Connect with us

उत्तर प्रदेश

कन्नौज : प्रभारी अधिकारी के साथ डीएम-एसपी ने लिया क्वारंटाइन सेंटर का जायजा

Published

on

मिली शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण, ठंडी चाय के लिए वेंडर को फटकार

बृजेश चतुर्वेदी

कन्नौज| कोरेंटाईन सेंटर्स एवं कोविड 19 अस्पताल में भोजन एवं नाश्ता समय पर उपलब्ध कराया जाए। भोजन से संबंधित शिकायत मिलने पर होगी सख्त कार्यवाही। चिकित्सक सुबह वो शाम को निर्धारित समय पर कोरेंटाईन सेंटर्स एवं कोविड 19 अस्पताल में भर्ती मरीजों से दूर से मिलकर भोजन एवं अन्य व्यवस्थाओं का जायजा ले।
 यह निर्देश आज जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्रा एवं पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने नोडल अधिकारी राजेश कुमार राय के साथ संयुक्त रूप से  मानीमऊ स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर का औचक निरीक्षण कर उपस्थित अधिकारियों को दिए।
उन्होंने मरीजों से मिलने वाले  नाश्ते एवं भोजन के संबंध में जानकारी की एवं भोजन की गुणवत्ता एवं स्वच्छता हेतु किचन का भी अवलोकन किया जहां व्यवस्थाएं सही पाई गई जिसके उपरांत जिलाधिकारी ने आसपास पूर्ण स्वच्छता के साथ भोजन तैयार कर वितरित किए जाने की व्यवस्था के संबंध में निर्देश दिए। मौके पर बताया गया कि क्वॉरेंटाइन सेंटर पर कुल 99 मरीज हैं जिनमें से 65 व्यक्तियों की रिपोर्ट नेगेटिव आने की स्थिति में उन्हें आज होम क्वॉरेंटाइन  हेतु औपचारिकताएं पूर्ण कर छोड़ा जाएगा। जिलाधिकारी ने आज छोड़े जाने वाले व्यक्तियों से एवं अन्य व्यक्तियों से भी वार्ता की जिसमें से एक महिला द्वारा सही समय पर भोजन न उपलब्ध कराए जाने की शिकायत की गयी जिस पर जिलाधिकारी ने कड़ा रोष व्यक्त करते हुए समय से पेट भर भोजन मुहेया कराए जाने एवं सुबह भारी नाश्ता दिए जाने के भी निर्देश दिए।
 जिलाधिकारी ने वहां उपस्थित सभी व्यक्तियों को यह भी बताया कि यदि किसी व्यक्ति को किसी भी समय सांस लेने में किसी भी प्रकार से दिक्कत होती है तो तत्काल वहां उपस्थित डॉक्टर को सूचित कर वहां पर उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर द्वारा सांस भी ले सकते हैं। नोडल अधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि जनपद में पूल टेस्टिंग अधिक मात्रा में कराई जाए जिससे जनपद में बाहर से आने वाले प्रवासी कामगारों की पूर्ण टेस्टिंग होकर कोरोना वायरस के फैलने की तीव्रता को कम किया जा सके। उन्होंने अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भी निर्देश दिए कि क्वॉरेंटाइन सेंटर की नियमित मॉनिटरिंग एवं समय से भोजन एवं भारी नाश्ता उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।
  जिलाधिकारी ने कोविड-19 अस्पताल तिर्वा का भी औचक निरीक्षण किया जहां उनके द्वारा व्यक्तिगत रूप से वहां उपस्थित मरीजों से फीडबैक के आधार पर मिली शिकायतों पर उन्होंने वहां उपस्थित चिकित्सकों से चाय ठंडी मिलने की शिकायत पर एवं भोजन में भी कमी मिलने की शिकायत पर सवाल जवाब किए जिसमें उपस्थित चिकित्सक द्वारा बताया गया कि सभी व्यवस्थाएं राजकीय  इंजीनियरिंग कॉलेज मैं स्थापित मेस द्वारा की जा रही हैं एवं दूर से सारी व्यवस्थाएं किए जाने की स्थिति में भोजन एवं चाय के संबंध में शिकायतें मिलती है जिस पर जिलाधिकारी ने उपस्थित चिकित्सकों को संबंधित वेंडर द्वारा अस्पताल में ही चाय को गर्म किए जाने की व्यवस्था सुनिश्चित कर समय से भोजन एवं नाश्ता उपलब्ध कराए जाने हेतु निर्देश दिए। उन्होंने तिर्वा में खुली मार्केट में व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया जिसमें व्यापारियों द्वारा मास्क का प्रयोग न किए जाने पर चिंता व्यक्त करते हुए कोतवाली प्रभारी को सभी द्वारा सख्ती से मास्क का प्रयोग किए जाने एवं दुकान के बाहर गोले बनाकर व्यापार किए जाने निर्देश दिए।
  श्री मिश्र ने खाद्यान्न व वितरण के संबंध में भी जानकारी देते हुए बताया है कि पी0एम0जी0के0ए0वाई खाद्यान्न वितरण चरण जोकि 15 मई से 25 मई तक निर्धारित था उसे अब 24 मई तक किया गया है जिससे इस चरण में वितरण की अंतिम तिथि एवं प्रॉक्सी वितरण की तिथि 24 मई 2020 तक है। इसके अतिरिक्त पोटेबिलिटी चालान सुविधा की भी तिथि 19 मई से 23 मई के स्थान पर 19 मई 2020 से 22 मई 2020 की गई है अतः सभी व्यक्ति विशेष निर्धारित तिथियों में ईपोस एवं प्रोक्सी वितरण के माध्यम से राशन लेना सुनिश्चित करें।  मौके पर उप जिलाधिकारी तिर्वा कोतवाली प्रभारी तिर्वा एवं अन्य चिकित्सक उपस्थित थे।

