Manish Gupta Murder Case: सीएम योगी सख्त, दोषी पुलिस वाले होंगे बर्खास्त

कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता (Manish Gupta Murder Case) की गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से हुई मौत के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अख्तियार कर ​लिया है।
 
Manish Gupta Murder Case.webp
Manish Gupta Murder Case

लखनऊ। कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता (Manish Gupta Murder Case) की गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से हुई मौत के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अख्तियार कर ​लिया है। सीएम ने कहा कि दोषी पाए जाने पर पुलिसवालों की बर्खास्ती के आदेश दिए गए हैं। वहीं, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर और डीजी इंटेलिजेंस के नेतृत्व में 2 कमेटियां बनाने के निर्देश दिए हैं। यह कमेटियां प्रदेश के सभी पुलिसकर्मियों के रिकॉर्ड का रिव्यू करके सीएम को अपनी रिपोर्ट देगी।

मनीष का कानपुर प्रशासन ने सुबह 5 बजे अंतिम संस्कार करा दिया।

उधर  कानपुर जिला प्रशासन ने तड़के मनीष का अंतिम संस्कार करा दिया है। प्रशासन का कहना है कि ये कदम परिवार की सहमति से उठाया गया है। गुरुवार सुबह सुबह जब मनीष का शव अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था तो पत्नी मीनाक्षी बेसुध हो गईं। मीनाक्षी केस की जांच SIT से कराने की मांग कर रही हैं। वे मुख्यमंत्री योगी से मिलना चाहती हैं। आरोप है कि सोमवार की रात गोरखपुर के होटल में ठहरे मनीष को पुलिसकर्मियों ने पीटा था। इसके बाद उनकी मौत हो गई थी। मनीष की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी सामने आई है। इसमें मनीष की बॉडी पर चोट के निशान पाए गए हैं।

इससे पहले मनीष गुप्ता का शव बुधवार सुबह 9 बजे गोरखपुर से कानपुर उनके घर लाया गया था। घटना से नाराज परिजन ने अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था। उनकी मांग थी कि वे सीएम योगी से मिलेंगे, दोषियों पर कार्रवाई की मांग करेंगे और मुआवजा लेंगे इसके बाद ही अंतिम संस्कार करेंगे। 

Akhilesh Yadav met Manish Gupta's family

हत्याकांड में 6 पुलिसवाले सस्पेंड, केस दर्ज
मनीष गुप्ता की मौत के मामले में इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह समेत 6 पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है। इतना ही नहीं तीन पुलिसकर्मियों के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया गया है। 

पोसटमार्टम रिपोर्ट ने बयां की बर्बरता की कहानी 
मनीष गुप्ता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट उसके साथ हुई पुलिसिया बर्बरता की कहानी बयां कर रही है। ​मनीष को  बुरी तरह पीटा गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिर, चेहरे और शरीर के दूसरे हिस्सों में गंभीर चोट के निशान मिले हैं।

पीड़ित परिवार से मिले अखिलेश 

पुलिस की पिटाई से मरने वाले मनीष गुप्ता के परिवार से समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुलाकत की। अखिलेश ने सपा की तरफ से 20 लाख रुपये का आर्थिक सहायता का ऐलान किया। साथ ही परिवार को न्याय दिलाने का भरोसा भी दिया । पूर्व मुख्यमंत्री ने मामले की जांच  हाईकोर्ट के रिटायर जज से कराने की मांग की।