मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया प्रदेश के सबसे ऊंचे तिरंगे का लोकार्पण

-246 फीट ऊंचा यह तिरंगा प्रदेश का पहला और देश का सातवां सबसे ऊंचा ध्वज
-15 किलोमीटर दूर से ही बनेगा गोरखपुर की पहचान

गोरखपुर। गोरखपुर के नाम अब एक और गौरव जुड़ गया है। प्रदेश का सबसे ऊंचा तिरंगा अब गोरखपुर में फहरायेगा। गोरखपुर महोत्सव के अवसर पर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सबसे ऊंचे तिरंगे का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस तिरंगे का जहां प्रदेश में पहला स्थान है वहीं देश में इसका सातवां स्थान होगा।
रामगढ़ ताल के किनारे लगाया गया प्रदेश का सबसे ऊंचा तिरंगा (246 फीट) गोरखपुर की नई पहचान होगा।लोगों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र बनेगा और रामगढ़ताल की सुंदरता में चार चांद लगायेगा। गोरखपुर का यह तिरंगा 15 किमी दूर से ही नजर आएगा। इससे पहले प्रदेश का सबसे ऊंचा तिरंगा गाजियाबाद के मुखर्जी पार्क में लगा है जिसकी ऊंचाई 211 फीट है।

उद्योगपति अमर तुलस्यान ने गोरखपुर में प्रदेश का सबसे ऊंचे तिरंगे की योजना बनाई थी। दिसम्बर 2017 में जिला प्रशासन से इसके लिए अनुमति मिल गई थी। इसका ढांचा तैयार कर तिरंगा लगाने वाली कंपनी ने इसका ट्रायल भी कर लिया था। इसी बीच नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से रामगढ़ ताल के किनारे किसी भी प्रकार के निर्माण पर रोक लगा दी गई। बाद में जीडीए की ओर से अनुमति मिलने के बाद यहां पोल खड़ा कर दिया गया। करीब एक साल से तिरंगा फहराने का इंतजार किया जा रहा था। अब 13 जनवरी को यह इंतजार खत्म हुआ।

देश के सबसे ऊंचे ध्वजों में बेलगाम कर्नाटक 360.8 फीट, अटारी बॉर्डर-पंजाब 360 फीट, कोल्हापुर-महाराष्ट्र 303 फीट, पहाड़ी मंदिर-रांची 293 फीट, तेलीबांधा-रायपुर 269 फीट, फरीदाबाद-हरियाणा 250 फीट, गोरखपुर-उत्तरप्रदेश 246 फीट, भोपाल -मध्यप्रदेश 237 फीट, मुखर्जी पार्क-गाजियाबाद 211 फीट, कनॉट प्लेस- दिल्ली, 207 फीट ,जयपुर-राजस्थान 206 फीट हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री कोणार्क मंदिर की तर्ज पर बने जेट्टी प्रवेश द्वार और बुद्ध प्रवेश द्वार का भी लोकार्पण किया।