Lakhimpur Violence: केंद्रीय मंत्री टेनी के बेटे आशीष मिश्र की कोर्ट में पेशी आज, रिमांड या बेल पर होगा फैसला

यूपी के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा (Lakhimpur Violence )के मुख्य आरोपी आशीष मिश्र को पुलिस आज सोमवार को कोर्ट में पेश करेगी।
 
Ashish Mishra.webp
Lakhimpur Violence

लखीमपुर खीरी। यूपी के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा (Lakhimpur Violence )के मुख्य आरोपी आशीष मिश्र को पुलिस आज सोमवार को कोर्ट में पेश करेगी। विशेष जांच दल (एसआईटी) ने 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र को शनिवार को करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया था, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। पुलिस कोर्ट से आशीष मिश्रा के रिमांड की मांग करेगी।

आशीष मिश्रा के पास नहीं थे एसआईटी के कई सवालों के जवाब
आशीष लखीमपुर के तिकुनिया कांड का मुख्य आरोपी है. एसआईटी से पूछताछ के दौरान कई ऐसे गंभीर सवालों के जवाब आशीष मिश्रा के पास नहीं थे. इसके बाद उसको गिरफ्तार किया गया था. अब इन्हीं सवालों के जवाब के लिए पुलिस आज कोर्ट में पुलिस कस्टडी रिमांड की अर्जी देने जा रही है। कस्टडी रिमांड करीब 14 दिन की होगी और इसकी अर्जी पुलिस की तरफ से दी जाएगी।14 दिन की कस्टडी रिमांड में उन तमाम सवालों का जवाब मिल सके जिससे हिंसा के पीछे के मुख्य आरोपियों की भूमिका सामने आए। उध आशीष मिश्र के वकील उसकी बेल की कोशिश करेंगे। 

14 दिन की न्यायिक हिरासत में लखीमपुर खीरी जिला जेल भेजा गया

इससे पहले आशीष मिश्रा की शनिवार देर रात मेडिकल जांच कराई गई थी और आधी रात के बाद मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) की अदालत में पेश किया गया. न्यायिक मजिस्ट्रेट ने आशीष को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लखीमपुर खीरी जिला जेल भेजा गया. मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व कर रहे पुलिस उप महानिरीक्षक (मुख्यालय) उपेंद्र अग्रवाल ने शनिवार रात लगभग 11 बजे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की जानकारी दी।

 
 
सुप्रीम कोर्ट ने जताई थी नाराजगी
तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी की हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के मामले में आशीष और अन्य लोगों के खिलाफ हत्या समेत अन्‍य संबंधित धाराओं में तिकुनिया थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मामले में राज्य सरकार की कार्रवाई पर गहरी नाराजगी जाहिर की थी.