Connect with us

उत्तर प्रदेश

अयोध्या : विद्युत कर्मियों की कारिस्तानी ने कर दिया पांच नौनिहालों को अनाथ

Published

on

रवीन्द्र पाण्डेय”रवि”

अयोध्या। जिले में विद्युत कर्मियों की लापरवाही वैसे भी कुख्यात है।निष्क्रियता और बेपरवाही की हद तो तब हो गयी जब पॉवर कारपोरेशन के गाड़े गये एक खम्भे के स्टेवायर में उतरे बिजली के करंट की चपेट में आने से एक युवा किसान दम्पत्ति की तड़प तड़प कर जान चली गयी।एक तरह ज़िँदगी में भविष्य के लिये हजारों सपने लिये किसान दम्पत्ति असमय कालकवलित हो गये तो वहीँ दूसरी ओर उसके पाँच मासूम बच्चे बेसहारा हो गये।जिनके सिर से एक झटके में माँ और बाप दोनों का साया हट गया।
यह हृदयविदारक मामला जनपद अयोध्या के थानाक्षेत्र कुमारगंज के ग्राम बवाँ मजरे झलिहन का है।यहाँ बिजली के खम्भे से लगे स्टेवायर में प्रवाहित बिजली के करेंट से किसान दम्पत्ति ओम प्रकाश गोस्वामी और मिथिलेश कुमारी की दर्दनाक मौत हो गयी।ग्रामीणों ने बताया कि ओम प्रकाश गोस्वामी गरीब किसान था। जो अधिया/बटायी पर दूसरों के खेत लेकर काश्तकारी करता था। रविवार को वह अपनी पत्नी मिथिलेश के साथ खेतों में काम करने जा रहा था। रास्ते में अर्जुन अग्रहरि का खेत पड़ता है। जिसमेँ उसने फसल को जानवरों से बचाने के लिये लोहे के कँटीले तार घेर रखा है।उन्हीँ तारों का एक छोर बिजली विभाग के लगे खम्भे के स्टेवायर को छू रहे थे।खेत जाते वक्त ओम प्रकाश का हाथ कँटीले तार में छू गया। जिससे वह विद्युत स्पर्शाघात की चपेट में आकर घायल होकर तड़पने लगा।
अचानक अपने पति को तारों में उलझकर तड़पता देख उसकी पत्नी उसे छुड़ाने दौड़ी तो वह भी बिजली के करेंट की चपेट में आ गयी। जबतक लोग वहाँ पहुँचते दोनों की जान जा चुकी थी।हालाँकि सूचना मिलने पर पहुँची डायल 100 की गाड़ी दोनों को लेकर सीएचसी मिल्कीपुर पहुँची। जहाँ डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।अमानवीयता और लापरवाही की नज़ीर उस समय भी दिखी,  जब दुर्घटना की खबर लगते ही ग्रामीणों ने स्थानीय विद्युत उपकेंद्र को सप्लाई रोकने के लिये फोन किया गया। लेकिन काफी देर तक उनकी बात अनसुनी की गयी। बाद में एसडीएम मिल्कीपुर के डी शर्मा ने पहुँचकर परिवार को ढांढस बँधाया। https://kanvkanv.com

Trending