शंकराचार्य निश्चलानंन्द जी चिंता मत कीजिये, देश का विभाजन नही होने देंगे : एमपीएलबीआई

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ऑफ इंडिया के रहते देश मे अब किसी तरह का विभाजन नहीं होगा पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंन्द सरस्वती जी की चिंता पर बोर्ड ने बयान जारी कर कहा कि गरिमामयी शंकराचार्य जी को देश में अन्याय, हिंसा, मानव भीड़ द्वारा मानव वध की चिंता के साथ देश की सीमाओं की सुरक्षा पर सरकार को सलाह देते हुए कहना चाहिये कि
 

सभी धर्मों के मध्य सम्पर्क,समन्वय संवाद की जरूरत,अयोध्या में बन रही मस्जिद से मुसलमानों का कोई लेना देना नही, मस्जिद जमीन खरीदकर बनाता है मुसलमान-मुईन अहमद

मौलाना राबे हसनी नदवी साहब नेक इंसान हम करते उनकी इज्जत लेकिन बोर्ड के दीगर जिम्मेदार करते है कौम का सौदा-मुईन अहमद 

वसीम रिजवी की पुस्तक पर सरकार करे सख्त कार्यवाही-एमपीएलबीआई

लखनऊ। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ऑफ इंडिया के रहते देश मे अब किसी तरह का विभाजन नहीं होगा पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंन्द सरस्वती जी की चिंता पर बोर्ड ने बयान जारी कर कहा कि गरिमामयी शंकराचार्य जी को देश में अन्याय, हिंसा, मानव भीड़ द्वारा मानव वध की चिंता के साथ देश की सीमाओं की सुरक्षा पर सरकार को सलाह देते हुए कहना चाहिये कि पाकिस्तान के इसारे पर विदेश से चल रहे खालिस्तान व नक्सल आंदोलन को जड़ से समाप्त करें उनकी चिंता को गैर जरूरी मानते हुए एमपीएलबीआई के राष्ट्रीय महासचिव डॉ मुईन अहमद खान ने कहा कि देश मे धार्मिक विभाजन विभेद की मनगढ़त कुत्रिम कहानी से समाज को भयभीत करने के प्रयास अतिवादी करते है जबकि देश एक साथ खड़ा है।

समाज की पीड़ा के निदान के प्रयास के स्थान पर विभाजन आक्रोश उतपन्न करने की चेष्टा निंदनीय है, जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि एमपीएलबीआई सभी धर्मों के मध्य सम्पर्क, समन्वय संवाद की जरूरत पर जोर देता है और रही अयोध्या में मस्जिद के बदले मिली मस्जिद की भूमि से देश के  मुसलमानों का कोई लेना देना नहीं, क्योंकि मस्जिद जमीन खरीदकर बनायी जाती है। निःशुल्क प्राप्त भूमि पर इमारत निर्मित हो सकती है मस्जिद नहीं, अयोध्या में बनने वाली मस्जिद पर टिप्पणी करते हुए कहा की मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधि संगठनों ने पहले ही कह दिया है कि हमें कोई भूमि नहीं चाहिये।

मस्जिद के लिये लेकिन साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण की व्यवसायिक राजनीति के लिये भाजपा सरकार अपने समर्थक सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन व कुछ मेम्बरों की सियासी, जाति फायदे के साथ बड़े पैमाने पर मस्जिद के लिये चंदे का धंधा करने की पॉलिसी पर चलने वालो को मोहरा बनाकर मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने, उन पर लांछन लगाने व ध्रुवीकरण के लिये उनके सहारे अपनी राजनीति चमका रही है।

वही चंदे के धंधे में लिप्त रहने वाले चंद कारोबारों, सियासी रहनुमा एमपीएलबीआई के राष्ट्रीय महासचिव डॉ मुईन अहमद खान ने शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी द्वारा लिखित पुस्तक को मुस्लिम समुदाय की भवनायें आहत करने वाली बताते हुए उनके विरुद्ध समाज में वैमनस्यता बढाने धर्मिक भावनायें आहत करने के आरोप में राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार से सख्त कार्यवाही की मांग करते हुए कहा कि वसीम रिजवी जैसे लोग समाज को किसके इसारे पर अपमानित करने के लिये अनर्गल मिथ्या बयानबाजी करते है। इसकी जांच होनी चाहिये, क्योंकि उनके कारण राजनीतिक ध्रुवीकरण को तेज किया जाता है और मुसलमानों को बदनाम किया जाता है।

डॉ मुईन ने आज मौलाना राबे हसनी नदवी साहब की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह एक बड़े आलिम और नेक इंसान है। एमपीएलबीआई उनकी काबिलियत का कायल है और उनकी इज्जता है लेकिन बोर्ड के दीगर जिम्मेदार उनकी आड़ लेकर कौम का सौदा करते और उनको बदनाम करते हुए अपने सियासी, कारोबारों और दीगर निजी फायदे हासिल कर कौम के मसले मसायल पर टिके रहने के बजाय हुकूमत के आगे समर्पण कर हाथ बांधकर खड़े होते है, जिससे कौम आज नेतृत्वविहीन स्थित में है।

उन्होंने कहा कि राबे साहब के साथ लोग छल कर रहे है। उनके नेतृत्व वाला बोर्ड हो या दीगर कदीमी तंजीमो के जिम्मेदार इनको कौम की नही अपनी फिक्र है। यह लोग अगर इतने काबिल होते तो शायद आज कौम की बदहाली इतनी दर्दनाक न होती उन्होंने कहा कि यह वक़्त मुल्क, जम्हूरियत, संविधान, धार्मिक भाईचारे की हिफाजत के साथ  मुस्लिम समुदाय के उज्ज्वल भविष्य के लिये काम करने का है, इसलिये सबको इकठ्ठा होना जरूरी है।