शिक्षा, सिनेमा-संगीत, शिल्प, स्वाद एवं संस्कार का महासंगम देखने को मिलेगा। यह जानकारी आयोजन समिति के अध्यक्ष अरुण प्रताप सिंह ने शुक्रवार को लखनऊ में आयोजित पत्रकार वार्ता में दी। अरुण प्रताप सिंह ने आगे बताया की उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव विगत चार वर्षों से हो रहा है। आजादी के अमृत महोत्सव एवं चौरी चौरा शताब्दी महोत्सव की श्रृंखला में हस्तशिल्प महोत्सव 26 दिवसीय होगा, इसमें केंद्र एवं उत्तर प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए प्रदर्शनी लगाई जाएगी। उत्तर प्रदेश सरकार की योजना एक जिला एक उत्पाद के तहत सभी 75 जनपदों के विशिष्ट उत्पादों के स्टॉल भी लगवाए जा रहे हैं। 

उत्तर प्रदेश हस्तशिल्प महोत्सव के प्रभारी विनय दुबे एवं रनवीर सिंह ने बताया की महोत्सव में मंच कार्यक्रमों का भव्य शुभारम्भ तीस नवंबर को होगा। महोत्स्व में कश्मीरी ड्राई फ्रूट्स एवं वूलेन कपड़े, लुधियाना के गर्म कपड़े, सहारनपुर की इमारती लकड़ी के सामान, असम में बने बांस के सामान, केरल की जड़ी-बूटियों के उत्पाद, झूले एवं स्वादिष्ट व्यंजन के स्टॉल के साथ सांस्कृतिक, साहित्यिक कार्यक्रम होंगे।  महोत्सव का समय प्रातः ग्यारह बजे से रात्रि दस बजे और सांस्कृतिक कार्यक्रम शाम पांच बजे से रात्रि दस बजे तक होंगे। सांस्कृतिक संध्या में नृत्य, गायन, वादन, कवि सम्मेलन, फैशन शो आदि का आयोजन किया जायेगा।

संकल्पना संयोजक डॉ. अतुल मोहन सिंह ने बताया कि हस्तशिल्प महोत्सव को दो चरणों में विभाजित किया गया है। प्रथम सात दिवसों में मुख्य आयोजन होगा। प्रत्येक दिन को इंद्रधनुष के एक विशेष रंग को समर्पित किया गया है। इस दौरान प्रथम सत्र में संगोष्ठी,व्याख्यान, द्वितीय सत्र में प्रतियोगिताएं एवं तृतीय सत्र में सांस्कृतिक संध्या तथा सम्मान समारोह का आयोजन किया जाएगा। उत्तर प्रदेश के प्रख्यात कलाकारों के हुनर से बॉलीबुड नाइट, स्प्रिचुअल नाइट, कॉमेडी नाइट, फोक म्यूजिक नाइट, डांसिंग नाइट, फैशन शो को सजाया जाएगा। आठवें दिन विराट कवि सम्मेलन होगा। हस्तशिल्प महोत्सव का शुभारंभ गोमय दीपोत्सव एवं समापन समारोह बृज की होली से किया जायेगा। 

आयोजन समिति के उपाध्यक्ष एवं भारतीय जनता स्वराज सेना के संस्थापक अध्यक्ष अमित सोनकर ने बताया की सुरक्षा के दृष्टिगत परिसर को सीसीटीवी कैमरों एवं सुरक्षा गार्ड से लैस त्रिस्तरीय घेरा बनाया जाएगा। महोत्सव संयोजक सुमित कुमार भौमिक एवं पीयुष दुबे ने बताया कि उत्तर प्रदेश की विरासत एवं महिलाओं के सशक्तिकरण पर विशेष जोर दिया जाएगा।