Connect with us

राज्य

लखीमपुर-खीरी : मानव तस्करी कर नेपाल से लाए जा रहे बच्चों को एसएसबी ने छुड़वाया

Published

on

देव श्रीवास्तव

लखीमपुर-खीरी। मानव तस्करी का एक बड़ा मामला भारत नेपाल सीमा पर फिर से सामने आया है। यहां नेपाल से बिक्री के लिए ले जाए जा रहे छह बच्चों को एसएसबी ने मुक्त कराया है। मुक्त कराए गए सभी छह बच्चे काठमांडू नेपाल के हैं। हालांकि इस दौरान बच्चों को ले जा रहा तस्कर एसएसबी के जवानों को चकमा देकर फरार हो गया।

बच्चों को ले जाया जा रहा था पुणे

तिकोनिया थाना क्षेत्र के बॉर्डर पर एसएसबी के खुफिया विभाग तथा आईबी गौरीफंटा की सूचना के आधार पर सोमवार को कार्यवाही करते हुए एसएसबी की गौरीफंटा कंपनी के द्वारा उस समय 6 छोटे बच्चों को मुक्त करा लिया गया जब उनको गौरीफटा से मथुरा जाने वाली बस में बैठाया जा रहा था। पूछताछ करने पर उन बच्चों ने बताया कि उनको ज्यादा पैसों की नौकरी का लालच देकर पुणे ले जाया जा रहा था।

पैसे के लालच में भाग आये थे बच्चे

सभी बच्चे काठमांडू नेपाल के रहने वाले हैं। जो अपने माता पिता को बिना बताये पैसे के लालच में भाग आये थे। पकड़े गए बच्चो के नाम में राकेश कार्की (15) पुत्र जय देव कार्की कक्षा नौ का छात्र है। इसी तरह अर्जुन डाबरी (14) पुत्र विष्णू डाबरी कक्षा आठ, पवन राणा पुत्र अमित राणा (17) कक्षा नौ, सनी श्रेष्ठ (15) पुत्र सावित्री श्रेष्ठ कक्षा आठ, संदीप तमांग (15) पुत्र शंकर तमांग कक्षा 10 और सूजन लामा (15) पुत्र अर्जुन लामा कक्षा आठ का छात्र था।

फरार युवक की पहचान

कार्यवाहक कमांडेंट श्री संजीव कुमार ने बताया कि ये बच्चे हार्टलैंड स्कूल काठमांडू में पाढ़ते थे। काठमांडू से इनको लालच देकर भारत के पुणे में लाया जा रहा था। इसके पीछे बहुत बड़ा गिरोह काम कर रहा है, यह गिरोह  बड़ी चालाकी से बच्चों को भारत लाकर अवैध कामों में लगा देता है। उन्होंने यह भी बताया कि फरार हुए युवक की पहचान हो चुकी है। साथ ही उस वक्त की पहचान भी की जा रही है। जिसे यह तस्कर पुणे में बच्चों को बेचने वाला था। एसएसबी ने इसे बेहद गंभीरता से लिया है, जल्दी ही इसका खुलासा किया जाएगा।

महानगरों में बाल मजदूरों की है डिमांड

भारत के महानगरों में दंपत्ति के कामगार होने के कारण उनके पास समय का अभाव होता है। ऐसे में उन्हें ऐसे नौकर की आवश्यकता होती है, जो उनके लिए 24 घंटे काम कर सकें। यही कारण है कि बाल मजदूरी की मांग महानगरों में बढ़ती जा रही है। इसी कारण नेपाल व भारत के मानव तस्कर इन बच्चों की तस्करी में सक्रिय हैं। जिसका जीता जाता उदाहरण  सोमवार को सामने आया। https://kanvkanv.com

