अखिलेश यादव ने दी चुनाव आयोग के खिलाफ धरने की धमकी

मतदाता सूची के मुद्दे को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सपा के अखिलेश यादव ने चुनाव आयोग को लेकर बड़ बयान दिया है।
 
Akhilesh Yadav
अखिलेश यादव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश का सियासी पारा इस वक्त काफी गर्म है। उसकी वजह है अगले साल होने वाला विधानसभा। सभी प्रमुख सियासी दल चुनाव जीतने के लिए अपनी ताकत झोंक रहे हैं। इसी बीच मतदाता सूची के मुद्दे को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सपा के अखिलेश यादव ने चुनाव आयोग को लेकर बड़ बयान दिया है।


अखिलेश यादव ने मंगलवार को कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो उनकी पार्टी 2022 के यूपी विधानसभा चुनावों के लिए मतदाता सूची संशोधन के मुद्दे पर चुनाव आयोग के खिलाफ धरने पर बैठेगी। सपा प्रमुख ने कहा कि मतदाता सूची संशोधन में, चुनाव आयोग ने 21 लाख से अधिक नए नाम जोड़े हैं और 16 लाख से अधिक नाम हटा दिए हैं। लेकिन इस बार चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों को क्रॉस-चेक करने के लिए सूची नहीं दी है। 2019 के लोकसभा चुनाव तक चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों को सूची दी थी, फिर इस बार क्यों नहीं?।

अखिलेश ने कहा कि उनकी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने पार्टी प्रतिनिधिमंडल के साथ यूपी के मुख्य चुनाव अधिकारी से मुलाकात की और उन्हें एक ज्ञापन दिया। अखिलेश ने कहा, "हम दिल्ली (ईसी) में भी ज्ञापन देंगे और अगर जरूरत पड़ी तो धरने पर बैठेंगे। अखिलेश ने यह भी कहा कि "मैं समझता हूं कि चुनाव आयोग में तैनात अधिकांश अधिकारी यूपी से भेजे गए थे।