इंदौर नगर निगम का काम देश में नम्बर वन, भोपाल तीसरे स्थान पर

इंदौर । केन्द्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा जारी नगर निगम प्रदर्शन सूचकांक में इंदौर नगर निगम का काम देशभर में नम्बर वन है, जबकि इस सूचकांक में मप्र की राजधानी भोपाल ने तीसरा स्थान हासिल है। वहीं सरल जीवन सूचकांक में इंदौर रहने लायक शहरों की सूची में 9वें स्थान पर है। पिछले साल इंदौर इस सूचकांक में आठवें नम्बर पर था।
केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीपपुरी ने 111 शहरों के लिविंग इंडेक्स किया जारी
केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीपपुरी ने गुरुवार दोपहर 1 बजे दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश के 111 शहरों के लिविंग इंडेक्स जारी किया। इसमें रहने लायक सबसे टॉप शहर के साथ ही नगर पालिका के काम की रैंकिग भी जारी की। इस रैंकिग में देश के लगातार चार बार सबसे स्वच्छ शहर रहे इंदौर ने 10 लाख से ज्यादा आबादी वाले नगर निगम में सबसे तेजी से काम करने में नंबर वन का तमगा हासिल किया है। वहीं, इस मामले में भोपाल तीसरे नंबर पर है। इसके अलावा रहने लायक शहरों की सूची में इंदौर 9वें नंबर पर है। वहीं, बेंगलुरू ने इसमें टॉप पर है।
केन्द्र सरकार द्वारा विभिन्न मापदंडों के आधार पर शहरों की स्थिति के अनुसार उन्हें रैंकिंग दी गई है। इसमें शहरों की स्वच्छता, आबोहवा, वहां व्यापार का स्तर से लेकर नागरिकों की जागरुकता तक हर चीज को देखा गया। सडक़ कनेक्टिविटी पर भी विशेष ध्यान दिया गया। केन्द्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव दुर्गाशंकर मिश्र ने इस सूची की घोषणा से पहले इंदौर की जमकर तारीफ की, यहां सूखे नाले में हुए क्रिकेट, दंगल और शादी समारोह के बारे में बताया और इंदौर नगर निगम के कार्यों की तारीफ की। इस दौरान इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल, संभाग आयुक्त डॉ पवन कुमार शर्मा सहित कई अफसर के काम की उन्होंने सराहना की।
10 लाख से ज्यादा जनसंख्या वाले शहरों में सरल जीवन सूचकांक में 9वें नंबर पर आया है। इस सूची में बेंगलुरु पहले नंबर पर है। इंदौर सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर पिछले 4 साल से स्वच्छता में नंबर वन पर आ रहा है। इसके पीछे शहर के जनता, जनप्रतिनिधि, अधिकारी व कर्मचारी हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सपनों के शहर इंदौर को हमेशा आगे लाने का प्रयास कर रहे हैं।