Connect with us

उत्तर प्रदेश

कोरोना से बहादुरी से लड़ रहा “कोरोना वॉरियर”

Published

on

“जहाँ रहेगा,वही रौशनी लुटायेगा।
किसी चराग का अपना मकां नहीं होता।”

रवीन्द्र पाण्डेय”रवि”। अयोध्या

यह बातें पीएमएस कॉडर के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ बागीश मिश्रा पर अक्षरशः लागू होती हैं। मरीजों के इलाज के दौरान स्वयं संक्रमित हो गए और चार दिन पूर्व कोरोना पॉजिटिव पाए गए ट्रॉमा सेंटर दर्शन नगर के प्रभारी तथा छाती रोग व अल्ट्रासोनोग्राफी विधा में डिप्लोमाधारक डॉ बागीश मिश्रा तीन दिन से राजर्षि दशरथ एलोपैथिक मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं।जहाँ आइसोलेशन सेंटर में उनका इलाज चल रहा है।

इस दौरान डॉ मिश्रा कोविड चिकित्सकों की अनुपस्थिति में अक्सर पैरामेडिकल स्टॉफ के साथ आइसोलेशन सेंटर में भर्ती अन्य करीब साठ रोगियों की शारीरिक दूरी बनाकर चिकित्सीय देखभाल,दवाओं का वितरण,रोगियों का सकारात्मक मोटिवेशन करते रहते हैं।

डॉ बागीश मिश्रा ने दूरभाष पर बताया कि अब उनकी तबियत काफी ठीक हो रही है।उन्होंने बताया कि एक चिकित्सक के नाते वह पूरी सावधानी बरतते हुए अपने वार्ड में भर्ती कोविड रोगियों के यथाआवश्यक इलाज,उनकी सुविधाओं और परामर्श का ध्यान रखते हैं।तथा तैनात पैरामेडिक्स के साथ आकस्मिक स्थिति में मरीजों की मदद भी करते रहते हैं।वार्ड में भर्ती तकरीबन 60 मरीज भी अपने बीच मेडिकल कॉलेज में ही तैनात रहे एक कुशल चिकित्सक को पाकर इलाज के प्रति आश्वस्त दिखते हैं।जिससे उनकी रिकवरी भी जल्दी हो रही है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending