Connect with us

खेल

डा.आनन्देश्वर पाण्डेय की अपील-सभी विधायक भी करे गरीब व मजदूरों की मदद

Published

on

लखनऊ। कोरोना वायरस के निपटने के लिए सहारनपुर नगर के विधायक संजय गर्ग (उपाध्यक्ष, यूपी ओलंपिक एसोसिएशन) ने अनूठी पहल करते हुए शहर में सेनेटाइजर्स व मास्क की आवश्यकताओं की आपूर्ति के लिए अपनी विधायक निधि से दिए जाने का प्रस्ताव रखा है।विधायक संजय गर्ग ने जिलाधिकारी सहारनपुर को लिखे पत्र में कहा कि जिले में कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए मै दस लाख की राशि का प्रस्ताव रखता हूं।

सहारनपुर नगर विधायक ने सेनेटाइजर्स-मास्क की खरीद के लिए विधायक निधि से दिए दस लाख  

इससे सेनेटाइजर्स, मास्क व अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध करायी जाए। अतः आप इस धनराशि को स्वीकृत कर व्यय करने का कष्ट करें।इसको देखते हुए डा.आनन्देश्वर पाण्डेय (महासचिव, यूपी ओलंपिक एसोसिएशन) ने भी अपील की कि सभी विधायक भी उनका अनुसरण करते हुए अपनी विधायक निधि इस्तेमाल करे। उन्होंने अपील की कि विधायकगण जिलें में जरूरतमद रेहड़ी वाले व अन्य गरीब व मजदूरों की भी मदद करेे।
READ  न्यूजीलैंड दौरे के लिए टीम इंडिया का ऐलान, धवन की जगह इस खिलाड़ी को मिली जगह
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खेल

रोहित शर्मा ने रिकी पोंटिंग का बताया पसंदीदा कोच, रवि शास्त्री का नाम नही लिया

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय टीम के लिमिटेड ओवर क्रिकेट के उप-कप्तान और आईपीएल में मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने अपने पसंदीदा कोच के नाम के बारे खुलासा किया है। रोहित ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग की जमकर तारीफ की है। रोहित ने रिकी पोंटिंग की कोचिंग और कप्तानी दोनों में ही खेल चुके हैं। केविन पीटरसन के साथ लाइव चैट के दौरान रोहित  ने पोंटिंग के लिए कहा कि वो एकदम मैजिक जैसे थे।

साल 2013 में रिकी पोंटिंग ने एकदम से ही मुंबई इंडियंस की कप्तानी छोड़ दी थी, सीजन के बीच में ही पोटिंग के कप्तानी पद छोड़ने के बाद रोहित शर्मा को टीम की कमान दे दी गई थी।

रोहित ने पीटरसन के साथ लाइव चैट के दौरान कहा, “ बहुत मुश्किल है किसी एक का चयन कर पाना, हर किसी में कुछ ना कुछ अच्छी बात होती है। रिकी पोंटिंग लेकिन मैजिक थे। जब वो कप्तान थे, तो जिस तरह से उन्होंने टीम को हैंडल किया था और कप्तानी मुझे दे दी थी, इसके लिए काफी हिम्मत होनी चाहिए।’

2013 में रिकी पोंटिंग ने अचानक ही मुंबई इंडियंस की कप्तानी छोड़ दी थी, सीजन के बीच में ही पोटिंग के कप्तानी पद छोड़ने के बाद रोहित शर्मा को टीम की कमान सौंपी गई थी। रोहित ने पीटरसन के साथ लाइव चैट के दौरान कहा, ‘बहुत मुश्किल है किसी एक का चयन कर पाना, हर किसी में कुछ ना कुछ खास बात रही है। रिकी पोंटिंग लेकिन मैजिक थे। जब वो कप्तान थे, तो जिस तरह से उन्होंने टीम को हैंडल किया था और कप्तानी मुझे दे दी थी, इसके लिए बहुत हिम्मत चाहिए होती है।’

READ  ICC टी-20 विश्व कप 2020 का शेड्यूल जारी, भारत को मिला मुश्किल ग्रुप, पहले मैच में इस टीम से होगी भिड़ंत

उन्होंने कहा, “ उसके बाद भी वो जिस तरह से टीम से सपोर्ट स्टाफ मेंबर के रूप में जुड़े रहकर युवा क्रिकेटरों और मुझे प्रेरित करते रहे वो सच्चा में लाजवाब था। मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है। वो एकदम अलग तरह के इंसान हैं।’ सात साल में रोहित शर्मा की कप्तानी में मुंबई इंडियंस ने चार बार आईपीएल खिताब जीते हैं। रोहित ने 188 आईपीएल मैचों में कुल 4898 रन बनाए हैं।

 

 

