Connect with us

खेल

भारत के इस शहर में तैयार होगा हाईटेक क्रिकेट मैदान, यहां पर मिलेगी ये सुविधाएं

Published

on

मोहाली। अभी तक क्रिकेट मैचों में हमेशा बारिश खलल डालती थी और देश में ऐसा मैदान नहीं है जिसमें छत हो और मैच चलता रहे, वैसे अब ये समस्या जल्द खत्म होने वाली है। क्योंकि पंजाब क्रिकेट संघ द्वारा चंडीगढ़ में बन रहा पहला हाईटेक मैदान जल्द बनकर तैयार होने वाला है। मोटेरा में बने दुनिया के बड़े क्रिकेट मैदान में भी ये सुविधा नहीं है, जिसमें बारिश में मैच का आयोजन हो सके।

भविष्य की जरूरतों के अनुसार बन रहा ये मैदान हाईटेक क्रिकेट मैदान है। इसमें बिजली की आपूर्ति के लिए सोलर सिस्टम होगा। रेन वाटर हार्वेस्टिंग से पानी की आपूर्ति होगी। इस्तेमाल किए गए पानी को भी फिर से इस्तेमाल किया जाएगा।

हरियाली के लिए पेड़ लगाए जाएगा। मैदान में स्पेशल ड्रेनेज सिस्टम भी होगा, जितनी भी बारिश हो, मैच बाधित नहीं होगा। बारिश बंद होते ही पिच आधे घंटे में खेलने के तैयार हो जाएगी। दर्शक धूप व बारिश से बचे रहेंगे, इसके लिए दर्शक दीर्घा में पारदर्शी छत लगाई जा रही हैं।

पंजाब क्रिकेट संघ की तरफ से बनाए जा रहे इस मैदान का काम 90 फीसद तक हो चुका है। मैदान निर्माण कार्य अगस्त 2020 तक पूरा होने का लक्ष्य रखा गया था, लॉकडाउन के चलते इसका निर्माणकार्य धीमा हो गया है। सीईओ दीपक शर्मा के अनुसार, मार्च 2021 तक निर्माण कार्य पूरा कर लेंगे। ये मैदान अगर तैयार हो गया तो अगले साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप के कुछ मैच यहां पर आयोजन हो सकते हैं।

इस इंटरनेशनल मैदान में सुविधाओं का भी पूरा ध्यान रखा गया है। इसमें 30 कॉरपोरेट बॉक्स हैं, जो कि अभी तक भारत के किसी भी मैदान में नहीं है। हर कॉरपोरेट बॉक्स में 60 सीटें होंगी। बड़े-बड़े कॉरपोरेट घराने अपने लिए इन्हें 10 से 20 साल तक बुक करवा सकते हैं। दर्शक क्षमता को देखा जाए तो इसमें कुल 36 हजार लोग एक साथ बैठकर मैच का मजा ले सकते हैं।

इंटरनेशनल पिच क्यूरेटर दलजीत सिंह ने बताया है कि यह देश का ऐसा इकलौता क्रिकेट मैदान है, जिसमें सात इंटरनेशनल स्तर की पिच तैयार हो रही हैं। हर पिच पर इंटरनेशनल स्तर के मैच हो सकते हैं। उम्मीद थी कि इस सत्र में इस मैदान में रणजी मैच हो सकते हैं, कोरोना महामारी की वजह से अभी घरेलू सत्र को लेकर स्थिति साफ नहीं है। भविष्य में आईपीएल व इंटरनेशनल मैच इसी मैदान में होंगे, क्योंकि इसमें पार्किंग व ट्रैफिक संबंधी कोई दिक्कत नहीं होगी। यहां एक साथ 1640 गाड़ियों को पार्क किया जा सकता है।

 

 

 

खेल

ला लीगा के एक ही सीजन में 20 गोल कर लियोनेल मेसी ने रचा इतिहास

Published

on

बार्सिलोना । बार्सिलोना के स्ट्राइकर लियोनेल मेसी ला लीगा इतिहास में पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने एक ही सीजन में 20 गोल किये हैं और 20 गोलों में सहायक की भूमिका निभाई है। उन्होंने शनिवार को रियल वलाडोलिड के खिलाफ मैच में यह उपलब्धि हासिल की। यह मैच बार्सिलोना ने 1-0 से जीता।

ज़ेवी के बाद 20 गोलों में सहायक की भूमिका निभाने वाले पहले खिलाड़ी

मेसी 2008-09 में टीम के पूर्व साथी ज़ेवी के बाद ला लीगा सत्र में 20 गोलों में सहायक की भूमिका निभाने वाले पहले खिलाड़ी हैं। वलाडोलिड के खिलाफ मिडफील्डर आर्टुरो विडाल ने मैच के 15 वें मिनट में लियोनेल मेसी की सहायता से गोल किया था।

