लखीमपुर खीरी हिंसा: अखिलेश और शिवपाल हिरासत में, केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे पर आशीष समेत 14 के खिलाफ केस दर्ज

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा ने यूपी में सियासात का पारा चढ़ा दिया है। समाजवादी पार्टी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। वहीं प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव की पुलिस की हिरासत में हैं। 
 
Akhilesh Yadav sitting on dharna.jpg
अखिलेश और शिवपाल हिरासत में

लखनऊ/ लखीमपुर खीरी । लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा ने यूपी में सियासात का पारा चढ़ा दिया है। किसानों से मिलने निकली लखीमपुर खीरी के लिए निकलीं प्रियंका गांधी को सीतापुर पुलिस ने हरगांव में उन्हें सुबह 4 बजे हिरासत में ले लिया। वहीं समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव को हिंसाग्रस्त जिले जाने से रोक दिया गया जिसके विरोध में सपा मुखिया अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए। 

कुछ देर बाद अखिलेश को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सपा के सैकड़ों समर्थकों और पुलिस के बीच जमकर नोकझोंक और धक्कामुक्की हुई। इस बीच गौतमपल्ली थाने के पास कुछ अराजक तत्वों ने एक पुलिस वाहन को आग के हवाले कर दिया।

वहीं शिवपाल यादव को इंजीनियरिंग कॉलेज , जानकीपुरम के पास प्रशासन ने रोका। शिवपाल यादव कार्यकर्ताओं के साथ हिरासत में, पुलिस लाइन ले जाया जा रहा है।

मंत्री अजय मिश्र के बेटे पर हत्या का केस
लखीमपुर में हुई हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 14 लोगों पर हत्या, आपराधिक साजिश और बलवे का केस दर्ज हुआ है। यह केस बहराइच के नानपारा के रहने वाले जगजीत सिंह की तहरीर पर तिकुनिया थाने में लिखा गया है। लखीमपुर खीरी में रविवार को किसान आंदोलन के बीच भड़की हिंसा में 8 लोगों की मौत हुई थी। वहीं, सोमवार सुबह एक पत्रकार का शव भी बरामद हुआ है। इसको मिलाकर अब तक मरने वालों की संख्या 9 हो गई है।

 मंत्री की बर्खास्तगी तक शवों का अंतिम संस्कार नहीं
इधर, लखीमपुर पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने ऐलान किया है कि जब तक मंत्री अजय मिश्र को बर्खास्त नहीं किया जाता है। उनके बेटे की गिरफ्तारी नहीं होती है। मृतक किसानों के शवों का अंतिम संस्कार नहीं होगा। इधर, घटनास्थल पर किसान जुटने लगे हैं। यहां किसानों की संख्या दो हजार हो गई है। इसे देखते हुए प्रशासन ने दंगा नियंत्रण की 3 गाड़ियां मंगाई है।