Continue Reading

खेल

पैट कमिंस टिम पेन की कप्तानी में खेलकर खुश, लेकिन कप्तान बनने पर ध्यान नही

Published

on

मेलबर्न। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम की टेस्ट टीम में आने वाले टाइम में कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं। पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ अब फिर से कप्तान बनने के लिए सक्षम है। मौजूदा टाइम में टिम पेन ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान हैं। पेन ने ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस को भविष्य के टेस्ट कप्तान का उम्मीदवार बताया है।

जिसको लेकर यह तेज गेंदबाज काफी खुश नज़र आ रहे है। पेन 35 साल के हैं और आने वाले कुछ टाइम में वे संन्यास का ऐलान कर सकते हैं, ऐसे में ऑस्ट्रेलियाई टीम के टेस्ट कप्तान को लेकर लगातार चर्चा हो रही हैं। पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ के कप्तानी करने पर लगाया गया प्रतिबंध अब खत्म हो चुका है। दक्षिण अफ्रीका में बॉल टेम्परिंग के मामले में स्मिथ पर प्लेयर के तौर पर एक साल का और कप्तानी नहीं करने के लिए दो साल का प्रतिबंध लगा था, जो पिछले महीने खत्म हो गया।

पेन ने कप्तानी के लिए स्मिथ, कमिंस, ट्रैविस हेड, एलेक्स कैरी और मार्नस लाबूशेन को दावेदार बताया था। पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क भी कमिंस के नाम की पैरवी कर चुके हैं। कमिंस ने कहा, “ यह सुनकर अच्छा लगा। मुझे पेन के साथ उप-कप्तानी करके अच्छा लग रहा है। वो जीनियस है।’ उन्होंने कहा, “ मैं पहले भी कह चुका हूं कि अभी कप्तानी की बात करना ठीक नहीं  होगा जब पेन और एरन फिंच अपना काम बखूबी कर रहे हैं। इस तरह की बातें अब करना बेमानी होगी।’

READ  कपिल देव ने सीएसी से दिया इस्तीफा, कारणों का नहीं किया खुलासा
Continue Reading

खेल

भारत के लिए ओलंपिक गोल्ड मैडल नहीं जीत लेती, हार नहीं मानूंगी – मैरी कॉम

Published

on

नई दिल्ली। भारत की शीर्ष महिला मुक्केबाज और छह बार की वर्ल्ड चैंपियन रही चैंपियन एमसी मैरी कॉम ने ओलंपिक में भारत के लिए कांस्य पदक जीता है। लंदन ओलंपिक में भारत के लिए मैरी कॉम ने कामयाबी मिली थी। एमसी मैरी कॉम ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज बनीं। अब मैरी ने कहा है कि वो भारत के लिए ओलंपिक गोल्ड जीतना चाहती हैं।

2

 

वर्ल्ड चैंपियन मुक्केबाज मैरी कॉम ने बुधवार को कहा कि ओलंपिक में देश के लिए पदक जीतना उनका सपना है। उन्होंने कहा कि, वह अपने इस सपने को पूरा करने के बाद ही दम लेंगी। जब तक वह अपने इस लक्ष्य को हासिल करने में कामयाब नहीं हो पाती है तब तक अपना बेस्ट देने के लिए मुक्केबाजी करती रहेंगी।

2012 में हुए लंदन ओलंपिक में पहली बार महिला मुक्केबाजी को शामिल किया गया था। मैरी कॉम ने 51 किग्रा वर्ग में भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। इसके बाद साल 2016 में हुए रियो ओलंपिक के लिए वह क्वालीफाई नहीं कर पाई थी। दुनिया की सबसे जुझारू महिला मुक्केबाज मैरी ने 2020 (अब 2021 में होगा आयोजन) के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है और ओलंपिक टिकट भी हासिल किया।

जॉर्डन में पिछले महीने हुए एशिया ओसिनिया बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालीफायर में मैरी ने अच्छे खेल के दम पर टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल किया था। हालांकि, कोरोना वायरस के खतरे की वजह से इस साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक को एक साल के लिए टाल कर दिया गया।

उन्होंने आगे कहा, “ विश्व चैंपियनशिप या फिर ओलंपिक इसमें जगह बनाने के लिए मेरे पास कोई सीक्रेट फार्मुला नहीं है। मैं हमेशा कड़ी मेहनत और लगातार संघर्ष करती रहूंगी। मैं हार तब तक नहीं मानने वाली जब तक मैं ओलंपिक में गोल्ड मेडल नहीं जीत लूंगी।”

READ  आईपीएल : डकवर्थ लुईस नियम से पंजाब ने कोलकाता को नौ विकेट से दी करारी मात

मैरी कॉम ने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के लिए फेसबुक लाइव पर अपना दिल की बात बताई। उन्होंने कहा, ” मेरा ध्यान ओलंपिक में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतना है। इतनी उम्र होने के बाद भी मैं अब तक कड़ी मेहनत कर रही हूं। सबसे पहले तो मेरे लिए ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना काफी कठिन था, जिसे अब अगले साल तक के लिए टालने का निर्णय लिया गया है।”

Continue Reading

Trending