कृषि कानूनों की वापसी पर बोले मुख्यमंत्री योगी- लोकतंत्र में किसी की भी आवाज को अनसुना नहीं कर सकते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कृषि कानूनों के वापस लेने ऐलान के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।
 
CM Yogi pic.jpg
मुख्यमंत्री योगी-  कृषि कानून

लखनऊ । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कृषि कानूनों के वापस लेने ऐलान के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। सीएम ने कहा कि  लोकतंत्र में हम किसी आवाज को अनसुनी नहीं कर सकते हैं। यह हमारी कमी थी कि हम सही चीज समय पर उन तक पहुंचाने में कोताही बरती। अब आपसी  बातचीत से इन समस्याओं का समाधान करेंगे। लोकतंत्र की यह सबसे बड़ी ताकत है। 

मुख्यंमत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गुरु नानक देव जी के 552 वें प्रकाशोत्सव पर डीएवी कॉलेज मैदान में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सिख धर्म के  इतिहास के बगैर भारत का इतिहास अधूरा है। इस प्रकार के आयोजन केवल सिख समुदाय तक सीमित न रखकर पूरे भारत में मनाना चाहिए। 

गुरुनानक देव सिद्धपुरूष थे, पर अपनी सिद्धि का उन्हें कोई अहंकार नहीं था। बाबर को जाबर कहने का साहस उस कालखण्ड में गुरुनानक देव ही कर सकते थे। हम सब को सिख गुरुओं के महान तप, साधना, सिद्धि और देश धर्म के लिए किए गए कार्यो से प्रेरणा लेनी चाहिए। उनकी प्रेरणा हमें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगी।  फूलों से सजे गुरु के विशेष दीवान के समक्ष संगत ने सजदा कर खुशहाली की दुआएं मांगी। लोगों ने एक दूसरे को गुरु पर्व की बधाई दी। रागी जत्थों व ज्ञानियों ने सबद कीर्तन व गुरु की कथा से गुरु की महिमा का बखान किया।