पहाड़ों में हो रही बर्फवारी से उत्तर प्रदेश में पांच दिनों तक रहेगा शीतलहर का कहर

– मौसम के बदलते मिजाज से मौसम विभाग ने जारी की शीतलहर की चेतावनी

लखनऊ। उत्तरी पूर्वी हवाओं के चलने से जहां बीते सप्ताह लोगों को गलन से राहत मिली तो वहीं एक बार फिर मौसम का मिजाज बदल गया। हिमालय में हो रही बर्फवारी और उत्तरी पश्चिमी हवाओं के चलने से उत्तर प्रदेश सहित पूरे उत्तर भारत में गलन बढ़ने लगी है।

मौसम विभाग का कहना है कि ऐसी हवाओं से आगामी पांच दिनों तक उत्तर प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप जारी रहेगा, खासकर मकर संक्रान्ति तक गलन लोगों को परेशान करेगी। हालांकि दिन में धूप निकलेगी जिससे कुछ राहत मिल सकेगी और आसमान में हल्के बादल भी छाये रहने के आसार हैं।

मौसम विभाग ने जताई आशंका
उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों में इन दिनों भारी बर्फबारी हो रही है, जिसके चलते हिमस्खलन बढ़ता जा रहा है। बर्फबारी के बीच मैदानी इलाकों में तापमान भी लगातार नीचे गिरता जा रहा है, जिससे शीतलहर और सर्दी आफत बनी है। मौसम विभाग ने सर्दी और शीतलहर बढ़ने की आशंका जताई है, जबकि इस महीने देश के कई हिस्सों खासकर दक्षिण भारत में गरज के साथ अच्छी बारिश होने की संभावना है।

वहीं जम्मू कश्मीर में श्रीनगर और घाटी के कुछ अन्य इलाकों में नये सिरे से बर्फबारी हुई, जिससे यहां हवाई अड्डे पर विमानों का परिचालन बाधित हुआ। जनवरी में देश के कई हिस्सों खासकर दक्षिण भारत में अच्छी वर्षा होने की संभावना है। मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा और उत्तरी राजस्थान में शीतलहर चलने की संभावना जतायी है, जबकि 14 से 28 जनवरी तक दक्षिण भारत में सामान्य से अधिक वर्षा हो सकती है।

छह डिग्री सेल्सियस तक गिर सकता है तापमान
चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर के मौसम वैज्ञानिक डा. एसएन सुनील पाण्डेय ने मंगलवार को बताया कि उत्तर भारत में पहाड़ों से सर्द हवा आनी शुरु हो गई है, जिससे गलन बढ़ गई। बीते एक दिन में अधिकतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस गिरने से सर्दी में भी इजाफा हो गया है। आने वाले चार-पांच दिनों में कड़ाके की सर्दी पड़ने की संभावना है। कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज, उन्नाव, फतेहपुर, अलीगढ़, लखीमपुर खीरी, बरेली आदि शहरों में दिन और रात का तापमान गिरने लगा है। धूप निकल रही है, लेकिन उसका कोई खास असर नहीं पड़ रहा है। जितनी देर धूप रहती है, उतनी देर मौसम में गर्मी रहती है। शाम होते ही सर्दी फिर से बढ़ जाती है।

बताया कि, अगले चार से पांच दिन कड़ाके की सर्दी पड़ेगी। पहाड़ों से सर्दी हवा आ रही है। इनकी रफ्तार सामान्य से काफी तेज है। यह पश्चिम से पूर्वी दिशा की ओर चल रही है। फसलों में रोग और कीट लगने की आशंका बढ़ गई है। वातावरण में नमी बनी हुई है, जिसकी वजह से प्रदूषण और अति सूक्ष्म कणों का घनत्व भी काफी हो जाएगा।

शीत लहर से बच्चों, बुजुर्गों और पालतू पशुओं को बचाओ की जरुरत है। पशुपालकों को अपने पशुओं की विशेष निगरानी करनी होगी। इसके साथ ही किसान भाई इस मौसम में शीतलहर और पाला से फसलों को बचाने के लिए बराबर निगरानी करते रहें और नमी के लिए हल्की सिंचाई करते रहें।