अखिलेश यादव का ऐलान- सपा सरकार बनने पर पीड़ितों को दो-दो करोड़ की आर्थिक मदद

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा कांड को लेकर सियासी माहौल गर्म है। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पीड़ित परिवारों से मिलने लखीमपुर पहुंचे। 
 
 Akhilesh Yadav met the victims of Lakhimpur incident
लखीमपुर- खीरी हिंसा कांड

लखीमपुर खीरी । उत्तर प्रदेश के लखीमपुर- खीरी हिंसा कांड को लेकर सियासी माहौल गर्म है। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पीड़ित परिवारों से मिलने लखीमपुर पहुंचे। 

अखिलेश ने ऐलान किया कि 2022 में सपा की सरकार बनने पर पीड़ित परिवारों को दो-दो करोड़ की आर्थिक मदद ओर नौकरी दी जाएगी। अखिलेश ने पीड़ित परिवारों से कहा कि यूपी सरकार मदद नहीं करती हे तो सपा सरकार बनने पर पूरी मदद की जाएगी।

अखिलेश पलिया के किसान लवप्रीत और निघासन में पत्रकार रमन के परिजनों से मिलने पहुंचे थे। परिजनों को सांत्वना देते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि अजय मिश्रा के केंद्रीय मंत्री पद पर रहने तक निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। सरकार की भूमिका पर भी उन्होंने सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि जब गृह राज्य मंत्री के परिवार वाले ही कांड कर रहे हैं, तो जान लीजिए भाजपा कैसी है। अगर सरकार आश्रितों को नौकरी दे देती है तो ठीक है नहीं तो सत्ता में आने पर हम नौकरी का वादा पूरा करेंगे। 

इससे पहले सुबह लखीमपुर जाने से पहले लखनऊ में मीडिया कर्मियों से बात करते हुए अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर निशाना साधा। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा की सरकार में जो गृह राज्य मंत्री है, उंगली उन पर उठ रही है इसलिए जेल नहीं भेजा जा रहा है। नहीं तो मामूली घटनाओं में गिरफ्तारी होती है।

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में लोगों को गोली मारी गयी। हत्याएं हुई हैं और ह्यूमन राइट से सबसे ज्यादा नोटिस इस सरकार को मिली है। कस्टडीयल मौत सबसे ज्यादा प्रदेश में हुई है। कानून व्यवस्था के मामले में ये सरकार सबसे ज्यादा विफल हुई है।

उन्होंने मांग करते हुए कहा कि सरकार के रहते हुए न्याय नहीं मिलेगा। इसके लिए सीटींग जज के मानिटरिंग में जांच हो, तो परिवारों को न्याय मिलेगा।

मीडियाकर्मियों से वार्ता के बाद अखिलेश यादव लखीमपुर के लिए रवाना हो गये। अखिलेश के साथ समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता भी मौजूद हैं।