उत्तर प्रदेश

कन्नौज : हाटस्पाॅट क्षेत्रों में आवागमन पर पूरी तरह से डीएम ने लगाई रोक

Published

on

किन्तु आवश्यक वस्तुओं की आपर्ति निर्वाध होगी

बृजेश चतुर्वेदी

कन्नौज। जनपद के हाटस्पाॅट क्षेत्रों में आवागमन पर पूर्णत: प्रतिबन्धित किया जाय। हाटस्पाॅट क्षेत्रों में केवल आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति सुनिश्चित की जाये।
 यह निर्देश आज जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने पुलिस अधीक्षक  अमरेन्द्र प्रसाद सिंह के साथ संयुक्त रूप से अस्थायी आश्रय स्थल अर्शी पैरा मेडिकल कालेज का औचक निरीक्षण करते हुये उपस्थित कर्मचारियों को दिये। उन्होनें आश्रय स्थल पर बिहार एंव झारखंड के तीन-तीन व्यक्तियों को दिये जा रहे भोजन एंव अन्य सुविधाओं का जायजा लिया, जहाॅ संबंधित व्यक्तियों द्वारा भोजन एंव अन्य सुविधाओं का नियमित रूप से दिया जाना बताया।
उन्होनें वहाॅ पर उपस्थित व्यक्तियों से उनके स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी करते हुये उनकी क्वारटाइन अवधि पूर्ण होने की दशा में उन्हें बस आदि वाहन से भेजे जाने का भी आश्वासन दिया।  जिलाधिकारी ने तालग्राम में जयपुर से दिनांक 24.मई को आये दो व्यक्तियों में कोरोना संक्रमण की 26 एवं 27 मई को पुष्टि होने पर हाटस्पाॅट घोषित मोहल्ला जेरकिला का निरीक्षण करते हुये की गई बैरिकेडिंग में सुधार करने एंव छोटी सैनेटाइजेशन मशीन द्वारा घरों में सैनेटाइजेशन किये जाने एंव नियमित रूप से सभी व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग कराने एंव हाटस्पाॅट क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं को छोड़कर सभी आवागमन पूर्णत: प्रतिबन्धित किये जाने के सख्त निर्देश दिये।
उन्होनें बताया कि शेरू पुत्र जलालुदीन एवं मो0 आरिफ पुत्र हबीब 24 मई  को जनपद में आये थे, जिसके उपरान्त तत्काल जांच सुनिश्चित करते हुये संबंधित व्यक्तियों की रिपोर्ट 26 एंव 27 मई को प्राप्त होने पर उन्हें तत्काल कोविड अस्पताल ले जाया गया था, जिसके उपरान्त पूर्ण मोहल्ले की घेराबंदी कर सैनेटाइजेशन कराते हुये सभी व्यक्तियों की जांच करते हुये पूल टेस्टिंग भी की गई। उन्होनें हाटस्पाॅट क्षेत्र में साफ-सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराने एंव खाद्यान्न वितरण नियमित रूप से सुनिश्चित किये जाने के भी निर्देश अधिशासी अधिकारी तालग्राम को दिये।
 इससे पूर्व आज अपरजिलाधिकारी गजेन्द्र कुमार ने जयपुर से आने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आने वाले प्रवासी व्यक्तियों हेतु की गई व्यवस्था का जायजा लिया एंव आज प्रातः 05 बजे स्टेशन पर आयी श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कन्नौज के 08, हरदोई के 38, मैनपुरी के 08, कासगंज के 04, आगरा के 01 एंव फर्रूखाबाद के 100 कुल 159 व्यक्तियों को कुशलतापूर्वक थर्मल स्क्रीनिंग कराते हुये उतारा गया।
रेलवे स्टेशन पर अन्य जनपदों के बैठे हुये व्यक्तियों हेतु पेयजल व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई। इसके उपरान्त सभी व्यक्तियों को 5 बसों के माध्यम से सकुशल भेजा गया एंव कन्नौज के व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग एंव अन्य आवश्यक कार्यवाही हेतु क्रिस्टू ज्योति अकादमी में खाद्यान्न किट उपलब्ध कराते हुये होम क्वांरटाइन हेतु भेजा गया। इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी सदर, स्टेशन अधीक्षक कन्नौज, एंव अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
Continue Reading

उत्तर प्रदेश

कन्नौज : पट्टे की जमीं पर कब्जा मुक्ति को लेकर ईंट पत्थर चले, अब पुलिस ढूंढ रही 

Published

on

बृजेश चतुर्वेदी

कन्नौज। जिले के सौरिख थाना क्षेत्र के भावलपुर गांव में बीती रात जमीनी विवाद के चलते दो पक्षों में जमकर बवाल हुआ। दोनों तरफ से ईंट-पत्थर चलाए गए और फायरिंग भी की गई। घटनाक्रम के अनुसार बहावलपुर गांव निवासी पूसेलाल कोरी पुत्र भगवानदीन कोरी को पूर्व प्रधान द्वारा जमीन का पट्टा किया गया था। जिसके कुछ हिस्से पर सुरेश दिवाकर पुत्र सरदार निवासी ग्राम गढ़िया पाह कब्जा किए है।
मंगलवार की शाम करीब 4 बजे वर्तमान ग्राम प्रधान इंद्रपाल सिंह पुत्र अहिबरन सिंह द्वारा लेखपाल से नाप कराकर सुरेश धोबी की जमीन में से पूसेलाल कोरी का पट्टा निकलवा दिया। नाप-जोख के बाद सभी लोग अपने-अपने घर चले गए। लेकिन रात करीब 9 बजे सुरेश दिवाकर के पुत्रगण अजीत व पुष्पेंद्र अपने कुछ साथियों को लेकर ग्राम प्रधान इंद्रपाल सिंह के घर पर पहुंच गए, जहां बातचीत के दौरान दोनों में गर्मा-गर्मी हो गई।
आरोप है कि इस दौरान प्रधान और उनके परिजनों के साथ उक्त लोगों ने मारपीट कर दी। कुछ ही देर में प्रधान समर्थक भी आ गए और दोनों पक्षों में जमकर बवाल हुआ। ईंट-पत्थर चले व फायरिंग भी की गई। इस घटना में कई लोग चुटहिल हो गए। मामले को लेकर दोनों पक्षों की ओर से सौरिख थाने में तहरीर दी गई। पुलिस ने दोनों पक्षों की ओर से रिपोर्ट दर्ज कर ली है। तनाव को देखते हुए गांव में फोर्स तैनात कर दिया गया। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।
Continue Reading

उत्तर प्रदेश

छिबरामऊ कोतवाली के आरक्षक की मार्ग दुर्घटना में मौत

Published

on

बृजेश चतुर्वेदी

कन्नौज। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की बुढ़ाना तहसील क्षेत्र के खेड़ी सुड़ियान गांव के रहने वाले 23 वर्षीय विनीत कुमार बालियान पुत्र बालेन्द्र सिंह छिबरामऊ कोतवाली में आरक्षी के तौर पर तैनात थे।

दादी के निधन की सूचना पर जा रहे थे घर

बताया गया कि विनीत कुमार की दादी का निधन हो गया था, जिस कारण वह दो दिन का आकस्मिक अवकाश लेकर बुधवार तड़के करीब 3:15 बजे अपनी बाइक से घर जाने के लिए निकल पड़े। लेकिन जैसे ही वह इटावा जिले में पहुंचे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर थाना चौबिया क्षेत्र में 109 किलोमीटर पर किसी वाहन ने उनकी बाइक में टक्कर मार दी। बाइक से कुचल कर उनकी मौके पर ही मौत हो गई। आरक्षी विनीत की मौत की सूचना से कन्नौज जिले के पुलिस कर्मी शोक में डूब गए।
Continue Reading

Trending