UP Election 2022: योगी सरकार का बड़ा तोहफा, किसानों के बाद अन्य उपभोक्ताओं को बिजली के बिल में दी बड़ी राहत

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) से पहले सियासी दलों के मुफ्त बिजली के वादे पर मचे घमासान के बीच योगी सरकार ने किसानों के बाद अन्य बिजली उपभोक्ताओं को भी बड़ा तोहफा दिया है। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसानों के साथ अन्य बिजली उपभोक्ताओं को भी बड़ा उपहार दे दिया है।

 
yyy
UP Election 2022: योगी सरकार का बड़ा तोहफा, किसानों के बाद अन्य उपभोक्ताओं को बिजली के बिल में दी बड़ी राहत

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) से पहले सियासी दलों के मुफ्त बिजली के वादे पर मचे घमासान के बीच योगी सरकार ने किसानों के बाद अन्य बिजली उपभोक्ताओं को भी बड़ा तोहफा दिया है। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसानों के साथ अन्य बिजली उपभोक्ताओं को भी बड़ा उपहार दे दिया है।

शुक्रवार को योगी सरकार में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट कर बिजली दरों में कमी का बड़ा एलान किया। इसके तहत शहरी मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर छह रुपए प्रति यूनिट से घटाकर तीन रुपए प्रति यूनिट किया है। इसके साथ फिक्स चार्ज 130 रुपए प्रति हॉर्स पावर से घटकर 65 रुपए प्रति हॉर्स पावर किया गया है। एनर्जी एफिशिएंट पंप में दर 1.65 रुपए प्रति यूनिट से घटकर 83 पैसे प्रति यूनिट तथा फिक्स चार्ज 70 रुपए प्रति हॉर्स पावर की जगह 35 रुपए प्रति हॉर्स पावर होगी।

श्रीकांत शर्मा ने बताया कि निजी नलकूप के नये बिलों में ग्रामीण मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर 2 रुपए प्रति यूनिट से घटकर एक रुपए यूनिट व फिक्स चार्ज 70 रुपए प्रति हॉर्स पावर से घटकर 35 रुपए प्रति हॉर्स पावर होगा। अनमीटर्ड कनेक्शन में फिक्स चार्ज 170 रुपए प्रति हॉर्स पावर की जगह 85 रुपए प्रति हॉर्स पावर होगा। श्रीकांत शर्मा ने कहा कि पीएम मोदी के संकल्प किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में निजी नलकूप कनेक्शनों की विद्युत दरों में 50 प्रतिशत की कमी कर बड़ी राहत देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हार्दिक अभिनंदन है।

बता दें, योगी सरकार ने गुरुवार को किसानों को बड़ा तोहफा दिया। सिंचाई के लिए निजी नलकूप की मौजूदा बिजली दर में सरकार ने 50 प्रतिशत की कटौती करने का निर्णय किया है। इससे राज्य के 13 लाख किसानों को सीधा फायदा होगा। किसानों का सिंचाई का खर्चा अब आधा हो जाएगा।