थिएरी हेनरी के बाद इस उपलब्धि को हासिल करने वाले दूसरे खिलाड़ी बने मेसी

33 वर्षीय मेसी यूरोप के शीर्ष पांच लीग में थिएरी हेनरी के बाद इस उपलब्धि को हासिल करने वाले केवल दूसरे खिलाड़ी हैं। हेनरी ने 2002-03 प्रीमियर लीग सीज़न के दौरान आर्सेनल के लिए 24 गोल किए थे। मेसी के वर्तमान में चल रहे ला लीगा सत्र में 22 गोल हैं और रियल मैड्रिड के करीम बेंजेमा से चार गोल आगे हैं। इस जीत के साथ ही बार्सिलोना के 79 अंक हैं और वह शीर्ष पर कायम रियल मैड्रिड से सिर्फ एक अंक पीछे है।

ओसासुना का सामना करेगी बार्सिलोना की टीम

बार्सिलोना की टीम ला लीगा में अपने अगले मैच में  गुरुवार 17 जुलाई को ओसासुना का सामना करेगी।

Continue Reading

खेल

हरभजन ने सचिन की बात का समर्थन कर कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली । अनुभवी स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के उस सलाह का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि एलबीडब्ल्यू के मामले में अगर डिसीजन रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) में गेंद स्टंप्स से टकराती दिखे, तो फिर बल्लेबाज को आउट देना चाहिए।

हरभजन ने समर्थन करते हुए  किया ट्वीट

हरभजन ने सचिन का समर्थन करते हुए ट्वीट किया, “पाजी मैं आप से 100 फीसदी सहमत हूं। अगर गेंद स्टंप्स को छूकर भी निकल रही है, तो भी बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू देना चाहिए। फिर इससे फर्क नहीं पड़ना चाहिए कि गेंद का कितना फीसदी हिस्सा विकेट से टकराया। ऐसे में खेल की बेहतरी के लिए नियमों में बदलाव होना चाहिए।”

एलबीडब्ल्यू के मामले में बोले थे सचिन

सचिन ने शनिवार को कहा कि एलबीडब्ल्यू के मामले में अगर डिसीजन रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) में गेंद स्टंप्स से टकराती दिखे, तो फिर बल्लेबाज को आउट देना चाहिए। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि इससे फर्क नहीं पड़ता कि गेंद का कितना फीसदी हिस्सा स्टंप्स से टकरा रहा है।

सचिन के मुताबिक, अगर गेंद स्टंप्स पर लग रही है, तो फिर ऑन फील्ड अंपायर के फैसले की परवाह किए बिना बल्लेबाज को आउट देना चाहिए।

सचिन ने पोस्ट किया ब्रायन लारा के साथ हुई चर्चा का वीडियो 

सचिन ने डीआरएस के मामले में वेस्टइंडीज के पूर्व बल्लेबाज ब्रायन लारा के साथ हुई चर्चा का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। इसमें सचिन ने इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) से एलबीडब्ल्यू के मामले में अंपायर कॉल के प्रावधान को हटाने पर विचार करने के लिए भी कहा था।

Continue Reading

खेल

जडेजा को 2019 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल की आई याद, कही ये बात

Published

on

By

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट फैन्स 10 जुलाई 2019 की डेट कभी नही भूल सकते है। 2019 वर्ल्ड कप का पहला सेमीफाइनल मैच 9 जुलाई को मैनचेस्टर में हुआ था, जिसका रिजल्ट अगले दिन 10 जुलाई को आया था। बारिश की वजह से उस मैच में रिजर्व डे रखा गया था।

टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रनों से हार मिली थी। रविंद्र जडेजा ने उस सेमीफाइनल मुकाबले में 59 गेंद पर 77 रनों की पारी खेली थी, लेकिन टीम जीत नहीं सकी थी। जडेजा ने वर्ल्ड कप के उस दिन फोटो पोस्ट करते हुए, उस दिन को अपनी लाइफ का दुखद दिनों में से एक बताया है।

न्यूजीलैंड टीम ने 50 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 239 रन बनाए थे, एक पल तो ये लगा रहा था कि भारतीय टीम इस मुकाबले को आसानी से जीत लेगी। बारिश की वजह से टीम को रिजर्व डे पर बल्लेबाजी करने का मौका मिल गया। केएल राहुल, रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली तीनों एक-एक रन बनाकर आउट हुए थे।

भारतीय टीम ने 5 रनों पर तीन विकेट गंवा दिए थे। टीम के 24 रनों तक चार विकेट गिर गए थे। ऋषभ पंत (32), हार्दिक पांड्या (32), धौनी और जडेजा ने मिलकर भारत की वापसी मैच में करवाई थी, धौनी के रनआउट होने के बाद टीम इंडिया की जीत की उम्मीदें खत्म हो गई थीं।

जडेजा ने उस दिन की मैच की फोटो अपने इंस्टाग्राम पर शेयर करते हुए लिखा, ‘हमने पूरी कोशिश की, वही कभी-कभी कमी रह जाती है। सबसे दुखद दिनों में से एक। महेंद्र सिंह धौनी के इंटरनेशनल मैच खेले हुए एक साल हो चुके हैं। इस मैच में धौनी 72 गेंद पर 50 रन बनाकर रनआउट हुए थे। इस मैच के बाद से चर्चा शुरू हो गई कि धौनी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा बोल देंगे, हालांकि धौनी ने इसको लेकर कोई बयान नहीं दिया है।

 

Continue Reading

Trending