Home खेल 37 साल पहले आज ही के दिन भारत बनी थी वर्ल्ड कप...

37 साल पहले आज ही के दिन भारत बनी थी वर्ल्ड कप विजेता

नई दिल्ली। आज ही के दिन 37 साल पहले यानी कि 25 जून 1983 को भारत ने एक इतिहास रचा था। ये ऐसा इतिहास था जिसने भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल दिया था। इंग्लैंड में खेल गए 1983 के इस वर्ल्ड कप  में जब भारत की टीम रवाना हुई तो उसे अंडरडॉग माना गया था। किसी को मालूम नहीं था कि वर्ल्ड कप में भारतीय टीम फाइनल तक भी पहुंच पाएगी। कपिल देव के नेतृत्व वाली भारतीय टीम धीरे-धीरे आगे बढ़ती रही। उनसे किसी को अच्छा की उम्मीद नहीं थी। यही बात शायद टीम के हित में थी।

इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान में हुए इस फाइनल मैच में भारत 183 रनों पर ऑलआउट हो गई थी. दिग्गजों से सजी वेस्टइंडीज की टीम को लॉर्डस में 43 रनों से हराकर पूरी दुनिया को भारतीय टीम ने हैरान कर दिया था। वह 25 जून का ही दिन था। कपिल देव की नेतृत्व वाली टीम ने 183 रन पर सिमटने के बावजूद दो बार की चैम्पियन वेस्टइंडीज को 140 रन पर ऑलआउट कर दिया था

भारत की फाइनल में प्लेइंग इलेवन में सुनील गावस्कर, कृष्णामाचारी श्रीकांत, मोहिंदर अमरनाथ यशपाल शर्मा, संदीप पाटिल, कपिल देव, कीर्ति आजाद, रोजर बिन्नी, मदन लाल, सैयद किरमानी व बलविंद्र संधू।

लॉर्ड्स में खेले गए इस फाइनल मैच में दोनों टीम के केवल 2 बल्लेबाज ही 30+ रन बना पाए थे। भारत के सलामी बल्लेबाज़ कृष्णामाचारी श्रीकांत ने मैच में सर्वाधिक 38 रनों की पारी खेली थी, जबकि वेस्टइंडीज के स्टार बल्लेबाज सर विवियन रिचर्ड्स ने 33 रनों की तूफानी पारी खेली थी। श्रीकांत व रिचर्ड्स दोनों ने ही मैच में 7-7 चौके भी लगाए थे। इस मैच में सुनील गावस्कर (2), श्रीकांत (38), मोहिंदर अमरनाथ (26), शपाल शर्मा (11), संदीप पाटिल (27), कपिल देव (15), कीर्ति आजाद (0), रोजर बिन्नी (02), मदन लाल (17), सैयद किरमानी (14), बलविंदर संधू (11) रन बनाए थे।

वहीं, इस मैच में भारतीय क्रिकेट टीम की तरफ से गेंदबाजी करते हुए कपिल देव ने 11 ओवर में 21 रन देकर एक विकेट लिया था। इस दौरान उन्होंने 4 मेडन ओवर फेंके थे। संधू ने 9 ओवर में 32 रन देकर 2 विकेट झटके थे। मदनलाल ने 12 ओवर में 31 रन देकर 3 विकेट लिए थे। बिन्नी ने 10 ओवर में 23 रन देकर एक विकेट और अमरनाथ ने 7 ओवर में 12 रन देकर 3 विकेट झटके थे। वर्ल्डकप फाइनल में ऑल राउंडर प्रदर्शन करने वाले मोहिंदर अमरनाथ को ‘मैन ऑफ द मैच’  हुए थे।

पहला वर्ल्ड कप 1975 में खेला गया था। वेस्टइंडीज दो बार वर्ल्ड कप जीता था, लेकिन कपिल देव ने तीसरी बात खिताब जीतने का उनका सपना चूर-चूर कर दिया। इसके 28 साल बाद महेंद्र सिंह धौनी ने 2011 में दोबारा भारत को विश्व कप जितवाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

रक्षाबंधन के दिन युवक ने फांसी लगाकर हमेशा के लिए छिन लीं बहनों की खुशियां

वाराणसी । रक्षाबंधन पर्व पर सोमवार को एक युवक ने फांसी लगाकर अपनी बहनों और परिजनों की खुशियों को हमेशा के लिए छिन लिया।...

श्रीराम मंदिर भूमि पूजन : इकबाल अंसारी को दिया गया आमंत्रण

अयोध्या । श्रीराम जन्मभूमि के भूमि पूजन में पंचांग पूजा और गणेश पूजा की रस्में आज से शुरू हो गईं है, इसके साथ ही...

माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक ख़रीदने को उत्सुक, बातचीत जारी

लॉस एंजेल्स । माइक्रोसॉफ्ट ने चीनी बाइटडाँस की टिकटाक ख़रीदने के लिए अपनी कोशिशें बंद नहीं की है। माइक्रोसॉफ्ट ने रविवार को पहली बार...

बर्थडे स्पेशल: आज है ‘मशहूर गुलाटी’ के नाम से मशहूर कॉमेडियन सुनील ग्रोवर का जन्मदिन

मुंबई । मशहूर गुलाटी और गुत्थी के नाम से मशहूर कॉमेडियन सुनील ग्रोवर कल यानी 3 अगस्त को अपना 43 वां जन्मदिन मना रहें...