कानपुर को मिली मेट्रो ट्रेन की सौगात, पीएम मोदी ने कहा- डबल स्पीड से काम कर रही डबल इंजन की सरकार

उत्तर प्रदेश की औद्याेगिक राजधानी कानपुर के लोगों का बरसों पुराना सपना पूरा हो गया। शहर के लोगों को मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मेट्रो रेल की सौगात दी
 
Kanpur got the gift of Metro, PM Modi said - Double engine government working at double speed
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- कानपुर मेट्रो रेल

कानपुर। उत्तर प्रदेश की औद्याेगिक राजधानी कानपुर के लोगों का बरसों पुराना सपना पूरा हो गया। शहर के लोगों को मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मेट्रो रेल की सौगात दी। पीएम ने सीएम योगी और हरदीप पुरी के साथ आईआईटी से गीता नगर स्टेशन तक मेट्रो से यात्रा की। इसके अलावा मोदी ने बीना-पनकी बहुउत्पाद पाइप लाइन को भी राष्ट्र को समर्पित किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिठूर की शौर्य गाथा वाली शॉल और कानपुर मेट्रो का स्मृति चिह्न भेंट करके प्रधानमंत्री का स्वागत किया। 

पीएम मोदी रेलवे मैदान में कई परियोजनाओं का उद्घाटन करने के साथ रैली को भी संबोधित किया। मोदी ने संबोधन की शुरुआत करते हुए कहा कि आजाद भारत के औद्योगिक ऊर्जा देने वाले कानपुर को शत शत नमन। कानपुर ने ही प. दीन दयाल उपाध्याय, अटल बिहारी वाजपेयी जैसे विजनरी को गढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

यादगार अनुभव रहा मेट्रो का सफर 

मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि आज यूपी के अध्याय में एक और सुनहरा अध्याय जुड़ रहा है, आज हमको मेट्रो कनेक्टिवटी मिली है और बीना-पनकी पाइप लाइन भी कनेक्ट हो गया है। इससे अब यूपी के अन्य जिलों में पेट्रोलियम उत्पाद आसानी से सुलभ होंगे। इसके लिए पूरे उत्तर प्रदेश को बधाई। इससे पहले मेरा आइआइटी कानपुर में कार्यक्रम था, मैं पहली बार मेट्रो में सफर करके कानपुर के लोगों के उमंग का साक्षी बनना चाहता था। मेट्रो में सफर मेरे लिए यादगार अनुभव रहा है। 

पुरानी सरकारों ने खोया अमूल्य अवसर 

पीएम मोदी  ने पूर्व की सरकारों पर तंज कसते हुए कहा कि  यूपी में पहले जिन लोगों ने सरकार चलाई, उन लोगों ने समय की अहमियत नहीं समझी। 21वीं सदी में यूपी को जिस तेज गति से प्रगति करनी थी। उस अमूल्य अवसर और समय को पहले की सरकारों ने गंवा दिया। उनकी प्राथमिकताओं में यूपी का विकासनहीं था उनकी प्रतिबद्धता यूपी के लोगों के लिए नहीं थी। 

हम कर रहे डबल स्पीड में काम 

आज डबल इंजन की सरकार चल रही है, वो बीते कालखंड में समय का नुकसान हुआ उसकी भरपाई कर रही है। हम डबल स्पीड से काम कर रहे हैं, डबल इंजन की सरकार जिस काम को शुरू करती है, उसे पूरा करने के लिए हम दिन रात एक कर देते हैं। 

भ्रष्टाचार का इत्र छिड़का और अब मुंह पर लगा लिया ताला

जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्ष पर हमला बोला। उन्होंने किसी का नाम लिए बिना कहा, यूपी में भ्रष्टाचार का इत्र जो उन लोगों ने छिड़क रखा था। वह सब अब बाहर आ गया है। इसी वजह से अब ये लोग मुंह पर ताला लगाकर बैठे हैं। कोई क्रेडिट लेने तक नहीं आ रहा है। नोटों का जो पहाड़ जो पूरे देश ने देखा वही उनकी उपलब्धि है और यही उनकी सच्चाई है। यूपी के लोग सब देख रहे हैं, इसलिए अब जनता विकास के साथ है। विकास करने वालों के साथ है।

भाषण में ठग्गू के लड्डू का जिक्र 

कानपुर के लोगों का जो मिजाज है, जो कनपुरिया अंदाज है, जो उनकी हाजिर जवाबी है, उसकी तुलना ही नहीं की जा सकती है। ये ठग्गू के लड्डू के यहां क्या लिखा होता है, ऐसा कोई सगा नहीं..., आप जो कहते हैं कहते रहिए। लेकिन, मैं अगर कहूंगा कि ये कानपुरी है, जहां ऐसा कोई नहीं जिसको दुलार न मिला हो। संघ के कार्यक्रम में झाड़े रहो कलटरगंज, झाड़े रहो कलटरगंज.., नई पीढ़ी के लोग भूल गए क्या।


:::::::::::::

कानपुर मेट्रो:  9 किमी लंबी लाइन में बनाए गए 9 स्टेशन

कानपुर। मेट्रो रेल परियोजना का पूरा 9 किमी लंबा खंड आईआईटी कानपुर से मोती झील तक फैला हुआ है हालांकि कानपुर मेट्रो रेल परियोजना की पूरी लंबाई 32 किमी है और इसे 11,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की लागत से बनाया जा रहा है।

 कानपुर मेट्रो परियोजना के पहले चरण के तहत 9 किलोमीटर लंबी लाइन बिछाई गई है इसमें 9 मेट्रो स्टेशन बनाए गए हैं। इनमें आईआईटी कानपुर, सीएसजेएम यूनिवर्सिटी रावतपुर रेलवे स्टेशन कल्याणपुर रेलवे स्टेशन, गुरुदेव चौराहा, लाला लाजपत राय हॉस्पिटल, एसपीएम हॉस्पिटल, गीता नगर, मोती झील शामिल हैं।

सरकारी बयान के अनुसार, मेट्रो परियोजना दो चरणों में पूरी होगी एवं दो कॉरिडोर होंगे। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के 32.6 किलोमीटर लंबे दोनों कॉरिडोर में कुल 30 मेट्रो स्टेशन होंगे। बयान में कहा गया कि मेट्रो से एक बार में 974 यात्री सफर कर सकेंगे और ट्रेन की रफ्तार 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी इसके अनुसार, पहले कॉरिडोर की लंबाई भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर से नौबस्ता तक 24 किलोमीटर की होगी।