Lakhimpur Violence Case: राष्ट्रपति के दर पर पहुंचे राहुल और प्रियंका, गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र की बर्खास्तगी की मांग

उत्तर प्रदेश का लखीमपुर खीरी हिंसा मामला अब राष्ट्रपति भवन तक पहुंच गया है।
 
Rahul and Priyanka meet President in Lakhimpur violence case.jpg
Lakhimpur Violence Case

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश का लखीमपुर खीरी हिंसा मामला (Lakhimpur Violence Case)  अब राष्ट्रपति भवन तक पहुंच गया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी, राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी एक प्रतिनिधिमंडल के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने पहुंचे।  कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्त करने की मांग की है। 

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद सांसद राहुल गांधी ने कहा​ कि 'लखीमपुर हिंसा के पीड़ित परिवारों का कहना है कि जिसने भी उनके बेटे की हत्या की है। उसे सजा मिले। जिस व्यक्ति (आशीष मिश्र) ने हत्या की उसके पिता देश के गृह राज्य मंत्री हैं। जब तक वह अपने पद पर हैं तब तक न्याय नहीं मिलेगा। ये बात हमने राष्ट्रपति को बताई है।

प्रियंका गांधी ने कहा कि 'गृह राज्य मंत्री अपराधी के पिता हैं। जब तक उनकी बर्खास्तगी नहीं होती न्याय नहीं हो सकता। शहीद पत्रकार और किसानों के परिजनों की ये मांग है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति ने आश्वासन दिया है कि वह खुद इस मामले पर आज सरकार से बात करेंगे।'

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बताया कि हमने राष्ट्रपति को लखीमपुर खीरी हिंसा के संबंध में सारी जानकारी दी। हमने दो मांगे उनके समक्ष रखी है। पहली-सिटिंग जज से निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। दूसरी- गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र को या तो इस्तीफा दे देना चाहिए या बर्खास्त कर देना चाहिए। प्रतिनिधि मंडल में वरिष्ठ नेता एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल भी रहे हैं।