उत्तर प्रदेश

और जब गाड़ियों के काफिले के साथ थानेदार निकले चार्ज लेने, लेकिन हो गए सस्पेंड

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के अंबेडकरनगर जिले में एक थानेदार का ट्रांसफर हुआ तो वह लॉकडाउन के नियमों को खुद ही तोड़ बैठे और गाड़ियों के काफिल के साथ चार्ज लेने निकल पड़े। लेकिन वह चार्ज तो नहीं ले पाए बल्कि सस्पेंड जरूर हो गए।

ये है पूरा मामला

अंबेडकरनगर के टांडा से भाजपा विधायक संजू देवी ने अवैध वसूली के आरोप में बसखारी के थानाध्यक्ष मनोज सिंह पर कार्रवाई की मांग की थी। इसी शिकायत के बाद मनोज सिंह का ट्रांसफर बसखारी से जैतपुर कर दिया गया।

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

मनोज सिंह को मंगलवार रात को ही जैतपुर थाने का चार्ज लेना था। लेकिन वह बुधवार को बसखारी थाना से अपनी रवानगी करते समय कई पुलिसकर्मी और सरकारी गाड़ियों के काफिले के साथ थाने का चार्ज लेने के लिए निकल पड़े। काफिले में शामिल कई कई पुलिसकर्मी बाइक पर बिना मास्क, हेल्मेट पहने शामिल हुए। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों, सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हुआ। जिसके बाद ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और मामले ने तूल पकड़ा।

इसके बाद एसपी आलोक प्रियदर्शी ने कानून का उल्लंघन करने के मामले में थानाध्यक्ष जैतपुर मनोज सिंह को निलम्बित करने के बाद पुलिस लाइन भेज दिया है।

.

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

प्रेम संबंध में सपा विधायक के गनर ने दे दी जान

Published

on

मुरादाबाद। मुरादाबाद देहात से सपा विधायक इकराम कुरैशी के गनर मनीष प्रताप सिंह ने बुधवार की देर रात अपनी सरकारी बंदूक से गोली मारकर आत्महत्या कर ली।  सिपाही की आत्महत्या की सूचना के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि सिपाही किसी युवती के साथ रिलेशनशिप में था। जिसको लेकर दोनों परिवार विरोध कर रहे थे। इसी तनाव के चलते सिपाही ने यह आत्मघाती कदम उठाया है।

2018 हुआ था सिपाही पद पर चयन

मुरादाबाद पुलिस लाइन में तैनात मनीष प्रताप सिंह सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी के गनर के रूप में तैनात था। मनीष प्रताप सिंह बुलंदशहर कोतवाली देहात के गांव रसूलपुर पिटारी का मूल निवासी था। सन 2018 बैच में सिपाही के पद पर पुलिस में भर्ती हुआ था। मनीष कटघर के आदर्श नगर कॉलोनी में किराए के मकान में रहता था।

रात दो बजे मारी गोली

बुधवार की देर रात करीब 2 बजे सिपाही मनीष प्रताप सिंह ने अपने कमरे में सरकारी कार्बाइन से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने जब दरवाजा तोड़कर देखा कि अंदर कमरे में सिपाही मृत पड़ा हुआ था।

घटना के समय मौजूद थी प्रेमिका

घटना के समय सिपाही के साथ उसकी प्रेमिका भी मौजूद थी। वहीं दो अन्य सिपाही ऊपरी मंजिल पर सो रहे थे। युवती और दोनों सिपाहियों से पूछताछ की गई।

