Connect with us

उत्तर प्रदेश

सीएम योगी सख्त, बोले- ऑपरेशन विकास दुबे पूरा कर के ही लखनऊ लौंटे अधिकारी 

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमले और आठ जवानों की शहादत पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस कर्मियों की शहादत को नमन करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है।

बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानपुर में ‘कर्तव्य पथ’ पर अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले आठ पुलिसकॢमयों को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। शहीद पुलिसर्मियों ने जिस अपरिमित साहस व अद्भुत कर्तव्यनिष्ठा के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन किया, उत्तर प्रदेश कभी भूलेगा नहीं। उनका यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

सीएम योगी ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिए हैं कि सभी आला अधिकारी जब तक ऑपरेशन विकास दुबे ख़त्म ना हो जाए तब तक घटनास्थल पर ही कैंप करें। मुख्यमंत्री ने DGP को निर्देश दिया है कि घटना को अंतिम अंजाम तक पहुंचाकर ही लखनऊ लौटे।

गांव में एसटीएफ की तैनाती

मुख्यमंत्री लगातार प्रदेश के पुलिस महानिदेशक हितेश चन्द्र अवस्थी और अपर मुख्य सचिव (ग़ृह) अवनीश अवस्थी से संपर्क में हैं। मुख्यमंत्री के आदेश के बाद फरार हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ताबड़तोड़ दबिश दे रही है।  घटना की ​निगरानी के लिए कानून एवं व्यवस्था प्रशांत कुमार को कानपुर के लिए रवाना किया गया। लखनऊ से टीम के साथ एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार घटनास्थल पर पहुंच गए हैं, गांव में एसटीएफ की तैनाती कर दी गई है।

यूपी डीजीपी बोले

पुलिस महानिदेशक ने इस मामले में कहा है कि हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के खिलाफ धारा 307 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस उसे गिरफ्तार करने गयी थी। जेसीबी लगा दिया, जिससे वाहन पुलिस के वाहन बाधित हो गये है। फोर्स के उतरने के बाद बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ गोलिया चला दी है। जवाबी फायरिंग हुई और इसमें सीओ समेत पुलिस के आठ जवान शहीद हो गये। सात पुलिस कर्मी घायल है।

कानपुर देहात की सीमाएं सील

डीजीपी ने यह भी बताया कि घटना के बाद कानपुर देहात की सीमाओ को सील करके पुलिस की दबिश जारी है। यूपी एसटीएफ इस मामले में पहले से ही काम कर रही है। कानपुर पुलिस के आ​लाधिकारी मौके पर है।

मुठभेड़ में तीन बदमाशों की मारे जाने की खबर

सूत्रों की मानें तो इस घटना के बाद आईजी मोहित अग्रवाल ने कमान संभाल ली है। तीन बदमाश मारे जाने की खबर है। पुलिस ने पूरे गांव को चारों तरफ से घेरा हुआ है। पुलिस एनकाउंटर अभियान चला रही है। यह भी बताया जा रहा है कि अभी विकास दुबे और उसके साथी गांव छोड़कर भागने में सफल नहीं हुए हैं।  पुलिस अधिकारी ने बताया कि मारे गए दो अपराधियों में क्या विकास दुबे भी है, इसकी पहचान कराई जा रही है।

ये हैं शहीद होने वाले पुलिस कर्मियों की लिस्ट

1. देवेन्द्र मिश्र पुत्र महेश चन्द्र मिश्र (क्षेत्राधिकारी, बिल्हौर), ग्राम व पोस्ट- महेवा, थाना गिरवॉ, जिला बांदा
2. महेश चन्द्र यादव पुत्र देवनारायण यादव, ग्राम-वनपुरवा, थाना सरेनी, जिला-रायबरेली
3. अनूप कुमार सिंह पुत्र रमेश बहादुर सिंह, ग्राम- बेलखरी,पोस्ट- डडीकाडीह, थाना-मानधाता, प्रतापगढ़
4. नेबूलाल पुत्र कालिका प्रसाद, ग्राम-मीती,थाना-हड़िया, जिला-इलाहाबाद
5. जितेन्द्र पाल पुत्र तीर्थपाल, ग्राम-बरारी, पोस्ट-बरारी, थाना रिफाइनरी, जिला- मथुरा
6. सुल्तान सिंह पुत्र हर प्रसाद, ग्राम-मऊरानीपुर दलीलचौक, थाना-मऊरानीपुर, जिला झांसी
7. बबलू कुमार, पुत्र छोटेलाल, ग्राम-पोखर पांडेय, नगला लोहिया, पोस्ट- मलोखरा, थाना-फतेहाबाद, जिला-आगरा
8. राहुल कुमार पुत्र ओमकुमार, ग्राम-सी-405, देवेन्द्र पुरी, थाना-मोदीनगर, जिला गाजियाबाद

Trending