सिस्टम ने दिव्यांग का बनाया मजाक, पहले दबंगों ने पीटा अब पुलिस लगवा रही चक्कर

सीतापुर में दबंगों के हौसले बुलंद हैं। चुनावी रंजिश में एक दिव्यांग को तीन दबंगों ने बुरी तरह से मारा पीटा। दोनों पैर खराब होने की वजह से पहले से ही परेशान दिव्यांग की इससे मुसीबतें और बढ़ गयीं। योगी सरकार में जहां अपराधियों पर तत्काल कार्रवाई की बात कही जा रही है वहीं इस मामले में कार्रवाई तो दूर रेउसा पुलिस ने अभी एफआईआर तक दर्ज नहीं की। 
 
 Divyang youth beaten up by miscreants in Sitapur
सीतापुर में दिव्यांग युवक को दबंगों ने पीटा

- पीड़ित की शिकायत पर सीतापुर की रेउसा पुलिस ने दर्ज नहीं किया केस 

- दिव्यांग युवक ने एसपी से लगाई , मुकदमा दर्ज कर दबंगों पर कार्रवाई की मांग 

लखनऊ। सीतापुर में दबंगों के हौसले बुलंद हैं। चुनावी रंजिश में एक दिव्यांग को तीन दबंगों ने बुरी तरह से मारा पीटा। दोनों पैर खराब होने की वजह से पहले से ही परेशान दिव्यांग की इससे मुसीबतें और बढ़ गयीं। योगी सरकार में जहां अपराधियों पर तत्काल कार्रवाई की बात कही जा रही है वहीं इस मामले में कार्रवाई तो दूर रेउसा पुलिस ने अभी एफआईआर तक दर्ज नहीं की। अब पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक सीतापुर से न्याय की गुहार लगाई है। 

मामला तीन जनवरी का है। अनूप कुमार निवासी ग्राम पड़रिया, पोस्ट रेवान थान रेउसा जिला सीतापुर का निवासी है। वह जहांगीराबाद सामान लेने गया था। उसके दौरों पैर खराब हैं। साथ में अनूप के एक गांव का व्यक्ति और था। अनूप की नियुक्ति प्राथमिक विद्यालय जिला हरदोई ब्लाक बघौली में है। पंचायत चुनाव में प्रधानी की वजह से आत्माराम गौड़ पुत्र लक्ष्मी कांत गौड़, देवराज गौड़ पुत्र गुरुदत्त गौड़ और नरेंद्र कुमार लम्बे समय से अनूप से रंजिश रखते चले आ रहे हैं। चुनाव में अलग-अलग खेमे होने की वजह से तीनों ने कई बार अनूप को धमकाया था। तब अनूप ने इसकी मौखिक शिकायत थाने पर भी की थी। पर पुलिस ने कुछ नहीं किया। इससे दबंगों के हौसले बुलंद हो गए। 

आरोप है कि तीन जनवरी को तीनों आरोपियों ने अनूप को घेर लिया और उसकी पिटाई कर दी। वह मदद के लिए चिल्लाता रहा लेकिन दबंगों के हौसले बुलंद होने की वजह से तत्काल कोई सामने नहीं आया। जब अनूप को आरोपित लगातार पीटते रहे तब कहीं जाकर गांव के कुछ लोग बाहर आए। इसके बाद दबंग गालियां और धमकियां देते हुए भाग गए। इसके बाद अनूप ने आरोपियों के खिलाफ थाना रेउसा में मुकदमा दर्ज कराने का प्रार्थना पत्र दिया है पर अभी तक पुलिस ने किसी तरह की 
कार्रवाई नहीं की है। इसके बाद अनूप ने एक प्रार्थना पत्र एसपी सीतापुर के यहां भी 5 जनवरी को दिया है। अनूप का कहना है कि यदि उसके साथ कुछ अनहोनी होती है तो इसकी जिम्मेदार आरोपित और पुलिस होंगे।