एसपी सिटी बोले-तनाव में चल रहा था सिपाही

एसपी सिटी अमित कुमार आनंद ने बताया कि सिपाही किसी रिलेशनशिप में था। दोनों के परिवार इस रिलेशनशिप का विरोध कर रहे थे। इसी कारण सिपाही तनाव में चल रहा था। माना जा रहा है कि तनाव के कारण ही सिपाही ने गोली मारकर आत्महत्या की है। प्रथमदृष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। उन्होंने खुद को गोली मारी है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस युवती से पूछताछ कर रही है। वहीं दोनों साथी सिपाही ने बताया कि खाना खाने के बाद वह ऊपरी मंजिल पर सोने चले गए थे। परिजनों को सूचना दे दी गई है।
Continue Reading

उत्तर प्रदेश

योगी सरकार का तोहफा, 80 पुलिस इंस्पेक्टर बने डीएसपी

Published

on

By

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ने 80​ निरीक्षकों (इंस्पेक्टर) को पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के पद पर प्रोन्नत किया है। पुलिस मुख्यालय से प्रोन्नत अफसरों की सूची जारी कर दी गयी है। प्रमोशन पाने वाले निरीक्षकों में खुशी है।

शासन से जारी सूची

जो निरीक्षक से पुलिस उपाधीक्षक बने हुए है, उनमें सियाराम, भगत सिंह, अनिरूद्ध सिंह, रामसूरत सोनकर, दीपक दूबे, अम्बरीश कुमार बघेल, राजीव द्विवेदी, देवेन्द्र कुमार, देवेश सिंह, अमरनाथ यादव, शक्ति सिंह, संतोष कुमार सिंह, शैलेश प्रताप सिंह, अनूप कुमार सिंह, अशोक कुमार सिंह, आशोक सिंह, विवेक सिंह, विकास कुमार पांडेय, गजेन्द्र पाल सिंह, संजय ​नाथ त्रिपाठी, कमलेश कुमार सिंह, सत्येन्द्र सिंह, राम सिंह, इनाम वारिस, नन्द जी यादव, जगदीश यादव, उमेश चन्द्र पाण्डेय, अरुण कुमार सिंह, सुनील कुमार सिंह, बृजेश सिंह, मनोज कुमार रघुवंशी, विशुन देव यादव, धमेन्द्र सिंह चौहान, प्रदीप कुमार त्रिवेदी, अरुण कुमार यादव, अखिलेश प्रताप सिंह, अरविन्द्र कुमार सिंह, सुरेश चन्द्र ओमहरे, कृष्ण गोपाल शर्मा, सतीश चन्द्र श्रीवास्तव, अरुण कुमार, ग्रीश चन्द्र शर्मा, उमेश चन्द्र श्रीवास्तव, सरेन्द्र कुमार राना, मुकुन्द मिश्रा, रामकुमार श्रीवास्त, प्रभात कुमार वर्मा,परमानंद द्विवेदी, परमेश सिंह, श्रवण कुमार राना, नरेन्द्र मोहन तिवारी, मदन सिंह, प्रदीप कुमार मिश्रा, शैलेन्द्र ​कुमार त्रिपाठी, हृदयानंद पाण्डेय, जसवीर सिंह, शिवराज सिंह, योगेश बाल दीक्षित,देवी राम, कैलाश कुमार शर्मा, राकेश कुमार पालीवाल, नईमुद्दीन खां, सुनील कुमार गादी, गजेन्द्र सिंह, अरविन्द सिंह, राजेन्द्र प्रसाद शुक्ला,ओम प्रकाश सिंह,उदय पाल सिंह, राजेन्द्र कुमार शर्मा, प्रमोद कांत मिश्रा, अब्दुल रज्जाक, लईक अहमद, सुरेश कुमार त्रिपाठी कमलेश नारायन पाण्डेय, अरुण कुमार सिंह, अरविन्द कुुमार सिंह पुंडीर, सुरेन्द्र सिंह, सुरेश चन्द्र गौड़, विवेक उपाध्याय, रेखा बाजपेई और राम अवतार सिंह यादव शामिल है।

अप्रैल माह में उप्र लोक सेवा आयोग के अधीन गठित विभागीय प्रोन्नति समिति (डीपीसी) की बैठक में इन पुलिस निरीक्षकों की प्रोन्नति की संस्तुति की गई थी। इस सूची में करीब 22 ऐसे निरीक्षक हैं, जिन्हें आउट ऑफ टर्न प्रोन्नति देकर पुलिस उपाधीक्षक बनाया गया है।

Continue Reading

Trending